‘गैर-घातक’ भीड़-नियंत्रण तरीकों से कश्मीर में 24 की मौत,139 ने खोई आंखों की रोशनी

श्रीनगर के अमर सिंह कॉलेज में ग्रैजुएशन के द्वितीय वर्ष के छात्र तनवीर अहमद आंसू गैस के गोले से उस समय घायल हो गए, जब बारामुला जिले के सुंबल में एक नाबालिग लड़की से बलात्कार के विरोध में प्रदर्शन हो रहा था।

श्रीनगर: कुछ उपायों का प्रयोग करके कश्मीर में हिंसक विरोध प्रदर्शन पर काबू पाने की कोशिश की जाती है, जिसे गृह मंत्रालय (एमएचए) ‘गैर-घातक’ भीड़-नियंत्रण उपायों के रूप में वर्णित करती है।

इनमें पेलेट गन, आंसू गैस और मिर्च से भरे गोले ( मिर्च में पाए जाने वाले पीएवीए या पेलार्गोनिक एसिड वैनिल्ल एमाइड) शामिल हैं।

एमएचए डेटा और श्रीनगर अस्पताल के रिकॉर्ड पर इंडियास्पेंड विश्लेषण के अनुसार, ये दमन सामाग्री गैर-घातक तो कतई नहीं हैं।

हमने पाया कि:

  • जनवरी 2010 से मई 2019 के बीच आंसू गैस के गोले से पांच लोगों की मौत हुई है और जुलाई 2016 से फरवरी 2019 के बीच 176 घायल हुए हैं।
  • मिर्च से भरे गोले के कारण श्रीनगर शहर में एक चिकित्सा अध्ययन के लिए सर्वेक्षण में 294 उत्तरदाताओं (गैर-लड़ाकों) में से एक की मौत हो गई, जबकि 51 में श्वसन संबंधी समस्याएं हुईं। उनमें से, 97 फीसदी को उस गैस में सांस लेने के कुछ सेकंड के भीतर खांसी और जलन जैसी समस्याओं का अनुभव हुआ।
  • जुलाई 2016 और फरवरी 2019 के बीच मेटल पैलेट के कारण 18 की मौत हुई, 139 लोगों की आंखों की रोशनी चली गई और 2,942 लोगों की आंखें जख्मी हुई।

इन दमन सामाग्रियों के कारण जनवरी 2010 से मई 2019 के बीच 24 लोगों की की जान गई और 4,577 लोग घायल हुए और जुलाई 2016 और फरवरी 2019 के बीच 139 लोगों की आंखों की रोशनी गई।

नाम न छापने के अनुरोध पर एक वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी ने इंडियास्पेंड को बताया कि 2010 से 100,000 से अधिक आंसू गैस कनस्तरों और लगभग 50,000 राउंड मिर्च का उपयोग कश्मीर के विभिन्न हिस्सों में पत्थरबाजी की 4,000 से अधिक घटनाओं में किया गया है। यह स्थिति जुलाई 2016 के बाद खराब हो गई, जब आतंकवादी कमांडर बुरहान वानी को बलों द्वारा गोली मार दी गई। छर्रों के उपयोग पर कोई आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं।

एमनेस्टी इंटरनेशनल जैसे मानवाधिकार संगठनों ने कश्मीर में इस्तेमाल की जाने वाली भीड़ नियंत्रण विधियों पर नाराजगी व्यक्त की है और इन पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है, विशेषकर छर्रों पर जिसके शिकार हुए लोगों की आंखों की रोशनी चली गई है।

जबकि पीड़ितों पर छर्रों के प्रभाव को बड़े पैमाने पर प्रलेखित किया गया है। आंसू गैस और मिर्च स्प्रे के प्रभाव पर कुछ रिपोर्ट उपलब्ध हैं। हमने अपनी जांच में पाया कि ये गैसें, जो जल्दी फैलती हैं, लोगों के स्वास्थ्य को व्यापक नुकसान पहुंचाती हैं। प्रभावित होने वालों में न केवल बलों द्वारा लक्षित लोग होते हैं, बल्कि राहगीरों और विरोध की जगह के आसपास, लोगों के घर भी प्रभावित होते हैं। पीड़ितों ने हमें बताया कि इन गैसों को अंदर खींचने से खांसी और आंखों में जलन होती है।

इन आंकड़ों की पुष्टि मई 2014 में श्रीनगर में शेर-ए-कश्मीर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एसकेआईएमएस) के आंतरिक विभाग के प्रोफेसर और विभाग के प्रमुख, परवेज कॉल औरआंतरिक और फुफ्फुसीय चिकित्सा विभाग में उनके सहयोगियों द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन द्वारा की गई थी।

एसकेआईएमएस के शोधकर्ताओं ने कश्मीर में पत्थरबाजों के खिलाफ इस्तेमाल किए गए काली मिर्च गैस के संपर्क में आने वाले 294 लोगों का सर्वेक्षण किया (क्योंकि मिर्च से भरे गोले अध्ययन में उल्लिखित हैं)। लगभग 97 फीसदी ने तीखी गैस को सांस लेने के कुछ सेकंड के भीतर ही गले में खांसी और जलन पैदा करने की बात कही, जैसा कि हमने पहले बताया है।

फेफड़ों के रोगों का बढ़ जाना

एसकेआईएमएस अध्ययन में कहा गया है, "हमारे साक्षात्कारकर्ताओं के बीच, 16 में उनके अंतर्निहित श्वसन संबंधी विकारों का विकास हुआ और क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) के एक मरीज ने तुरंत एक्सपोज़र के बाद सीओपीडी का एक गंभीर रूप विकसित किया (अस्पताल में तीन दिन उनकी मृत्यु हो गई)। लक्षण एक दिन से एक सप्ताह (औसत 24 घंटे) तक रहता है, और 94 फीसदी फिर से उजागर व्यक्तियों में, लक्षण फिर से उजागर होने पर इसी तरह की गंभीरता के साथ होते हैं।"

चेन्नई चेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट के मुख्य शोधकर्ता एस बालमुरुगन ने कहा, आंसू गैस और काली मिर्च गैस लंबे समय और अल्पावधि में मानव स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है। उन्होंने चेतवानी दी कि जो लोग इसके संपर्क में आते हैं, वे जल्द ही फेफड़ों की बीमारी की चपेट में आ सकते हैं।

उन्होंने कहा, "अगर किसी इलाके में अस्थमा और सीओपीडी के मरीज़ हैं, और वहां इन गैसों का उपयोग किया जाता है, तो पीड़ितों की बीमारी बढ़ जाती है। 100 फीसदी संभावना है कि बच्चे और बुजुर्ग प्रभावित होंगे। यह दीर्घकालिक प्रभाव पैदा कर सकता है, खासकर कश्मीर जैसे अधिक ऊंचाई वाले स्थान पर। अगर एक निश्चित इलाके में अक्सर इस्तेमाल किया जाता है तो इससे स्वस्थ लोगों को भी समस्या होगी।"

इन प्रलेखित प्रभावों के बावजूद, जम्मू और कश्मीर पुलिस ने आंसू गैस की आपूर्ति के लिए नए सिरे से एक निविदा जारी की है।

मारे गए कुछ लोगों की उम्र: 13... 17... 76...

2010 में घाटी की अशांति विशेष रूप से हिंसक हो गई, जिसमें बड़े पैमाने पर लोगों द्वारा पथराव सहित विरोध प्रदर्शन शामिल थे। तब से, श्रीनगर और अनंतनाग, बारामूला, पुलवामा और शोपियां जैसे अन्य शहरों के निवासियों ने विरोध प्रदर्शनों और पत्थरबाजों को रोकने के लिए धातु छर्रों, आंसू गैस और मिर्च स्प्रे का नियमित उपयोग देखा है। दक्षिण कश्मीर के कुछ शहरों में सुरक्षा की स्थिति हाल के वर्षों में विशेष रूप से नाजुक रही है।

सबसे व्यापक रूप से चर्चित मामलों में से एक श्रीनगर के सैदा कदल के 17 वर्षीय आंसू गैस पीड़ित तुफैल मट्टू का था, जो सरकारी बलों द्वारा 11 जून, 2010 को पास के राजोरी कदल में प्रदर्शनकारियों को खदेड़ते वक्त एक शेल की चपेट में आने के बाद मारा गया था। अखबारों ने खबर दी थी कि मट्टू की मौत तब हुई थी, जब वह कोचिंग क्लास जा रहा था।

एक अन्य पीड़ित 13 वर्षीय वमीक फारूक था, जिसकी मौत 31 जनवरी, 2010 को आंसू-गैस शेल की चपेट में आने से हुई थी। इन मौतों ने विरोध प्रदर्शनों की एक श्रृंखला शुरू की, जिसके परिणामस्वरूप बाद में पूरे कश्मीर में आंदोलन हुए।

विरोध प्रदर्शन के दौरान दो अन्य की आंसू गैस से मौतें हुईं-नवंबर 2014 में श्रीनगर के बाहरी इलाके में ज़ैनकोट एचएमटी का गौहर नजीर की और 18, अगस्त 2016 में श्रीनगर के नौहट्टा क्षेत्र में मलारता में इरफान अहमद की। नवंबर 2016 में इलाही बाग में एक 76 वर्षीय व्यक्ति गुलाम मुहम्मद खान की मौत हो गई थी, जब वह एक आंसू गैस के गोले की चपेट में आ गए थे।

“मेरी पत्नी अस्पताल जा रही थी, जब उसे गोली लगी…”

गौहर नजीर डार के भाई, शहजाद नजीर डार, धंसी आंखों वाला एक नौजवान, पश्चिमी श्रीनगर के ओमाबाद एचएमटी क्षेत्र में अपने घर में बैठ कर अपने हुए नुकसान याद करता है। "मैं ऐसा नहीं था, जब मेरा भाई जीवित था। मैं शारीरिक रूप से बहुत फिट था," डार ने कहा, जिसने बीए में अपने दूसरे वर्ष के बाद पढ़ाई बंद कर दी। “जब मैं गौहर के लैपटॉप को देखता हूं, तो मैं बहुत भावुक हो जाता हूं। जब वह मारा गया तो उसने कभी-कभार ही इसका इस्तेमाल किया था। ”

इंजीनियरिंग के छात्र शहजाद नजीर डार कहते हैं, "जब मैं गौहर के लैपटॉप को देखता हूं, तो मैं बहुत भावुक हो जाता हूं। जब वह मारा गया तो उसने शायद ही इसका इस्तेमाल किया था।"

 गौहर एक कंप्यूटर-अनुप्रयोग इंजीनियरिंग छात्र था जिसने अपनी डिग्री लगभग पूरी कर ली थी, जब वह मारा गया था। शहजाद ने कहा, "मेरे छोटे भाई, फरनोश में हृदय संबंधी समस्या हो गई है, जबकि मेरी मां अवसाद में है।डॉक्टरों ने हमें बताया है कि हमें उसे कभी नहीं छोड़ना चाहिए।"

उनके पिता नजीर अहमद डार को बताया गया है कि उनके बेटे शहजाद को मुआवजे के रूप में एक सरकारी नौकरी दी जाएगी, लेकिन यह प्रस्ताव अभी तक नहीं आया है।

नजीर ने कहा, "सीआईडी ​​(आपराधिक जांच विभाग) पुलिस और सीआईके (काउंटर इंटेलिजेंस कश्मीर) सत्यापन के बावजूद, मेरे बेटे को एसआरओ 43 (वैधानिक नियम और आदेश जो निर्दोष मारे गए लोगों के परिजनों को रोजगार की गारंटी देता है) के तहत रोजगार नहीं दिया जा रहा है। इसके बजाय, उन्होंने हाल ही में हमें 4 लाख रुपये नकद की पेशकश की, जिसे हमने अस्वीकार कर दिया।"

अप्रैल, 2018 में डंगरपोरा, पुलवामा के 19 साल के अरसलन भट को आंसू गैस के गोले की चपेट में आने से गंभीर चोटें आईं। वह पहले ही एसकेआईएमएस में दो प्लास्टिक सर्जरी करवा चुका है और तीसरे का इंतजार कर रहा है।

भट्ट के चचेरे भाई, रेयस अहमद कहते हैं, "डॉक्टरों ने हमें बताया कि छह महीने के बाद उसकी एक और सर्जरी होनी है । वह एक छात्र है और सर्जरी के कारण कई हफ्तों की पढ़ाई का नुकसान कर चुका है। अब तक 60,000 रुपये खर्च हो गए हैं और वे नहीं जानते हैं कि तीसरी सर्जरी में कितना खर्च आएगा।" 

श्रीनगर के अमर सिंह कॉलेज में ग्रैजुएशन द्वितीय वर्ष के छात्र,ज़ैनकोट के तनवीर अहमद को उनके कॉलेज के बाहर एक आंसू गैस के गोले से मारा गया, जबकि वह और उनके साथी छात्र बारामूला जिले के सुंबल में एक नाबालिग लड़की के बलात्कार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। यह एक ऐसी घटना थी, जिसके विरोध में 2019 के मई में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन किया गया था।

अहमद कहते हैं, "सरकार प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए ऐसे तरीकों को गैर-घातक हथियार मानती है, लेकिन अगर वे लोगों के साथ ऐसा कर रहे हैं तो वे कैसे घातक नहीं हैं?"

श्रीनगर जिले के शाल्टेंग के जहूर अहमद भट के लिए, 2017 की वसंत और गर्मियों की शुरुआत दर्दनाक रही है। आंसू गैस के गोले की चपेट में आने के बाद उनकी पत्नी निगहत को कई चेहरे की सर्जरी से गुजरना पड़ा। वह तब घायल हुईं थीं, जब महिलाएं अपने क्षेत्र में बिजली की आपूर्ति की कमी के खिलाफ प्रदर्शन कर रही थीं।

उन्होंने कहा, "जब महिलाएं हमारे इलाके के बाहर मुख्य सड़क को अवरुद्ध कर रही थीं, तब वह विरोध का हिस्सा भी नहीं थीं।उन्हें चेक-अप के लिए अस्पताल जाना पड़ा था। पुलिस ने आंसू गैस के गोले अंधाधुंध फायरिंग की थी और एक गोला उसके चेहरे पर लगा। भगवान का शुक्र है, प्लास्टिक सर्जरी ने उन्हें अपना चेहरा वापस दे दिया। लेकिन, वह उस घटना के बाद वह चिड़चिड़ी हो गईं। वह बहुत शर्मीली थीं, लेकिन अब वह बच्चों और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ अपना आपा खो देती हैं। ”

युवा और वृद्ध सबसे अधिक पीड़ित

वरिष्ठ चिकित्सकों के हवाले से अक्टूबर 2016 में प्रकाशित ग्रेटर कश्मीर की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि आंसू गैस और काली मिर्च गैस का उपयोग करने पर अस्थमा और क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) जैसी सांस की बीमारियों वाले लोग खासकर बुजुर्ग और बच्चे सबसे ज्यादा पीड़ित होते हैं।

श्रीनगर के एक अस्पताल में आंसू गैस के गोले के शिकार की मेडिकल फाइल। आंसू गैस और मिर्च स्प्रे के संपर्क में आने वाले 97 फीसदी लोगों को खांसी और गले में जलन की शिकायत है, जैसा कि एसकेआईएमएस में डॉक्टरों द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया है।

पुणे स्थित चेस्ट रिसर्च फाउंडेशन के निदेशक संदीप सालवी कहते हैं, “ आसू गैस जहरीली होती है। यह एक व्यक्ति को मारने के लिए बनाया गया है। यह नुकसान का बड़ाकारण है। लेकिन यह कश्मीर में कितना नुकसान पहुंचा रहा है, मुझे कोई जानकारी नहीं है। मुझे उस पर टिप्पणी करने से पहले उन मामलों को जानना होगा। ”

येलो स्कूल ऑफ मेडिसिन के एक नर्व गैस विशेषज्ञ स्वेन-एरिक जॉर्डन ने 12 जून 2013 को नेशनल जियोग्राफिक को एक साक्षात्कार में बताया,“जिनेवा कन्वेंशन के तहत आंसू गैस को रासायनिक युद्ध एजेंट के रूप में पेश किया जाता है, और इसलिए इसे युद्ध में उपयोग के लिए रखा जाता है, लेकिन नागरिकों के खिलाफ इसका इस्तेमाल बहुत बार किया जाता है। यह बहुत ही अतार्किक है।" 

श्रीनगर के चेस्ट डिजीज हॉस्पिटल और श्री महाराजा हरि सिंह अस्पताल के डॉक्टरों के अनुसार, सीओपीडी और अस्थमा के प्रसार की घटनाएं, और इससे पीड़ित मरीजों की बड़ी संख्या उन क्षेत्रों से आती है, जहां से आंसू गैस और काली मिर्च गैस के उपयोग की अधिक रिपोर्ट आती है। डॉक्टरों ने कहा कि इस बयान का समर्थन करने के लिए कोई डेटा उपलब्ध नहीं है, लेकिन हर बार जब हिंसक विरोध प्रदर्शन होता है, तो मरीजों की संख्या बढ़ती है।

क्या अब ध्वनि तोप? सरकार ने कहा नहीं

इसके बावजूद, 24 जून, 2019 को मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) अब पेलेट गन के बजाय कश्मीर में भीड़ नियंत्रण के लिए ध्वनि तोपों का उपयोग करने पर विचार कर रहा है। मार्च 2017 में प्रकाशित ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च एंड डेवलपमेंट (BPRD) द्वारा एक अध्ययन के निष्कर्ष के आधार पर लंबी दूरी के ध्वनिक उपकरणों के उपयोग से क्षति हो सकती है।

अध्ययन के अनुसार, "उच्च तीव्रता वाले ध्वनिक उपकरणों उपकरणों जैसे ‘लार्ड’ को लंबी दूरी (1 किमी तक) पर श्रव्य चेतावनी संदेश देने के लिए डिज़ाइन किया गया है। हालांकि, करीब दूरी पर यह काफी अधिक अक्षम है और 60 मीटर और ध्वनि की 120 डीबी (डेसीबल) 60 मीटर और 4 मीटर पर 130 डीबी के पीक स्तर का उत्पादन कर सकता है। श्रवण क्षति 80 डीबी तक के स्तर पर हो सकती है, अगर जोखिम लंबी अवधि से अधिक है। ”ये उच्च डेसीबल स्तर हैं - 120 डीबी एक गड़गड़ाहट द्वारा किए गए शोर के बराबर है।"

मीडिया रिपोर्टों ने सीआरपीएफ द्वारा अपनी वेबसाइट पर डाली गई जानकारी के लिए एक अधिसूचना या अनुरोध का पालन किया, जिससे निर्माताओं को 30 जून, 2019 तक लंबी दूरी के ध्वनिक उपकरणों, या ध्वनि तोपों का विवरण प्रस्तुत करने के लिए कहा गया है।

लेकिन सीआरपीएफ के प्रवक्ता संजय कुमार ने इन खबरों का खंडन किया। उन्होंने इंडियास्पेंड को बताया, "हमें इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि सीआरपीएफ अब कश्मीर में किसी भी तरह के ध्वनि तोप का उपयोग करने जा रहा है। पहली बात आपको बता दूं कि पथराव की घटनाओं में काफी गिरावट आई है। हमें अब बल प्रयोग की आवश्यकता महसूस नहीं होती है। हम अत्यंत संयम का पालन करते हैं। लेकिन अगर जरूरत पड़ी तो हम जिम्मेदार तरीके से आंसू गैस या काली मिर्च गैस के गोले का सहारा लेते हैं। ”

कश्मीर पुलिस ने भी रिपोर्टों का खंडन किया। पुलिस महानिरीक्षक स्वयं प्रकाश पाणि ने कहा, "मैं आपूर्ति की बात को सही नहीं मानता (पुलिस मुख्यालय से प्रामाणिक जानकारी प्राप्त की जा सकती है)।"

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक( शस्त्रागार) गुलजार अहमद ने कहा, “राज्य ने 2010 में सोपोर और पुराने श्रीनगर शहर में परीक्षण किया था और ध्वनि तोपों के उपयोग को अक्षम्य पाया था।” अहमद ने इंडियास्पेंड को बताया, "इसलिए, मुझे नहीं लगता कि कश्मीर में ध्वनि तोपों का उपयोग करने की कोई संभावना है।"

नाम ना छापने की शर्त पर जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा, रिपोर्ट को ‘कुछ म्यूनिशन्ज निर्माताओं के लिए व्यावसायिक अवसरों जुटाने के लिए’ लगाया जा सकता है। हैरानी की बात है कि ये रिपोर्टें ऐसे समय में आई है, जब कश्मीर में सुरक्षा की स्थिति पिछले दो-तीन सालों की तुलना में काफी बेहतर है: स्टोन-पेलटिंग अब कभी-कभार देखी जाती है।"

26 जून, 2019 को, गृह मंत्रालय के बयान ने इस दावे का समर्थन किया कि पूरे कश्मीर में पथराव की घटनाओं में भारी कमी आई है। बयान में कहा गया है, “केंद्रीय स्तर पर सभी संबंधित एजेंसियों और आतंकी फंडिंग के खिलाफ निरंतर कार्रवाई के लिए राज्य स्तर पर एक बहु-अनुशासनात्मक आतंकवादी निगरानी समूह (टीएमजी) को शामिल करते हुए, सरकार ने एक संयुक्त निगरानी समिति का गठन किया है। इससे अंतर-आया है, जिसके परिणामस्वरूप पिछले वर्ष इसी अवधि की घटनाओं की तुलना में 2019 में अब तक हुई पथराव की घटनाओं में उल्लेखनीय गिरावट आई है।"

 केंद्रीय गृह मंत्रालय के आंकड़ों के हवाले से, 14 जुलाई 2019 को एक मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि 2018 में 1,458 घटनाओं और 2016 में 2,653 के खिलाफ 2019 के पहले छह महीनों में पत्थरबाजी की केवल 40 घटनाएं हुई हैं।

समाधान बॉक्स

भीड़ नियंत्रक का काम लोगों को मारना नहीं होना चाहिए।मुझे लगता है कि प्रदर्शनकारियों के बीच चोटों और हताहतों से बचने और क्षति को रोकने के लिए भीड़ नियंत्रण के वैकल्पिक तरीकों जैसे पानी के तोप, बैटन चार्ज और रबर की गोलियां होनी नहीं चाहिए।

परवेज कॉल, प्रोफेसर और आंतरिक और पल्मोनरी मेडिसिन विभाग के प्रमुख, शेर-ए-कश्मीर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, श्रीनगर।

सरकार को पत्थर फेंकने वाले मॉब और निर्दोष नागरिकों के साथ एक जैसा व्यवहार नहीं करना चाहिए। आंसू गैस और काली मिर्च गैस निर्दोष लोगों और दंगे में शामिल लोगों के बीच अंतर नहीं करती है। सरकार को या तो ऐसे तरीकों का इस्तेमाल करना बंद करना चाहिए या निर्दोष नागरिकों की सुरक्षा पर ध्यान देना चाहिए।

एस बालामुरुगन, प्रधान अन्वेषक, चेन्नई चेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट।

( परवेज पत्रकार हैं और श्रीनगर में रहते हैं। )

यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 2 अगस्त 2019 को IndiaSpend.com पर प्रकाशित हुआ है।

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं।

श्रीनगर: कुछ उपायों का प्रयोग करके कश्मीर में हिंसक विरोध प्रदर्शन पर काबू पाने की कोशिश की जाती है, जिसे गृह मंत्रालय (एमएचए) ‘गैर-घातक’ भीड़-नियंत्रण उपायों के रूप में वर्णित करती है।

इनमें पेलेट गन, आंसू गैस और मिर्च से भरे गोले ( मिर्च में पाए जाने वाले पीएवीए या पेलार्गोनिक एसिड वैनिल्ल एमाइड) शामिल हैं।

एमएचए डेटा और श्रीनगर अस्पताल के रिकॉर्ड पर इंडियास्पेंड विश्लेषण के अनुसार, ये दमन सामाग्री गैर-घातक तो कतई नहीं हैं।

हमने पाया कि:

  • जनवरी 2010 से मई 2019 के बीच आंसू गैस के गोले से पांच लोगों की मौत हुई है और जुलाई 2016 से फरवरी 2019 के बीच 176 घायल हुए हैं।
  • मिर्च से भरे गोले के कारण श्रीनगर शहर में एक चिकित्सा अध्ययन के लिए सर्वेक्षण में 294 उत्तरदाताओं (गैर-लड़ाकों) में से एक की मौत हो गई, जबकि 51 में श्वसन संबंधी समस्याएं हुईं। उनमें से, 97 फीसदी को उस गैस में सांस लेने के कुछ सेकंड के भीतर खांसी और जलन जैसी समस्याओं का अनुभव हुआ।
  • जुलाई 2016 और फरवरी 2019 के बीच मेटल पैलेट के कारण 18 की मौत हुई, 139 लोगों की आंखों की रोशनी चली गई और 2,942 लोगों की आंखें जख्मी हुई।

इन दमन सामाग्रियों के कारण जनवरी 2010 से मई 2019 के बीच 24 लोगों की की जान गई और 4,577 लोग घायल हुए और जुलाई 2016 और फरवरी 2019 के बीच 139 लोगों की आंखों की रोशनी गई।

नाम न छापने के अनुरोध पर एक वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी ने इंडियास्पेंड को बताया कि 2010 से 100,000 से अधिक आंसू गैस कनस्तरों और लगभग 50,000 राउंड मिर्च का उपयोग कश्मीर के विभिन्न हिस्सों में पत्थरबाजी की 4,000 से अधिक घटनाओं में किया गया है। यह स्थिति जुलाई 2016 के बाद खराब हो गई, जब आतंकवादी कमांडर बुरहान वानी को बलों द्वारा गोली मार दी गई। छर्रों के उपयोग पर कोई आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं।

एमनेस्टी इंटरनेशनल जैसे मानवाधिकार संगठनों ने कश्मीर में इस्तेमाल की जाने वाली भीड़ नियंत्रण विधियों पर नाराजगी व्यक्त की है और इन पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है, विशेषकर छर्रों पर जिसके शिकार हुए लोगों की आंखों की रोशनी चली गई है।

जबकि पीड़ितों पर छर्रों के प्रभाव को बड़े पैमाने पर प्रलेखित किया गया है। आंसू गैस और मिर्च स्प्रे के प्रभाव पर कुछ रिपोर्ट उपलब्ध हैं। हमने अपनी जांच में पाया कि ये गैसें, जो जल्दी फैलती हैं, लोगों के स्वास्थ्य को व्यापक नुकसान पहुंचाती हैं। प्रभावित होने वालों में न केवल बलों द्वारा लक्षित लोग होते हैं, बल्कि राहगीरों और विरोध की जगह के आसपास, लोगों के घर भी प्रभावित होते हैं। पीड़ितों ने हमें बताया कि इन गैसों को अंदर खींचने से खांसी और आंखों में जलन होती है।

इन आंकड़ों की पुष्टि मई 2014 में श्रीनगर में शेर-ए-कश्मीर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एसकेआईएमएस) के आंतरिक विभाग के प्रोफेसर और विभाग के प्रमुख, परवेज कॉल औरआंतरिक और फुफ्फुसीय चिकित्सा विभाग में उनके सहयोगियों द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन द्वारा की गई थी।

एसकेआईएमएस के शोधकर्ताओं ने कश्मीर में पत्थरबाजों के खिलाफ इस्तेमाल किए गए काली मिर्च गैस के संपर्क में आने वाले 294 लोगों का सर्वेक्षण किया (क्योंकि मिर्च से भरे गोले अध्ययन में उल्लिखित हैं)। लगभग 97 फीसदी ने तीखी गैस को सांस लेने के कुछ सेकंड के भीतर ही गले में खांसी और जलन पैदा करने की बात कही, जैसा कि हमने पहले बताया है।

फेफड़ों के रोगों का बढ़ जाना

एसकेआईएमएस अध्ययन में कहा गया है, "हमारे साक्षात्कारकर्ताओं के बीच, 16 में उनके अंतर्निहित श्वसन संबंधी विकारों का विकास हुआ और क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) के एक मरीज ने तुरंत एक्सपोज़र के बाद सीओपीडी का एक गंभीर रूप विकसित किया (अस्पताल में तीन दिन उनकी मृत्यु हो गई)। लक्षण एक दिन से एक सप्ताह (औसत 24 घंटे) तक रहता है, और 94 फीसदी फिर से उजागर व्यक्तियों में, लक्षण फिर से उजागर होने पर इसी तरह की गंभीरता के साथ होते हैं।"

चेन्नई चेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट के मुख्य शोधकर्ता एस बालमुरुगन ने कहा, आंसू गैस और काली मिर्च गैस लंबे समय और अल्पावधि में मानव स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है। उन्होंने चेतवानी दी कि जो लोग इसके संपर्क में आते हैं, वे जल्द ही फेफड़ों की बीमारी की चपेट में आ सकते हैं।

उन्होंने कहा, "अगर किसी इलाके में अस्थमा और सीओपीडी के मरीज़ हैं, और वहां इन गैसों का उपयोग किया जाता है, तो पीड़ितों की बीमारी बढ़ जाती है। 100 फीसदी संभावना है कि बच्चे और बुजुर्ग प्रभावित होंगे। यह दीर्घकालिक प्रभाव पैदा कर सकता है, खासकर कश्मीर जैसे अधिक ऊंचाई वाले स्थान पर। अगर एक निश्चित इलाके में अक्सर इस्तेमाल किया जाता है तो इससे स्वस्थ लोगों को भी समस्या होगी।"

इन प्रलेखित प्रभावों के बावजूद, जम्मू और कश्मीर पुलिस ने आंसू गैस की आपूर्ति के लिए नए सिरे से एक निविदा जारी की है।

मारे गए कुछ लोगों की उम्र: 13... 17... 76...

2010 में घाटी की अशांति विशेष रूप से हिंसक हो गई, जिसमें बड़े पैमाने पर लोगों द्वारा पथराव सहित विरोध प्रदर्शन शामिल थे। तब से, श्रीनगर और अनंतनाग, बारामूला, पुलवामा और शोपियां जैसे अन्य शहरों के निवासियों ने विरोध प्रदर्शनों और पत्थरबाजों को रोकने के लिए धातु छर्रों, आंसू गैस और मिर्च स्प्रे का नियमित उपयोग देखा है। दक्षिण कश्मीर के कुछ शहरों में सुरक्षा की स्थिति हाल के वर्षों में विशेष रूप से नाजुक रही है।

सबसे व्यापक रूप से चर्चित मामलों में से एक श्रीनगर के सैदा कदल के 17 वर्षीय आंसू गैस पीड़ित तुफैल मट्टू का था, जो सरकारी बलों द्वारा 11 जून, 2010 को पास के राजोरी कदल में प्रदर्शनकारियों को खदेड़ते वक्त एक शेल की चपेट में आने के बाद मारा गया था। अखबारों ने खबर दी थी कि मट्टू की मौत तब हुई थी, जब वह कोचिंग क्लास जा रहा था।

एक अन्य पीड़ित 13 वर्षीय वमीक फारूक था, जिसकी मौत 31 जनवरी, 2010 को आंसू-गैस शेल की चपेट में आने से हुई थी। इन मौतों ने विरोध प्रदर्शनों की एक श्रृंखला शुरू की, जिसके परिणामस्वरूप बाद में पूरे कश्मीर में आंदोलन हुए।

विरोध प्रदर्शन के दौरान दो अन्य की आंसू गैस से मौतें हुईं-नवंबर 2014 में श्रीनगर के बाहरी इलाके में ज़ैनकोट एचएमटी का गौहर नजीर की और 18, अगस्त 2016 में श्रीनगर के नौहट्टा क्षेत्र में मलारता में इरफान अहमद की। नवंबर 2016 में इलाही बाग में एक 76 वर्षीय व्यक्ति गुलाम मुहम्मद खान की मौत हो गई थी, जब वह एक आंसू गैस के गोले की चपेट में आ गए थे।

“मेरी पत्नी अस्पताल जा रही थी, जब उसे गोली लगी…”

गौहर नजीर डार के भाई, शहजाद नजीर डार, धंसी आंखों वाला एक नौजवान, पश्चिमी श्रीनगर के ओमाबाद एचएमटी क्षेत्र में अपने घर में बैठ कर अपने हुए नुकसान याद करता है। "मैं ऐसा नहीं था, जब मेरा भाई जीवित था। मैं शारीरिक रूप से बहुत फिट था," डार ने कहा, जिसने बीए में अपने दूसरे वर्ष के बाद पढ़ाई बंद कर दी। “जब मैं गौहर के लैपटॉप को देखता हूं, तो मैं बहुत भावुक हो जाता हूं। जब वह मारा गया तो उसने कभी-कभार ही इसका इस्तेमाल किया था। ”

इंजीनियरिंग के छात्र शहजाद नजीर डार कहते हैं, "जब मैं गौहर के लैपटॉप को देखता हूं, तो मैं बहुत भावुक हो जाता हूं। जब वह मारा गया तो उसने शायद ही इसका इस्तेमाल किया था।"

 गौहर एक कंप्यूटर-अनुप्रयोग इंजीनियरिंग छात्र था जिसने अपनी डिग्री लगभग पूरी कर ली थी, जब वह मारा गया था। शहजाद ने कहा, "मेरे छोटे भाई, फरनोश में हृदय संबंधी समस्या हो गई है, जबकि मेरी मां अवसाद में है।डॉक्टरों ने हमें बताया है कि हमें उसे कभी नहीं छोड़ना चाहिए।"

उनके पिता नजीर अहमद डार को बताया गया है कि उनके बेटे शहजाद को मुआवजे के रूप में एक सरकारी नौकरी दी जाएगी, लेकिन यह प्रस्ताव अभी तक नहीं आया है।

नजीर ने कहा, "सीआईडी ​​(आपराधिक जांच विभाग) पुलिस और सीआईके (काउंटर इंटेलिजेंस कश्मीर) सत्यापन के बावजूद, मेरे बेटे को एसआरओ 43 (वैधानिक नियम और आदेश जो निर्दोष मारे गए लोगों के परिजनों को रोजगार की गारंटी देता है) के तहत रोजगार नहीं दिया जा रहा है। इसके बजाय, उन्होंने हाल ही में हमें 4 लाख रुपये नकद की पेशकश की, जिसे हमने अस्वीकार कर दिया।"

अप्रैल, 2018 में डंगरपोरा, पुलवामा के 19 साल के अरसलन भट को आंसू गैस के गोले की चपेट में आने से गंभीर चोटें आईं। वह पहले ही एसकेआईएमएस में दो प्लास्टिक सर्जरी करवा चुका है और तीसरे का इंतजार कर रहा है।

भट्ट के चचेरे भाई, रेयस अहमद कहते हैं, "डॉक्टरों ने हमें बताया कि छह महीने के बाद उसकी एक और सर्जरी होनी है । वह एक छात्र है और सर्जरी के कारण कई हफ्तों की पढ़ाई का नुकसान कर चुका है। अब तक 60,000 रुपये खर्च हो गए हैं और वे नहीं जानते हैं कि तीसरी सर्जरी में कितना खर्च आएगा।" 

श्रीनगर के अमर सिंह कॉलेज में ग्रैजुएशन द्वितीय वर्ष के छात्र,ज़ैनकोट के तनवीर अहमद को उनके कॉलेज के बाहर एक आंसू गैस के गोले से मारा गया, जबकि वह और उनके साथी छात्र बारामूला जिले के सुंबल में एक नाबालिग लड़की के बलात्कार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। यह एक ऐसी घटना थी, जिसके विरोध में 2019 के मई में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन किया गया था।

अहमद कहते हैं, "सरकार प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए ऐसे तरीकों को गैर-घातक हथियार मानती है, लेकिन अगर वे लोगों के साथ ऐसा कर रहे हैं तो वे कैसे घातक नहीं हैं?"

श्रीनगर जिले के शाल्टेंग के जहूर अहमद भट के लिए, 2017 की वसंत और गर्मियों की शुरुआत दर्दनाक रही है। आंसू गैस के गोले की चपेट में आने के बाद उनकी पत्नी निगहत को कई चेहरे की सर्जरी से गुजरना पड़ा। वह तब घायल हुईं थीं, जब महिलाएं अपने क्षेत्र में बिजली की आपूर्ति की कमी के खिलाफ प्रदर्शन कर रही थीं।

उन्होंने कहा, "जब महिलाएं हमारे इलाके के बाहर मुख्य सड़क को अवरुद्ध कर रही थीं, तब वह विरोध का हिस्सा भी नहीं थीं।उन्हें चेक-अप के लिए अस्पताल जाना पड़ा था। पुलिस ने आंसू गैस के गोले अंधाधुंध फायरिंग की थी और एक गोला उसके चेहरे पर लगा। भगवान का शुक्र है, प्लास्टिक सर्जरी ने उन्हें अपना चेहरा वापस दे दिया। लेकिन, वह उस घटना के बाद वह चिड़चिड़ी हो गईं। वह बहुत शर्मीली थीं, लेकिन अब वह बच्चों और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ अपना आपा खो देती हैं। ”

युवा और वृद्ध सबसे अधिक पीड़ित

वरिष्ठ चिकित्सकों के हवाले से अक्टूबर 2016 में प्रकाशित ग्रेटर कश्मीर की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि आंसू गैस और काली मिर्च गैस का उपयोग करने पर अस्थमा और क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) जैसी सांस की बीमारियों वाले लोग खासकर बुजुर्ग और बच्चे सबसे ज्यादा पीड़ित होते हैं।

श्रीनगर के एक अस्पताल में आंसू गैस के गोले के शिकार की मेडिकल फाइल। आंसू गैस और मिर्च स्प्रे के संपर्क में आने वाले 97 फीसदी लोगों को खांसी और गले में जलन की शिकायत है, जैसा कि एसकेआईएमएस में डॉक्टरों द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया है।

पुणे स्थित चेस्ट रिसर्च फाउंडेशन के निदेशक संदीप सालवी कहते हैं, “ आसू गैस जहरीली होती है। यह एक व्यक्ति को मारने के लिए बनाया गया है। यह नुकसान का बड़ाकारण है। लेकिन यह कश्मीर में कितना नुकसान पहुंचा रहा है, मुझे कोई जानकारी नहीं है। मुझे उस पर टिप्पणी करने से पहले उन मामलों को जानना होगा। ”

येलो स्कूल ऑफ मेडिसिन के एक नर्व गैस विशेषज्ञ स्वेन-एरिक जॉर्डन ने 12 जून 2013 को नेशनल जियोग्राफिक को एक साक्षात्कार में बताया,“जिनेवा कन्वेंशन के तहत आंसू गैस को रासायनिक युद्ध एजेंट के रूप में पेश किया जाता है, और इसलिए इसे युद्ध में उपयोग के लिए रखा जाता है, लेकिन नागरिकों के खिलाफ इसका इस्तेमाल बहुत बार किया जाता है। यह बहुत ही अतार्किक है।" 

श्रीनगर के चेस्ट डिजीज हॉस्पिटल और श्री महाराजा हरि सिंह अस्पताल के डॉक्टरों के अनुसार, सीओपीडी और अस्थमा के प्रसार की घटनाएं, और इससे पीड़ित मरीजों की बड़ी संख्या उन क्षेत्रों से आती है, जहां से आंसू गैस और काली मिर्च गैस के उपयोग की अधिक रिपोर्ट आती है। डॉक्टरों ने कहा कि इस बयान का समर्थन करने के लिए कोई डेटा उपलब्ध नहीं है, लेकिन हर बार जब हिंसक विरोध प्रदर्शन होता है, तो मरीजों की संख्या बढ़ती है।

क्या अब ध्वनि तोप? सरकार ने कहा नहीं

इसके बावजूद, 24 जून, 2019 को मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) अब पेलेट गन के बजाय कश्मीर में भीड़ नियंत्रण के लिए ध्वनि तोपों का उपयोग करने पर विचार कर रहा है। मार्च 2017 में प्रकाशित ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च एंड डेवलपमेंट (BPRD) द्वारा एक अध्ययन के निष्कर्ष के आधार पर लंबी दूरी के ध्वनिक उपकरणों के उपयोग से क्षति हो सकती है।

अध्ययन के अनुसार, "उच्च तीव्रता वाले ध्वनिक उपकरणों उपकरणों जैसे ‘लार्ड’ को लंबी दूरी (1 किमी तक) पर श्रव्य चेतावनी संदेश देने के लिए डिज़ाइन किया गया है। हालांकि, करीब दूरी पर यह काफी अधिक अक्षम है और 60 मीटर और ध्वनि की 120 डीबी (डेसीबल) 60 मीटर और 4 मीटर पर 130 डीबी के पीक स्तर का उत्पादन कर सकता है। श्रवण क्षति 80 डीबी तक के स्तर पर हो सकती है, अगर जोखिम लंबी अवधि से अधिक है। ”ये उच्च डेसीबल स्तर हैं - 120 डीबी एक गड़गड़ाहट द्वारा किए गए शोर के बराबर है।"

मीडिया रिपोर्टों ने सीआरपीएफ द्वारा अपनी वेबसाइट पर डाली गई जानकारी के लिए एक अधिसूचना या अनुरोध का पालन किया, जिससे निर्माताओं को 30 जून, 2019 तक लंबी दूरी के ध्वनिक उपकरणों, या ध्वनि तोपों का विवरण प्रस्तुत करने के लिए कहा गया है।

लेकिन सीआरपीएफ के प्रवक्ता संजय कुमार ने इन खबरों का खंडन किया। उन्होंने इंडियास्पेंड को बताया, "हमें इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि सीआरपीएफ अब कश्मीर में किसी भी तरह के ध्वनि तोप का उपयोग करने जा रहा है। पहली बात आपको बता दूं कि पथराव की घटनाओं में काफी गिरावट आई है। हमें अब बल प्रयोग की आवश्यकता महसूस नहीं होती है। हम अत्यंत संयम का पालन करते हैं। लेकिन अगर जरूरत पड़ी तो हम जिम्मेदार तरीके से आंसू गैस या काली मिर्च गैस के गोले का सहारा लेते हैं। ”

कश्मीर पुलिस ने भी रिपोर्टों का खंडन किया। पुलिस महानिरीक्षक स्वयं प्रकाश पाणि ने कहा, "मैं आपूर्ति की बात को सही नहीं मानता (पुलिस मुख्यालय से प्रामाणिक जानकारी प्राप्त की जा सकती है)।"

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक( शस्त्रागार) गुलजार अहमद ने कहा, “राज्य ने 2010 में सोपोर और पुराने श्रीनगर शहर में परीक्षण किया था और ध्वनि तोपों के उपयोग को अक्षम्य पाया था।” अहमद ने इंडियास्पेंड को बताया, "इसलिए, मुझे नहीं लगता कि कश्मीर में ध्वनि तोपों का उपयोग करने की कोई संभावना है।"

नाम ना छापने की शर्त पर जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा, रिपोर्ट को ‘कुछ म्यूनिशन्ज निर्माताओं के लिए व्यावसायिक अवसरों जुटाने के लिए’ लगाया जा सकता है। हैरानी की बात है कि ये रिपोर्टें ऐसे समय में आई है, जब कश्मीर में सुरक्षा की स्थिति पिछले दो-तीन सालों की तुलना में काफी बेहतर है: स्टोन-पेलटिंग अब कभी-कभार देखी जाती है।"

26 जून, 2019 को, गृह मंत्रालय के बयान ने इस दावे का समर्थन किया कि पूरे कश्मीर में पथराव की घटनाओं में भारी कमी आई है। बयान में कहा गया है, “केंद्रीय स्तर पर सभी संबंधित एजेंसियों और आतंकी फंडिंग के खिलाफ निरंतर कार्रवाई के लिए राज्य स्तर पर एक बहु-अनुशासनात्मक आतंकवादी निगरानी समूह (टीएमजी) को शामिल करते हुए, सरकार ने एक संयुक्त निगरानी समिति का गठन किया है। इससे अंतर-आया है, जिसके परिणामस्वरूप पिछले वर्ष इसी अवधि की घटनाओं की तुलना में 2019 में अब तक हुई पथराव की घटनाओं में उल्लेखनीय गिरावट आई है।"

 केंद्रीय गृह मंत्रालय के आंकड़ों के हवाले से, 14 जुलाई 2019 को एक मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि 2018 में 1,458 घटनाओं और 2016 में 2,653 के खिलाफ 2019 के पहले छह महीनों में पत्थरबाजी की केवल 40 घटनाएं हुई हैं।

समाधान बॉक्स

भीड़ नियंत्रक का काम लोगों को मारना नहीं होना चाहिए।मुझे लगता है कि प्रदर्शनकारियों के बीच चोटों और हताहतों से बचने और क्षति को रोकने के लिए भीड़ नियंत्रण के वैकल्पिक तरीकों जैसे पानी के तोप, बैटन चार्ज और रबर की गोलियां होनी नहीं चाहिए।

परवेज कॉल, प्रोफेसर और आंतरिक और पल्मोनरी मेडिसिन विभाग के प्रमुख, शेर-ए-कश्मीर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, श्रीनगर।

सरकार को पत्थर फेंकने वाले मॉब और निर्दोष नागरिकों के साथ एक जैसा व्यवहार नहीं करना चाहिए। आंसू गैस और काली मिर्च गैस निर्दोष लोगों और दंगे में शामिल लोगों के बीच अंतर नहीं करती है। सरकार को या तो ऐसे तरीकों का इस्तेमाल करना बंद करना चाहिए या निर्दोष नागरिकों की सुरक्षा पर ध्यान देना चाहिए।

एस बालामुरुगन, प्रधान अन्वेषक, चेन्नई चेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट।

( परवेज पत्रकार हैं और श्रीनगर में रहते हैं। )

यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 2 अगस्त 2019 को IndiaSpend.com पर प्रकाशित हुआ है।

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं।