क्षेत्रीय-पार्टी शासन से राजनीतिक हिंसा बढ़ती है: एक अध्ययन

रॉटरडैम और कैलगरी: एक क्षेत्रीय पार्टी के उम्मीदवार का चुनाव उसके गृह क्षेत्र में हिंसा के स्तर में 7.2 प्रतिशत की वृद्धि करता है। यह जानकारी एक नए अध्ययन में सामने आई है। 

हमारे विश्लेषण के अनुसार, क्षेत्रीय पार्टी अगर सत्ता में आती है तो हिंसक घटनाओं में 9.9 फीसदी और हिंसक मौतों में 13.4 फीसदी की वृद्धि होती है। हमने और हमारे साथी- अर्थशास्त्र के एक एसोसिएट प्रोफेसर ने एक क्षेत्रीय-पार्टी के प्रतिनिधि के चुनाव और राजनीतिक हिंसा के बीच संबंधों का अध्ययन किया है। हमने उन दलों को क्षेत्रीय दलों के रूप में परिभाषित किया है जिन्हें आधिकारिक तौर पर भारत के चुनाव आयोग द्वारा "राज्य दलों" के रूप में मान्यता प्राप्त है और उन्होंने भौगोलिक रूप से केंद्रित क्षेत्र में चुनावी सफलता का अनुभव किया है।

हमारे अध्ययन की अवधि के दौरान 74 क्षेत्रीय दल सक्रिय थे। इनमें से कुछ थे, असोम गण परिषद, ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके), बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट, जम्मू एंड कश्मीर नेशनल कॉन्फ्रेंस, नागा पीपुल्स फ्रंट और तेलुगु देशम पार्टी ।

अध्ययन में, 1988 और 2011 के बीच विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र स्तर के चुनाव के आंकड़ों और 1989 और 2015 के बीच राजनीतिक हिंसा की घटनाओं को देखा गया है।

क्षेत्रीय राजनीतिक दल भारतीय लोकतंत्र की एक महत्वपूर्ण विशेषता हैं। ऐसे कई राज्य हैं, जहां सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) या कांग्रेस जैसे राष्ट्रीय दलों की उपस्थिति सीमांत है या जहां वे प्रमुख क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन पर बहुत अधिक निर्भर हैं। उदाहरण के लिए, तमिलनाडु में, बीजेपी और कांग्रेस क्षेत्रीय पार्टी एआईएडीएमके और द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के नेतृत्व वाले गठबंधनों में एक द्वितीयक भूमिका निभाते हैं, जो 1967 से सत्ता में हैं।

सिद्धांत में, क्षेत्रीय दल, कम से कम राष्ट्रीय पार्टियों के सापेक्ष में, सरकार को लोगों तक पहुंचाने के लिए बेहतर हो सकते हैं। वे आम तौर पर एक ऐसे मंच पर चुनाव लड़ते हैं, जो विशेष तौर पर भौगोलिक रूप से केंद्रित आबादी के लिए अपील करता है, जो आमतौर पर भाषा, जातीयता, या "राष्ट्रीयता" जैसे कुछ आयामों की पहचान करता है।

लेकिन हमने पाया कि, क्षेत्रवाद राजनीति के लिए एक कीमत चुकानी पड़ती है।

कई क्षेत्रीय पार्टियां क्षेत्रीय आंदोलनों से पैदा होती हैं, जो स्थानीय आबादी के लिए अधिक स्वायत्तता की मांग करती हैं। वे चरम और हिंसक संगठनों के सहोदर हैं, जो एक ही क्षेत्रीय आंदोलनों से पैदा हुए थे। इसलिए, क्षेत्रीय दल अक्सर व्यापक आंदोलन के अधिक चरम क्षेत्रों के साथ एक जटिल और संभावित सहजीवी संबंध बनाए रखते हैं और राजनीतिक समर्थन के चुनाव के समय कट्टरपंथियों की हिंसक गतिविधियों की सुविधा या अनदेखी कर सकते हैं।

चित्र 1 (ए और बी) राष्ट्रीय पार्टियों [1 (ए)] और क्षेत्रीय दलों [1 (बी)] द्वारा जीती गई सीटों के प्रतिशत के खिलाफ हिंसक घटनाओं की औसत संख्या को प्लॉट करता है। चित्र 1 (ए) का तात्पर्य है कि राष्ट्रीय पार्टियों के जीत प्रतिशत में 10 प्रतिशत की वृद्धि राजनीतिक हिंसा में 11.94 फीसदी गिरावट के साथ जुड़ी है। नीचे का आंकड़ा बताता है कि क्षेत्रीय दलों की जीत प्रतिशत में 10 प्रतिशत की वृद्धि राजनीतिक हिंसा में 14.26 फीसदी की वृद्धि के साथ जुड़ी है।

चित्र 1 (ए): राष्ट्रीय दलों के लिए हिंसक घटनाओं और जीत प्रतिशत की संख्या
चित्र 1 (बी): हिंसक घटनाओं की संख्या और क्षेत्रीय दलों की जीत प्रतिशत

चित्र 2 एक क्षेत्रीय राजनीतिक पार्टी के उम्मीदवार के लिए जीत या हार के मार्जिन के खिलाफ हिंसा की औसत घटना को प्लॉट करता है। 0 पर ऊर्ध्वाधर रेखा के दाईं ओर ऐसे मामले हैं जहां एक क्षेत्रीय पार्टी के उम्मीदवार ने विधानसभा सीट जीती। बाईं ओर, जहां एक क्षेत्रीय पार्टी के उम्मीदवार हार गए। यह आंकड़ा बताता है कि जब स्थानीय विधायक क्षेत्रीय राजनीतिक दल से संबंधित होता है, तो हिंसक घटना की औसत घटना बढ़ जाती है।

चित्र 2: राजनीतिक हिंसा पर एक क्षेत्रीय विधायक के चुनाव का प्रभाव

पृथकतावादी कारक

इस राजनीतिक हिंसा में वृद्धि के लिए एक स्पष्टीकरण कई क्षेत्रीय दलों का पृथकतावादी मूल का होना हो सकता है। अध्ययन ने आंकड़ों को उन राज्यों में विभाजित किया, जो हमारे नमूना अवधि के दौरान किसी भी सक्रिय पृथकतावादी आंदोलन की रिपोर्ट नहीं करते थे। पहली श्रेणी में अरुणाचल प्रदेश, असम, जम्मू और कश्मीर, मणिपुर, मिजोरम, नागालैंड, पंजाब और त्रिपुरा जैसे राज्य शामिल थे। तब गुजरात जैसे राज्य थे, जो मुख्य रूप से हिंदू-मुस्लिम संघर्षों का अनुभव करते थे, और आंध्र प्रदेश जैसे राज्य थे जो ज्यादातर विद्रोही नक्सली हिंसा का सामना करते थे।

हमने पाया कि स्थानीय क्षेत्रीय पार्टी शासन से जुड़ी हिंसा में वृद्धि पूरी तरह से राज्यों में पृथकतावादी के कारकों से प्रेरित थी। इससे स्पष्ट है कि एक क्षेत्रीय पार्टी का चुनाव विशेष रूप से पृथकतावादी हिंसा को बढ़ाता है।

हालांकि, इनमें से कई राज्यों में सांप्रदायिक (जातिवादी) हिंसा भी हुई हैं। यह निर्धारित करने के लिए कि क्या बढ़ी हुई हिंसा पृथकतावादी या जातिवाद के कारण थी, हमने आगे हिंसा में शामिल लोगों के अनुसार डेटा को विभाजित किया।

इसके पीछे यह विचार था कि पृथकतावादी हिंसा में विद्रोही और केंद्रीय या राज्य सरकार शामिल होंगी, जबकि स्वसंस्कृति हिंसा में विद्रोहियों और नागरिकों के समूह शामिल होंगे।

हमने पाया कि विद्रोहियों और सरकारी बलों के बीच केवल क्षेत्रीय प्रतिनिधि चुने जाने पर हिंसा बढ़ गई, जो आगे यह पुष्टि करता है कि इन उम्मीदवारों के चुनाव में उतरने से विशेष रूप से पृथकतावादी हिंसा होती है।

हमने यह भी जांच की कि क्या हिंसा का स्तर इस बात पर निर्भर करता है कि क्षेत्रीय पार्टी पूरी तरह से राज्य के संचालन के लिए जिम्मेदार थी या केवल एक गठबंधन का सदस्य था। हमने पाया, वहा हिंसा पूरी तरह से इस बात से से प्रेरित थी, जहां क्षेत्रीय दल एक गवर्निंग गठबंधन का हिस्सा थे। इससे साफ है कि कार्यकारी शक्ति तक अधिक पहुंच इन क्षेत्रीय राजनीतिक दलों से जुड़े हिंसक समूहों को खुश करने का एक साधन हो सकता है।

क्या क्षेत्रीय दलों पर अंकुश लगाया जाना चाहिए?

परिणाम यह नहीं मानते हैं कि क्षेत्रीय दलों को भारत में चुनाव में भाग लेने से प्रतिबंधित किया जाना चाहिए। अध्ययन में उन व्यक्तिगत प्रतिनिधियों के कारण प्रभाव का अनुमान लगाया गया है, जो क्षेत्रीय दलों से संबंधित हैं। उनकी चुनावी भूमिका पर अंकुश लगाने के लिए उन पर प्रतिबंध लगाने के कारण प्रभाव का अनुमान भी लगाना होगा।

इसके अलावा, क्षेत्रीय राजनीतिक दल, सिद्धांत रूप में, उन मतदाताओं पर महत्वपूर्ण लाभ प्रदान कर सकते हैं, जिनका वे प्रतिनिधित्व करते हैं। क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की भूमिका को सीमित करने के बारे में निष्कर्ष निकालने से पहले इन पर और नए सिरे से विचार करने की जरूरत है।

(मगेसन कनाडा के ‘कैलगरी विश्वविद्यालय’ में अर्थशास्त्र के एसोसिएट प्रोफेसर हैं और कपूर नीदरलैंड्स केइरास्मस विश्वविद्यालय’ में अर्थशास्त्र के एसोसिएट प्रोफेसर हैं।)

यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 25 जुलाई 2019 को IndiaSpend.com पर प्रकाशित हुआ है।

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं।

रॉटरडैम और कैलगरी: एक क्षेत्रीय पार्टी के उम्मीदवार का चुनाव उसके गृह क्षेत्र में हिंसा के स्तर में 7.2 प्रतिशत की वृद्धि करता है। यह जानकारी एक नए अध्ययन में सामने आई है। 

हमारे विश्लेषण के अनुसार, क्षेत्रीय पार्टी अगर सत्ता में आती है तो हिंसक घटनाओं में 9.9 फीसदी और हिंसक मौतों में 13.4 फीसदी की वृद्धि होती है। हमने और हमारे साथी- अर्थशास्त्र के एक एसोसिएट प्रोफेसर ने एक क्षेत्रीय-पार्टी के प्रतिनिधि के चुनाव और राजनीतिक हिंसा के बीच संबंधों का अध्ययन किया है। हमने उन दलों को क्षेत्रीय दलों के रूप में परिभाषित किया है जिन्हें आधिकारिक तौर पर भारत के चुनाव आयोग द्वारा "राज्य दलों" के रूप में मान्यता प्राप्त है और उन्होंने भौगोलिक रूप से केंद्रित क्षेत्र में चुनावी सफलता का अनुभव किया है।

हमारे अध्ययन की अवधि के दौरान 74 क्षेत्रीय दल सक्रिय थे। इनमें से कुछ थे, असोम गण परिषद, ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके), बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट, जम्मू एंड कश्मीर नेशनल कॉन्फ्रेंस, नागा पीपुल्स फ्रंट और तेलुगु देशम पार्टी ।

अध्ययन में, 1988 और 2011 के बीच विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र स्तर के चुनाव के आंकड़ों और 1989 और 2015 के बीच राजनीतिक हिंसा की घटनाओं को देखा गया है।

क्षेत्रीय राजनीतिक दल भारतीय लोकतंत्र की एक महत्वपूर्ण विशेषता हैं। ऐसे कई राज्य हैं, जहां सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) या कांग्रेस जैसे राष्ट्रीय दलों की उपस्थिति सीमांत है या जहां वे प्रमुख क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन पर बहुत अधिक निर्भर हैं। उदाहरण के लिए, तमिलनाडु में, बीजेपी और कांग्रेस क्षेत्रीय पार्टी एआईएडीएमके और द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के नेतृत्व वाले गठबंधनों में एक द्वितीयक भूमिका निभाते हैं, जो 1967 से सत्ता में हैं।

सिद्धांत में, क्षेत्रीय दल, कम से कम राष्ट्रीय पार्टियों के सापेक्ष में, सरकार को लोगों तक पहुंचाने के लिए बेहतर हो सकते हैं। वे आम तौर पर एक ऐसे मंच पर चुनाव लड़ते हैं, जो विशेष तौर पर भौगोलिक रूप से केंद्रित आबादी के लिए अपील करता है, जो आमतौर पर भाषा, जातीयता, या "राष्ट्रीयता" जैसे कुछ आयामों की पहचान करता है।

लेकिन हमने पाया कि, क्षेत्रवाद राजनीति के लिए एक कीमत चुकानी पड़ती है।

कई क्षेत्रीय पार्टियां क्षेत्रीय आंदोलनों से पैदा होती हैं, जो स्थानीय आबादी के लिए अधिक स्वायत्तता की मांग करती हैं। वे चरम और हिंसक संगठनों के सहोदर हैं, जो एक ही क्षेत्रीय आंदोलनों से पैदा हुए थे। इसलिए, क्षेत्रीय दल अक्सर व्यापक आंदोलन के अधिक चरम क्षेत्रों के साथ एक जटिल और संभावित सहजीवी संबंध बनाए रखते हैं और राजनीतिक समर्थन के चुनाव के समय कट्टरपंथियों की हिंसक गतिविधियों की सुविधा या अनदेखी कर सकते हैं।

चित्र 1 (ए और बी) राष्ट्रीय पार्टियों [1 (ए)] और क्षेत्रीय दलों [1 (बी)] द्वारा जीती गई सीटों के प्रतिशत के खिलाफ हिंसक घटनाओं की औसत संख्या को प्लॉट करता है। चित्र 1 (ए) का तात्पर्य है कि राष्ट्रीय पार्टियों के जीत प्रतिशत में 10 प्रतिशत की वृद्धि राजनीतिक हिंसा में 11.94 फीसदी गिरावट के साथ जुड़ी है। नीचे का आंकड़ा बताता है कि क्षेत्रीय दलों की जीत प्रतिशत में 10 प्रतिशत की वृद्धि राजनीतिक हिंसा में 14.26 फीसदी की वृद्धि के साथ जुड़ी है।

चित्र 1 (ए): राष्ट्रीय दलों के लिए हिंसक घटनाओं और जीत प्रतिशत की संख्या
चित्र 1 (बी): हिंसक घटनाओं की संख्या और क्षेत्रीय दलों की जीत प्रतिशत

चित्र 2 एक क्षेत्रीय राजनीतिक पार्टी के उम्मीदवार के लिए जीत या हार के मार्जिन के खिलाफ हिंसा की औसत घटना को प्लॉट करता है। 0 पर ऊर्ध्वाधर रेखा के दाईं ओर ऐसे मामले हैं जहां एक क्षेत्रीय पार्टी के उम्मीदवार ने विधानसभा सीट जीती। बाईं ओर, जहां एक क्षेत्रीय पार्टी के उम्मीदवार हार गए। यह आंकड़ा बताता है कि जब स्थानीय विधायक क्षेत्रीय राजनीतिक दल से संबंधित होता है, तो हिंसक घटना की औसत घटना बढ़ जाती है।

चित्र 2: राजनीतिक हिंसा पर एक क्षेत्रीय विधायक के चुनाव का प्रभाव

पृथकतावादी कारक

इस राजनीतिक हिंसा में वृद्धि के लिए एक स्पष्टीकरण कई क्षेत्रीय दलों का पृथकतावादी मूल का होना हो सकता है। अध्ययन ने आंकड़ों को उन राज्यों में विभाजित किया, जो हमारे नमूना अवधि के दौरान किसी भी सक्रिय पृथकतावादी आंदोलन की रिपोर्ट नहीं करते थे। पहली श्रेणी में अरुणाचल प्रदेश, असम, जम्मू और कश्मीर, मणिपुर, मिजोरम, नागालैंड, पंजाब और त्रिपुरा जैसे राज्य शामिल थे। तब गुजरात जैसे राज्य थे, जो मुख्य रूप से हिंदू-मुस्लिम संघर्षों का अनुभव करते थे, और आंध्र प्रदेश जैसे राज्य थे जो ज्यादातर विद्रोही नक्सली हिंसा का सामना करते थे।

हमने पाया कि स्थानीय क्षेत्रीय पार्टी शासन से जुड़ी हिंसा में वृद्धि पूरी तरह से राज्यों में पृथकतावादी के कारकों से प्रेरित थी। इससे स्पष्ट है कि एक क्षेत्रीय पार्टी का चुनाव विशेष रूप से पृथकतावादी हिंसा को बढ़ाता है।

हालांकि, इनमें से कई राज्यों में सांप्रदायिक (जातिवादी) हिंसा भी हुई हैं। यह निर्धारित करने के लिए कि क्या बढ़ी हुई हिंसा पृथकतावादी या जातिवाद के कारण थी, हमने आगे हिंसा में शामिल लोगों के अनुसार डेटा को विभाजित किया।

इसके पीछे यह विचार था कि पृथकतावादी हिंसा में विद्रोही और केंद्रीय या राज्य सरकार शामिल होंगी, जबकि स्वसंस्कृति हिंसा में विद्रोहियों और नागरिकों के समूह शामिल होंगे।

हमने पाया कि विद्रोहियों और सरकारी बलों के बीच केवल क्षेत्रीय प्रतिनिधि चुने जाने पर हिंसा बढ़ गई, जो आगे यह पुष्टि करता है कि इन उम्मीदवारों के चुनाव में उतरने से विशेष रूप से पृथकतावादी हिंसा होती है।

हमने यह भी जांच की कि क्या हिंसा का स्तर इस बात पर निर्भर करता है कि क्षेत्रीय पार्टी पूरी तरह से राज्य के संचालन के लिए जिम्मेदार थी या केवल एक गठबंधन का सदस्य था। हमने पाया, वहा हिंसा पूरी तरह से इस बात से से प्रेरित थी, जहां क्षेत्रीय दल एक गवर्निंग गठबंधन का हिस्सा थे। इससे साफ है कि कार्यकारी शक्ति तक अधिक पहुंच इन क्षेत्रीय राजनीतिक दलों से जुड़े हिंसक समूहों को खुश करने का एक साधन हो सकता है।

क्या क्षेत्रीय दलों पर अंकुश लगाया जाना चाहिए?

परिणाम यह नहीं मानते हैं कि क्षेत्रीय दलों को भारत में चुनाव में भाग लेने से प्रतिबंधित किया जाना चाहिए। अध्ययन में उन व्यक्तिगत प्रतिनिधियों के कारण प्रभाव का अनुमान लगाया गया है, जो क्षेत्रीय दलों से संबंधित हैं। उनकी चुनावी भूमिका पर अंकुश लगाने के लिए उन पर प्रतिबंध लगाने के कारण प्रभाव का अनुमान भी लगाना होगा।

इसके अलावा, क्षेत्रीय राजनीतिक दल, सिद्धांत रूप में, उन मतदाताओं पर महत्वपूर्ण लाभ प्रदान कर सकते हैं, जिनका वे प्रतिनिधित्व करते हैं। क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की भूमिका को सीमित करने के बारे में निष्कर्ष निकालने से पहले इन पर और नए सिरे से विचार करने की जरूरत है।

(मगेसन कनाडा के ‘कैलगरी विश्वविद्यालय’ में अर्थशास्त्र के एसोसिएट प्रोफेसर हैं और कपूर नीदरलैंड्स केइरास्मस विश्वविद्यालय’ में अर्थशास्त्र के एसोसिएट प्रोफेसर हैं।)

यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 25 जुलाई 2019 को IndiaSpend.com पर प्रकाशित हुआ है।

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं।