कैसे असम अपनी नदियों के जरिए जमीन, जीवन और आजीविका खो रहा है?

मुंबई: जुलाई 2019 के महीने में, असम में बाढ़ ने 81 लोगों की जान ले ली और 50,470 लोग विस्थापित हुए। राज्य में नदियों का विशाल नेटवर्क हर साल घाटियों में बाढ़ लाता है, जिससे औसतन 200 करोड़ रुपये का वार्षिक नुकसान होता है। बाढ़ कम होने के बाद भी, राज्य अपनी नदियों के कारण भूमि और आजीविका खोना जारी रखेगा, कैसे इसे हम बताते हैं।

असम लगभग पूरी तरह से नदी घाटियों में बसा है। असम का भौगोलिक क्षेत्र 78,438 वर्ग किमी है, जिसमें से 56,194 वर्ग किमी ब्रह्मपुत्र घाटी से आच्छादित है। दो पहाड़ी जिलों के साथ,बराक नदी घाटी राज्य का शेष 22,244 वर्ग किमी बनाती है।

दो नदियों, 48 प्रमुख सहायक नदियां और कई सहायक नदियां इसकी घाटियों में बहने के साथ, असम का नदी नेटवर्क राज्य के बाढ़-ग्रस्त क्षेत्र का लगभग 40 फीसदी हिस्सा छोड़ देता है।

हालांकि, असम की सबसे लंबी नदी, ब्रह्मपुत्र, अपने किनारों को नष्ट करके अधिक जमीन हड़प रही है। 1912-28 के वर्षों में जब पहली बार इसका सर्वेक्षण किया गया था, तो नदी 3,870 वर्ग किमी के क्षेत्र को कवर कर रही थी।

यह क्षेत्र वर्ष 2006 तक 57 फीसदी बढ़कर 6,080 वर्ग किमी हो गया। नदी औसतन 5.46 किमी चौड़ी है, लेकिन कटाव के माध्यम से कुछ स्थानों पर 15 किमी तक चौड़ी हो गई है।

भूमि और आजीविका का नाश

अपने किनारों को छोड़कर बहने के कारण ब्रह्मपुत्र और उसकी सहायक नदियों ने गांव के गांव को तबाह कर दिया है। 2010 और 2015 के बीच, 880 गांव पूरी तरह से खत्म हो गए थे, 67 गांव आंशिक रूप से नष्ट हो गए थे, और इस पांच साल की अवधि के दौरान 36,981 परिवारों ने कटाव कारण अपने घर खो दिए।

घरों के अलावा, असम के लोग खेत भी खो रहे हैं। 1954 के बाद से, 3,800 वर्ग किमी खेत (गोवा से बड़ा क्षेत्र) कटाव का शिकार हो गया है।

राज्य में भूमि एक महत्वपूर्ण संसाधन है, क्योंकि असम की 75 फीसदी से अधिक आबादी किसानों, खेतिहर मजदूरों या दोनों के रूप में उनकी आजीविका के लिए कृषि पर निर्भर करती है। भूमि के नुकसान का मतलब आमतौर पर उनकी आजीविका का नुकसान होता है।

असम में 85 फीसदी से अधिक किसान परिवारों को छोटे या सीमांत किसानों के रूप में वर्गीकृत करने के साथ ( औसतन सिर्फ 0.63 हेक्टेयर के मालिक या सबसे छोटे फुटबॉल मैदान के आकार ) बहुतों को अपनी सारी भूमि पर कटाव का खतरा है।

तलछट से ज्यादा कटाव

ब्रह्मपुत्र बोर्ड की वार्षिक रिपोर्ट में कहा गया है कि, 1988 और 2015 के बीच, नदी ने अपने तटों पर भूमि निगल ली थी। हालांकि, ब्रह्मपुत्र के तट पर 208 वर्ग किमी (20,800 हेक्टेयर) भूमि निक्षेपित की गई थी, लेकिन तीन से अधिक बार यह कटा था।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि नदी द्वारा जमा की गई भूमि का उपयोग खेती के लिए किया जा सकता है, जो कि आम तौर पर बहुवर्षीय प्रक्रिया के बाद हो सकती है। इसका मतलब यह है कि एक साल में खोई हुई कृषि योग्य भूमि को वापस पाने में कई साल लगेंगे।

इस बीच, राज्य में हर साल नदी में 8,000 हेक्टेयर भूमि गायब हो जाना जारी है। असम के जल संसाधन विभाग के अनुसार, 1950 के बाद से, ब्रह्मपुत्र और उसकी सहायक नदियों के लिए कुल 427,000 हेक्टेयर भूमि खो गई है। यह राज्य के कुल भूमि क्षेत्र का 7.4 फीसदी है।

कोई दीर्घकालिक समाधान नहीं

आज तक, असम के जल संसाधन विभाग ने राज्य की क्षरण समस्याओं से निपटने के लिए कोई दीर्घकालिक उपाय लागू नहीं किया है।इसने बाढ़ के प्रबंधन, तात्कालिक और अल्पकालिक उपायों, जैसे कि जैसे तटबंधों का निर्माण को लागू करने पर ध्यान केंद्रित किया है।

विभाग ने 4,473 किमी नए तटबंधों का निर्माण किया है और अब तक 655 किमी तटबंधों को मजबूत किया है। विभाग के अनुसार, हालांकि, किनारों के कटाव के कारण तटबंध आमतौर पर टूट गए हैं।

जोखिम में ज्यादा लोग

ब्रह्मपुत्र नदी घाटी में बसे लोगों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। 1940-41 में, असम के विभिन्न जिलों में घाटी का जनसंख्या घनत्व 9 से 29 व्यक्ति / वर्ग किमी था।बाढ़-ग्रस्त घाटी का जनसंख्या घनत्व तब से 200 व्यक्तियों / वर्ग किमी तक बढ़ गया है, जिससे बड़ी संख्या में लोग नदियों की दया पर जीवित हैं।

(अहमद केंट विश्वविद्यालय से आर्किटेक्चर में ग्रैजुएट हैं और इंडियास्पेंड में इंटर्न हैं।)

 यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 01 अगस्त 2019 को IndiaSpend.com पर प्रकाशित हुआ है।

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं।

मुंबई: जुलाई 2019 के महीने में, असम में बाढ़ ने 81 लोगों की जान ले ली और 50,470 लोग विस्थापित हुए। राज्य में नदियों का विशाल नेटवर्क हर साल घाटियों में बाढ़ लाता है, जिससे औसतन 200 करोड़ रुपये का वार्षिक नुकसान होता है। बाढ़ कम होने के बाद भी, राज्य अपनी नदियों के कारण भूमि और आजीविका खोना जारी रखेगा, कैसे इसे हम बताते हैं।

असम लगभग पूरी तरह से नदी घाटियों में बसा है। असम का भौगोलिक क्षेत्र 78,438 वर्ग किमी है, जिसमें से 56,194 वर्ग किमी ब्रह्मपुत्र घाटी से आच्छादित है। दो पहाड़ी जिलों के साथ,बराक नदी घाटी राज्य का शेष 22,244 वर्ग किमी बनाती है।

दो नदियों, 48 प्रमुख सहायक नदियां और कई सहायक नदियां इसकी घाटियों में बहने के साथ, असम का नदी नेटवर्क राज्य के बाढ़-ग्रस्त क्षेत्र का लगभग 40 फीसदी हिस्सा छोड़ देता है।

हालांकि, असम की सबसे लंबी नदी, ब्रह्मपुत्र, अपने किनारों को नष्ट करके अधिक जमीन हड़प रही है। 1912-28 के वर्षों में जब पहली बार इसका सर्वेक्षण किया गया था, तो नदी 3,870 वर्ग किमी के क्षेत्र को कवर कर रही थी।

यह क्षेत्र वर्ष 2006 तक 57 फीसदी बढ़कर 6,080 वर्ग किमी हो गया। नदी औसतन 5.46 किमी चौड़ी है, लेकिन कटाव के माध्यम से कुछ स्थानों पर 15 किमी तक चौड़ी हो गई है।

भूमि और आजीविका का नाश

अपने किनारों को छोड़कर बहने के कारण ब्रह्मपुत्र और उसकी सहायक नदियों ने गांव के गांव को तबाह कर दिया है। 2010 और 2015 के बीच, 880 गांव पूरी तरह से खत्म हो गए थे, 67 गांव आंशिक रूप से नष्ट हो गए थे, और इस पांच साल की अवधि के दौरान 36,981 परिवारों ने कटाव कारण अपने घर खो दिए।

घरों के अलावा, असम के लोग खेत भी खो रहे हैं। 1954 के बाद से, 3,800 वर्ग किमी खेत (गोवा से बड़ा क्षेत्र) कटाव का शिकार हो गया है।

राज्य में भूमि एक महत्वपूर्ण संसाधन है, क्योंकि असम की 75 फीसदी से अधिक आबादी किसानों, खेतिहर मजदूरों या दोनों के रूप में उनकी आजीविका के लिए कृषि पर निर्भर करती है। भूमि के नुकसान का मतलब आमतौर पर उनकी आजीविका का नुकसान होता है।

असम में 85 फीसदी से अधिक किसान परिवारों को छोटे या सीमांत किसानों के रूप में वर्गीकृत करने के साथ ( औसतन सिर्फ 0.63 हेक्टेयर के मालिक या सबसे छोटे फुटबॉल मैदान के आकार ) बहुतों को अपनी सारी भूमि पर कटाव का खतरा है।

तलछट से ज्यादा कटाव

ब्रह्मपुत्र बोर्ड की वार्षिक रिपोर्ट में कहा गया है कि, 1988 और 2015 के बीच, नदी ने अपने तटों पर भूमि निगल ली थी। हालांकि, ब्रह्मपुत्र के तट पर 208 वर्ग किमी (20,800 हेक्टेयर) भूमि निक्षेपित की गई थी, लेकिन तीन से अधिक बार यह कटा था।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि नदी द्वारा जमा की गई भूमि का उपयोग खेती के लिए किया जा सकता है, जो कि आम तौर पर बहुवर्षीय प्रक्रिया के बाद हो सकती है। इसका मतलब यह है कि एक साल में खोई हुई कृषि योग्य भूमि को वापस पाने में कई साल लगेंगे।

इस बीच, राज्य में हर साल नदी में 8,000 हेक्टेयर भूमि गायब हो जाना जारी है। असम के जल संसाधन विभाग के अनुसार, 1950 के बाद से, ब्रह्मपुत्र और उसकी सहायक नदियों के लिए कुल 427,000 हेक्टेयर भूमि खो गई है। यह राज्य के कुल भूमि क्षेत्र का 7.4 फीसदी है।

कोई दीर्घकालिक समाधान नहीं

आज तक, असम के जल संसाधन विभाग ने राज्य की क्षरण समस्याओं से निपटने के लिए कोई दीर्घकालिक उपाय लागू नहीं किया है।इसने बाढ़ के प्रबंधन, तात्कालिक और अल्पकालिक उपायों, जैसे कि जैसे तटबंधों का निर्माण को लागू करने पर ध्यान केंद्रित किया है।

विभाग ने 4,473 किमी नए तटबंधों का निर्माण किया है और अब तक 655 किमी तटबंधों को मजबूत किया है। विभाग के अनुसार, हालांकि, किनारों के कटाव के कारण तटबंध आमतौर पर टूट गए हैं।

जोखिम में ज्यादा लोग

ब्रह्मपुत्र नदी घाटी में बसे लोगों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। 1940-41 में, असम के विभिन्न जिलों में घाटी का जनसंख्या घनत्व 9 से 29 व्यक्ति / वर्ग किमी था।बाढ़-ग्रस्त घाटी का जनसंख्या घनत्व तब से 200 व्यक्तियों / वर्ग किमी तक बढ़ गया है, जिससे बड़ी संख्या में लोग नदियों की दया पर जीवित हैं।

(अहमद केंट विश्वविद्यालय से आर्किटेक्चर में ग्रैजुएट हैं और इंडियास्पेंड में इंटर्न हैं।)

 यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 01 अगस्त 2019 को IndiaSpend.com पर प्रकाशित हुआ है।

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं।