भारत के शहरों का 70% सीवेज अनुपचारित

  वर्ष 2019 तक सरकार का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना कि देश का हर नागरिक शौचालय का उपयोग करे एवं देश को खुले में शौच से मुक्त बनाना है। इस लक्ष्य को प्राप्त करने में अभी चार वर्ष का समय बाकी है लेकिन सिर्फ शहरी भारत में 377 मिलियन लोगों द्वारा उत्पन्न गंदे पानी (सीवेज) … Continued

कम हो रहा है कुपोषण लेकिन अल्पपोषितों की संख्या है अधिक

  भारत में 2006 से 2014 के दौरान, पांच साल से कम उम्र के अविकसित (कम कद के) बच्चों की दर 48 फीसदी से गिरकर 39 फीसदी हो गई है। कम वज़न वाले बच्चों की संख्या में 35 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। लेकिन भारत में अब भी अविकसित बच्चों की संख्या 40 … Continued

मोटापा और समृद्धि : भारत में कुपोषण का नया चेहरा

  एक नए भारतीय अध्ययन के मुताबिक लोगों की बढ़ती कमर की चौड़ाई से कुपोषण के खिलाफ भारत की लड़ाई में भी विस्तार हो रहा है। इसका मुख्य कारण बिगड़ती जीवनशैली है।   ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि अस्थाई वृद्धि के साथ भारत एक हारी हुई लड़ाई लड़ रहा है जोकि दुनिया में तीसरा … Continued

क्यों होती हैं महिलाएं अपनी जान लेने पर मजबूर

शादी के दो साल के बाद भानू ( बाएं ) ने नींद की गोली खा कर जान देने की कोशिश की थी। कीर्ति भारती (दाएं) , मनोवैज्ञानिक, ने भानू को इस समस्या से बाहर निकलने में मदद की। भानू के दादा ने दो लाख रुपए के बदले में 55 साल के रामचंद्र से भानू की … Continued

क्यों है कुपोषण भारत के लिए चुनौती

  पिछले कुछ सालों में देश में कुपोषण कम हुआ है। लेकिन अब भी इसमें काफी सुधार की आवश्यकता है। कुपोषण के मामले में भारत ब्राज़ील से 27 फीसदी, चीन से 26 फीसदी एवं साउथ अफ्रीका से 21 फीसदी पीछे है।   शहर के मुकाबले ग्रामीण इलाकों में कुपोषण के शिकार बच्चों की संख्या में … Continued

44,000 मकान रोज़ बनाने की राह में समस्याएं

Taken at Latitude/Longitude:18.974896/72.844679. km (Map link)   प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरु किए गए “2022 तक सबके लिए आवास” योजना को समाप्त होने में केवल सात वर्ष रह गए हैं। इस योजना के तहत शहरी गरीबों एवं झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले लोगों को कम ब्याज दर पर सस्ते मकान उपलब्ध कराए जाएंगें। इस योजना का … Continued

कम नहीं हो पा रहा अल्पपोषण- पांच साल में आंकड़े बढ़े

(मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में कुपोषित बच्चे की जांच करती स्वास्थ्य कर्मचारी)  

भारत के किसानों का भविष्य अत्यंत कठिन दौर में –शोध रिपोर्ट्स

  बे मौसम बरसात और असंतुलित मौसम की करवटों नें भारत के कृषक वर्ग की कमर तोड़ दी है | और देश की कृषि , अर्थशास्त्र और राजनीति अपनी चूल से बिखर गयी सी    लगती है –मध्य- भारत , जो कि भारत में मानसून का केंद्रीय महत्व का क्षेत्र है –में अति बरसात में वृद्धि … Continued

एक किसान के लिए जीवन संकट- और भारत की कृषि त्रासदी

उत्तर प्रदेश के राजवाड़ा गाँव के रहने वाले रामलाल, 35, भारत की उच्च कृषि और माध्यम वर्ग से होने के बावजूद, भारत में बढ़ती मानसून की अनिश्चितता से बच नहीं सके | उनके गेहूं के खेत बर्बाद हो गए गए हैं और सरकार से मिलने वाली राहत उनके नुकसान का 13 प्रतिशत भी नहीं है … Continued

इंडिया की सिलिकॉन वैली : बैंगलोर का वायु प्रदूषण – भारत के भविष्य की अशुभ पूर्व चेतावनी

  इस स्टोरी को लिखते समय– 10 अप्रैल 2015 को हमने भारत के 10 सबसे प्रदूषित शहरों में से– एक, बंगलुरु का बी0टी0एम0 लेआउट इलाका– जहां हाल में नेशनल एयर क्वालिटी इंडेक्स लगाया गया है– के बीच पाया | उक्त इलाका आधुनिक रेस्त्रां, निर्मित होते आवासीय भवन , ऑफिस टावर्स और सुंदर चमकती सड़क और … Continued