बेंगलुरु के कन्नड़-माध्यम स्कूल में बंगाली भाषी छात्रों की जुबानी, ओझल होते द्वीपों से जलवायु-परिवर्तन शरणार्थियों की कहानी

  बेंगलुरु (कर्नाटक) और मौसुनी (पश्चिम बंगाल): दो साल पहले, जब 43 वर्षीय थियेटर निर्देशक निमी रवींद्रन को एक पब्लिक स्कूल में छात्रों को नाटक सिखाने के लिए अनुदान मिला था तो उन्हें लगा था कि उन बच्चों से संवाद के लिए स्थानीय भाषा कन्नड़ होगी। लेकिन उन्होंने पाया कि बेंगलुरु के मारथाहल्ली इलाके में … Continued

टीबी का सामना करते केरल की कैसे हो रही है जीत ?

  कोल्लम, पठानमथिट्टा, इडुक्की (केरल): कोल्लम शहर में अगथी मंदिरम (गरीब लोगों का घर) भिखारियों को आश्रय प्रदान करने के लिए आजादी के बाद बनाया गया था। आज, इसके 123 निवासियों में से ज्यादातर मानसिक या शारीरिक अक्षमता वाले बेघर लोग हैं, जिन्हें सड़कों पर घूमते पाए जाने के बाद यहां लाया जाता है।   … Continued