भारत के लिए स्वास्थ्य संबंधी सतत विकास लक्ष्यों को पूरा करने की संभावना कम-सरकारी ऑडिटर

नई दिल्ली: भारत को सार्वजनिक स्वास्थ्य व्यय के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए ‘लंबा रास्ता तय करना’ है। इसका प्राथमिक स्वास्थ्य ढांचा अपर्याप्त है और देश 2030 तक स्वास्थ्य के लिए सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) को प्राप्त करने के लिए अपनी प्रगति को ट्रैक करने के लिए डेटा की कमी का सामना कर रहा है, जैसा कि सरकार के ऑडिटर, भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (कैग) ने कहा है।

8 जुलाई, 2019 की रिपोर्ट में कैग ने कहा, " ये अंतर 2030 एजेंडा के प्रमुख उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए जोखिम का प्रतिनिधित्व करते हैं।"

रिपोर्ट में कहा गया है कि, "जबकि स्वास्थ्य मंत्रालय ने 2025 तक भारत के सार्वजनिक स्वास्थ्य व्यय को अपने सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 2.5 फीसदी तक बढ़ाने का प्रस्ताव रखा है, यह जीडीपी के 1.02-1.28 फीसदी के एक छोटे दायरे के भीतर बना हुआ है।"

भारत का सार्वजनिक स्वास्थ्य व्यय, 2009-10 से 2017-18 तक

इस रिपोर्ट के लिए, एसडीजी प्राप्त करने के लिए तैयारियों के लिए, कैग ने नीति आयोग, स्वास्थ्य मंत्रालय, सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय और 14 अन्य मंत्रालयों का ऑडिट किया। राज्यों के प्रदर्शन का विश्लेषण करने के लिए, सात राज्यों ( असम, छत्तीसगढ़, हरियाणा, केरल, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश (यूपी) और पश्चिम बंगाल ) को 2015-16 के लिए विभिन्न स्वास्थ्य सूचकांकों पर उनकी रैंकिंग के आधार पर चुना गया था।

नीति आयोग के तीन साल के एक्शन एजेंडा (2017-2020) ने 2019-20 तक केंद्र के स्वास्थ्य बजट में 1 लाख करोड़ रुपये (14.5 बिलियन डॉलर) की वृद्धि की परिकल्पना की। लेकिन, आवंटन कम हो गए हैं: भारत ने 2017-18 में 53,294 करोड़ रुपये ($ 7.7 बिलियन), 2018-19 में 56,045 करोड़ रुपये ($ 8.1 बिलियन) और 2019-20 में 65,038 करोड़ रुपये ($ 9.4 बिलियन) आवंटित किए, जैसा कि रिपोर्ट में कहा गया है।

एसडीजी के लाइन में फ्रेम की गई भारत की राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति 2017,वर्ष 2020 तक राज्यों के स्वास्थ्य व्यय को उनके वार्षिक बजट के 8 फीसदी से अधिक तक बढ़ानेका वर्णन करता है, लेकिन रिपोर्ट के अनुसार, सात राज्यों ने 2012-2017 की अवधि के लिए 3.29 फीसदी और 5.32 फीसदी के बीच खर्च का मूल्यांकन किया।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन ( जो समान, सस्ती और गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं के लिए सार्वभौमिक पहुंच का वादा करता है ) की परिकल्पना स्वास्थ्य लक्ष्य तक पहुंचने के लिए प्राथमिक इकाई के रूप में की गई थी: प्रति 100,000 जीवित जन्मों पर 70 से कम मौतों की मातृ मृत्यु अनुपात (एमएमआर), प्रति 1,000 जीवित जीवितों में 12 मौतों की नवजात मृत्यु दर (एनएमआर) और प्रति 1,000 जीवित जन्मों पर 25 लोगों की मृत्यु दर (यू5एमआर)।

जनगणना के आंकड़ों के अनुसार, 2017 में भारत की एमएमआर प्रति 100,000 जीवित जन्मों पर 130 मौतें हुईं, जबकि एनएमआर प्रति 1,000 जीवित जन्मों पर 24 और यू5एमआर प्रति 1,000 जीवित जन्मों पर 39 थीं, जैसा कि इंडियास्पेंड ने 20 सितंबर, 2018 को बताया था।

कैग की रिपोर्ट के अनुसार, बजट अनुमानों की तुलना में 2018-19 में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के आवंटन में 13.6 फीसदी की कमी आई है।

नेशनल हेल्थ मिशन के लिए फंडिंग

Source: Report of the Parliamentary Standing Committee, cited in the Comptroller & Auditor General’s report

आवंटन की जांच करते समय, स्वास्थ्य पर संसद की स्थायी समिति ने यह देखा था कि ये कमी स्वास्थ्य सुविधाओं के हालात को प्रभावित करेगी।

भारत की नवजात मृत्यु दर (प्रति 1,000 जीवित जन्मों पर 24 मौतें) वैश्विक औसत (18) से अधिक है। श्रीलंका (8), बांग्लादेश (18) और नेपाल (21) प्रति व्यक्ति आय कम होने के बावजूद बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं, जैसा कि इंडियास्पेंड ने 20 सितंबर, 2018 की रिपोर्ट में बताया है।

नेशनल हेल्थ प्रोफाइल-2018 में उद्धृत आंकड़ों के अनुसार, 2015 में, भारत ने अपने सकल घरेलू उत्पाद का 1 फीसदी सार्वजनिक स्वास्थ्य पर खर्च किया है, जो दक्षिण पूर्व एशिया क्षेत्र में दूसरा सबसे कम है। उसी वर्ष, मालदीव ने 9.4 फीसदी, श्रीलंका ने 1.6 फीसदी, भूटान ने 2.5 फीसदी और थाईलैंड ने 2.9 फीसदी खर्च किए हैं।

स्वास्थ्य पर सार्वजनिक व्यय- दक्षिण पूर्व एशिया

स्वास्थ्य पर राज्य की ओर से खर्च में अभी तक वृद्धि नहीं

स्वास्थ्य पर सकल घरेलू उत्पाद का 2.5 फीसदी खर्च करने के 2025 के लक्ष्य तक पहुंचने के लिए, राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति ने राज्यों को हर साल कम से कम 10 फीसदी प्राथमिक देखभाल पर अपना स्वास्थ्य खर्च बढ़ाना अनिवार्य किया है।

इसके अलावा, 4 फीसदी स्वास्थ्य और शिक्षा उपकर भी प्रस्तावित किया गया था जिसे लागू नहीं किया गया था। जैसा कि हमने कहा, नीति वर्ष 2020 तक राज्यों के स्वास्थ्य व्यय वर्ष को उनके वार्षिक बजट का 8 फीसदी से ज्यादा बढ़ाना भी निर्धारित करती है। फिर भी, कैग द्वारा इस रिपोर्ट के लिए अध्ययन किए गए सात राज्यों में से किसी ने भी 2017 तक यह राशि खर्च नहीं की थी।

चयनित भारतीय राज्यों में स्वास्थ्य व्यय, 2012-17

इसके अलावा, राज्यों के साथ एनएचएम के 29 फीसदी फंड को पिछले पांच सालों से 2016 तक खर्च नहीं किया गया था, जैसा कि इंडियास्पेंड ने 20 अगस्त, 2018 की रिपोर्ट में बताया है।

स्वास्थ्य में कमी से प्रगति प्रभावित

ग्रामीण भारत में २8 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में उप-केंद्रों, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (पीएचसी) और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों की संख्या में 24 फीसदी और 38 फीसदी के बीच की कमी है, जैसा कि राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन ( जो ग्रामीण भारत में सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं के वितरण को मजबूत करने का प्रयास करता है ) के तहत प्रजनन और बाल स्वास्थ्य पर कैग की 2017 की ऑडिट रिपोर्ट के आंकड़ों से पता चलता है।

2006 में निर्धारित भारतीय सार्वजनिक स्वास्थ्य मानकों के अनुसार, प्रति माह 20 से अधिक प्रसव की जिम्मेदारी के साथ,प्रत्येक पीएचसी में कम से कम दो चिकित्सा अधिकारियों की जरूरत है। कैग की रिपोर्ट में उद्धृत आंकड़ों के अनुसार, छत्तीसगढ़ के पीएचसी में कुल 341 डॉक्टर हैं, जिससे प्रति पीएचसी के लिए 0.43 डॉक्टर के आंकड़े आते हैं, यानी आवश्यकता से कम। रिपोर्ट में कहा गया है कि छत्तीसगढ़ और यूपी में मानव संसाधन की काफी कमी है।

शिशु और पांच वर्ष के अंदर मृत्यु दर रैंकिंग में सबसे खराब प्रदर्शन करने वाले राज्यों में से एक उत्तर प्रदेश है, जैसा कि इंडियास्पेंड ने 16 मार्च, 2017 को बताया था। जबकि यूपी में पीएचसी की 30 फीसदी की कमी है, पश्चिम बंगाल में 69 फीसदी की कमी है।

6 करोड़ की ग्रामीण आबादी के साथ, पश्चिम बंगाल में प्रत्येक 68,000 लोगों के लिए एक पीएचसी है - 30,000 लोगों के साथ एक पीएचसी की निर्धारित संख्या के आधे से भी कम।

चुनिंदा भारतीय राज्यों में स्वास्थ्य संसाधन, 2016-17
State Primary Health Centres Required Primary Health Centres Functioning Shortfall In Primary Health Centres Doctors in Primary Health Centres Average Doctors Per Primary Health Centre
Assam 1112 1014 98 1048 1.03
Chhattisgarh 870 785 85 341 0.43
Haryana 501 366 135 429 1.17
Kerala 1141 849 292 1169 1.38
Maharashtra 2461 1814 647 2929 1.62
Uttar Pradesh 5183 3621 1562 2209 0.61
West Bengal 3046 914 2132 918 1

Source: Report of CAG (No. 25 of 2017)

2017 में, सरकारी अस्पताल में, भारत में जनसंख्या-डॉक्टर अनुपात 11,082:1 था। यह विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रति 10,000 आबादी पर 25 पेशेवरों की सिफारिश से 25 गुना अधिक है, जैसा कि इंडियास्पेंड ने 28 जनवरी, 2019 को बताया था।

आंकड़ों की कमी

सरकार की नीति थिंक टैंक और एसडीजी के कार्यान्वयन की देखरेख के लिए जिम्मेदार निकाय, नीति आयोग और राज्य सरकारों के परामर्श से सांख्यिकी मंत्रालय,को एसडीजी की निगरानी के लिए राष्ट्रीय संकेतक ढांचा तैयार करना था।

कैग की रिपोर्ट में कहा गया है कि 13 एसडीजी लक्ष्यों के लिए 306 राष्ट्रीय संकेतकों में से 137 का डेटा उपलब्ध नहीं था। रूपरेखा में स्वास्थ्य से संबंधित 50 संकेतक शामिल हैं, लेकिन इनमें से 23 के लिए डेटा-जैसे महिलाओं में गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के लिए स्क्रीनिंग और वायरल हेपेटाइटिस की घटना-उपलब्ध नहीं थे, जैसा कि रिपोर्ट में बताया गया है। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि लक्ष्य 3 (अच्छे स्वास्थ्य और कल्याण) के लिए केंद्र और राज्य दोनों स्तरों पर, एक व्यापक संकेतक ढांचे, डेटा स्रोतों की पहचान और असमान डेटा का उत्पादन अपर्याप्त प्रयासों का सबूत था।

15 मई, 2019 को इंडियास्पेंड की रिपोर्ट के अनुसार, "बेहतर लेखा-जोखा, अधिक साक्ष्य और अधिक जानकारी के साथ रिपोर्टिंग से मतदाताओं में जागरूकता बढ़ रही है और नीतिगत बहस को जिम्मेदार बना रही है। इससे केंद्र और राज्य सरकारों के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य डेटा की गुणवत्ता में सुधार होना लाजिमी है।"

(अली इंडियास्पेंड के रिपोर्टर हैं।)

यह आलेख मूलत: अंग्रेजी में 29 अगस्त 2019 को IndiaSpend.com पर प्रकाशित हुआ है।

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं।

नई दिल्ली: भारत को सार्वजनिक स्वास्थ्य व्यय के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए ‘लंबा रास्ता तय करना’ है। इसका प्राथमिक स्वास्थ्य ढांचा अपर्याप्त है और देश 2030 तक स्वास्थ्य के लिए सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) को प्राप्त करने के लिए अपनी प्रगति को ट्रैक करने के लिए डेटा की कमी का सामना कर रहा है, जैसा कि सरकार के ऑडिटर, भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (कैग) ने कहा है।

8 जुलाई, 2019 की रिपोर्ट में कैग ने कहा, " ये अंतर 2030 एजेंडा के प्रमुख उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए जोखिम का प्रतिनिधित्व करते हैं।"

रिपोर्ट में कहा गया है कि, "जबकि स्वास्थ्य मंत्रालय ने 2025 तक भारत के सार्वजनिक स्वास्थ्य व्यय को अपने सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 2.5 फीसदी तक बढ़ाने का प्रस्ताव रखा है, यह जीडीपी के 1.02-1.28 फीसदी के एक छोटे दायरे के भीतर बना हुआ है।"

भारत का सार्वजनिक स्वास्थ्य व्यय, 2009-10 से 2017-18 तक

इस रिपोर्ट के लिए, एसडीजी प्राप्त करने के लिए तैयारियों के लिए, कैग ने नीति आयोग, स्वास्थ्य मंत्रालय, सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय और 14 अन्य मंत्रालयों का ऑडिट किया। राज्यों के प्रदर्शन का विश्लेषण करने के लिए, सात राज्यों ( असम, छत्तीसगढ़, हरियाणा, केरल, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश (यूपी) और पश्चिम बंगाल ) को 2015-16 के लिए विभिन्न स्वास्थ्य सूचकांकों पर उनकी रैंकिंग के आधार पर चुना गया था।

नीति आयोग के तीन साल के एक्शन एजेंडा (2017-2020) ने 2019-20 तक केंद्र के स्वास्थ्य बजट में 1 लाख करोड़ रुपये (14.5 बिलियन डॉलर) की वृद्धि की परिकल्पना की। लेकिन, आवंटन कम हो गए हैं: भारत ने 2017-18 में 53,294 करोड़ रुपये ($ 7.7 बिलियन), 2018-19 में 56,045 करोड़ रुपये ($ 8.1 बिलियन) और 2019-20 में 65,038 करोड़ रुपये ($ 9.4 बिलियन) आवंटित किए, जैसा कि रिपोर्ट में कहा गया है।

एसडीजी के लाइन में फ्रेम की गई भारत की राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति 2017,वर्ष 2020 तक राज्यों के स्वास्थ्य व्यय को उनके वार्षिक बजट के 8 फीसदी से अधिक तक बढ़ानेका वर्णन करता है, लेकिन रिपोर्ट के अनुसार, सात राज्यों ने 2012-2017 की अवधि के लिए 3.29 फीसदी और 5.32 फीसदी के बीच खर्च का मूल्यांकन किया।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन ( जो समान, सस्ती और गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं के लिए सार्वभौमिक पहुंच का वादा करता है ) की परिकल्पना स्वास्थ्य लक्ष्य तक पहुंचने के लिए प्राथमिक इकाई के रूप में की गई थी: प्रति 100,000 जीवित जन्मों पर 70 से कम मौतों की मातृ मृत्यु अनुपात (एमएमआर), प्रति 1,000 जीवित जीवितों में 12 मौतों की नवजात मृत्यु दर (एनएमआर) और प्रति 1,000 जीवित जन्मों पर 25 लोगों की मृत्यु दर (यू5एमआर)।

जनगणना के आंकड़ों के अनुसार, 2017 में भारत की एमएमआर प्रति 100,000 जीवित जन्मों पर 130 मौतें हुईं, जबकि एनएमआर प्रति 1,000 जीवित जन्मों पर 24 और यू5एमआर प्रति 1,000 जीवित जन्मों पर 39 थीं, जैसा कि इंडियास्पेंड ने 20 सितंबर, 2018 को बताया था।

कैग की रिपोर्ट के अनुसार, बजट अनुमानों की तुलना में 2018-19 में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के आवंटन में 13.6 फीसदी की कमी आई है।

नेशनल हेल्थ मिशन के लिए फंडिंग

Source: Report of the Parliamentary Standing Committee, cited in the Comptroller & Auditor General’s report

आवंटन की जांच करते समय, स्वास्थ्य पर संसद की स्थायी समिति ने यह देखा था कि ये कमी स्वास्थ्य सुविधाओं के हालात को प्रभावित करेगी।

भारत की नवजात मृत्यु दर (प्रति 1,000 जीवित जन्मों पर 24 मौतें) वैश्विक औसत (18) से अधिक है। श्रीलंका (8), बांग्लादेश (18) और नेपाल (21) प्रति व्यक्ति आय कम होने के बावजूद बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं, जैसा कि इंडियास्पेंड ने 20 सितंबर, 2018 की रिपोर्ट में बताया है।

नेशनल हेल्थ प्रोफाइल-2018 में उद्धृत आंकड़ों के अनुसार, 2015 में, भारत ने अपने सकल घरेलू उत्पाद का 1 फीसदी सार्वजनिक स्वास्थ्य पर खर्च किया है, जो दक्षिण पूर्व एशिया क्षेत्र में दूसरा सबसे कम है। उसी वर्ष, मालदीव ने 9.4 फीसदी, श्रीलंका ने 1.6 फीसदी, भूटान ने 2.5 फीसदी और थाईलैंड ने 2.9 फीसदी खर्च किए हैं।

स्वास्थ्य पर सार्वजनिक व्यय- दक्षिण पूर्व एशिया

स्वास्थ्य पर राज्य की ओर से खर्च में अभी तक वृद्धि नहीं

स्वास्थ्य पर सकल घरेलू उत्पाद का 2.5 फीसदी खर्च करने के 2025 के लक्ष्य तक पहुंचने के लिए, राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति ने राज्यों को हर साल कम से कम 10 फीसदी प्राथमिक देखभाल पर अपना स्वास्थ्य खर्च बढ़ाना अनिवार्य किया है।

इसके अलावा, 4 फीसदी स्वास्थ्य और शिक्षा उपकर भी प्रस्तावित किया गया था जिसे लागू नहीं किया गया था। जैसा कि हमने कहा, नीति वर्ष 2020 तक राज्यों के स्वास्थ्य व्यय वर्ष को उनके वार्षिक बजट का 8 फीसदी से ज्यादा बढ़ाना भी निर्धारित करती है। फिर भी, कैग द्वारा इस रिपोर्ट के लिए अध्ययन किए गए सात राज्यों में से किसी ने भी 2017 तक यह राशि खर्च नहीं की थी।

चयनित भारतीय राज्यों में स्वास्थ्य व्यय, 2012-17

इसके अलावा, राज्यों के साथ एनएचएम के 29 फीसदी फंड को पिछले पांच सालों से 2016 तक खर्च नहीं किया गया था, जैसा कि इंडियास्पेंड ने 20 अगस्त, 2018 की रिपोर्ट में बताया है।

स्वास्थ्य में कमी से प्रगति प्रभावित

ग्रामीण भारत में २8 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में उप-केंद्रों, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (पीएचसी) और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों की संख्या में 24 फीसदी और 38 फीसदी के बीच की कमी है, जैसा कि राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन ( जो ग्रामीण भारत में सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं के वितरण को मजबूत करने का प्रयास करता है ) के तहत प्रजनन और बाल स्वास्थ्य पर कैग की 2017 की ऑडिट रिपोर्ट के आंकड़ों से पता चलता है।

2006 में निर्धारित भारतीय सार्वजनिक स्वास्थ्य मानकों के अनुसार, प्रति माह 20 से अधिक प्रसव की जिम्मेदारी के साथ,प्रत्येक पीएचसी में कम से कम दो चिकित्सा अधिकारियों की जरूरत है। कैग की रिपोर्ट में उद्धृत आंकड़ों के अनुसार, छत्तीसगढ़ के पीएचसी में कुल 341 डॉक्टर हैं, जिससे प्रति पीएचसी के लिए 0.43 डॉक्टर के आंकड़े आते हैं, यानी आवश्यकता से कम। रिपोर्ट में कहा गया है कि छत्तीसगढ़ और यूपी में मानव संसाधन की काफी कमी है।

शिशु और पांच वर्ष के अंदर मृत्यु दर रैंकिंग में सबसे खराब प्रदर्शन करने वाले राज्यों में से एक उत्तर प्रदेश है, जैसा कि इंडियास्पेंड ने 16 मार्च, 2017 को बताया था। जबकि यूपी में पीएचसी की 30 फीसदी की कमी है, पश्चिम बंगाल में 69 फीसदी की कमी है।

6 करोड़ की ग्रामीण आबादी के साथ, पश्चिम बंगाल में प्रत्येक 68,000 लोगों के लिए एक पीएचसी है - 30,000 लोगों के साथ एक पीएचसी की निर्धारित संख्या के आधे से भी कम।

चुनिंदा भारतीय राज्यों में स्वास्थ्य संसाधन, 2016-17
State Primary Health Centres Required Primary Health Centres Functioning Shortfall In Primary Health Centres Doctors in Primary Health Centres Average Doctors Per Primary Health Centre
Assam 1112 1014 98 1048 1.03
Chhattisgarh 870 785 85 341 0.43
Haryana 501 366 135 429 1.17
Kerala 1141 849 292 1169 1.38
Maharashtra 2461 1814 647 2929 1.62
Uttar Pradesh 5183 3621 1562 2209 0.61
West Bengal 3046 914 2132 918 1

Source: Report of CAG (No. 25 of 2017)

2017 में, सरकारी अस्पताल में, भारत में जनसंख्या-डॉक्टर अनुपात 11,082:1 था। यह विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रति 10,000 आबादी पर 25 पेशेवरों की सिफारिश से 25 गुना अधिक है, जैसा कि इंडियास्पेंड ने 28 जनवरी, 2019 को बताया था।

आंकड़ों की कमी

सरकार की नीति थिंक टैंक और एसडीजी के कार्यान्वयन की देखरेख के लिए जिम्मेदार निकाय, नीति आयोग और राज्य सरकारों के परामर्श से सांख्यिकी मंत्रालय,को एसडीजी की निगरानी के लिए राष्ट्रीय संकेतक ढांचा तैयार करना था।

कैग की रिपोर्ट में कहा गया है कि 13 एसडीजी लक्ष्यों के लिए 306 राष्ट्रीय संकेतकों में से 137 का डेटा उपलब्ध नहीं था। रूपरेखा में स्वास्थ्य से संबंधित 50 संकेतक शामिल हैं, लेकिन इनमें से 23 के लिए डेटा-जैसे महिलाओं में गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के लिए स्क्रीनिंग और वायरल हेपेटाइटिस की घटना-उपलब्ध नहीं थे, जैसा कि रिपोर्ट में बताया गया है। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि लक्ष्य 3 (अच्छे स्वास्थ्य और कल्याण) के लिए केंद्र और राज्य दोनों स्तरों पर, एक व्यापक संकेतक ढांचे, डेटा स्रोतों की पहचान और असमान डेटा का उत्पादन अपर्याप्त प्रयासों का सबूत था।

15 मई, 2019 को इंडियास्पेंड की रिपोर्ट के अनुसार, "बेहतर लेखा-जोखा, अधिक साक्ष्य और अधिक जानकारी के साथ रिपोर्टिंग से मतदाताओं में जागरूकता बढ़ रही है और नीतिगत बहस को जिम्मेदार बना रही है। इससे केंद्र और राज्य सरकारों के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य डेटा की गुणवत्ता में सुधार होना लाजिमी है।"

(अली इंडियास्पेंड के रिपोर्टर हैं।)

यह आलेख मूलत: अंग्रेजी में 29 अगस्त 2019 को IndiaSpend.com पर प्रकाशित हुआ है।

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं।