भारत में अंतरराज्यीय प्रवासियों को नागरिकता से कैसे वंचित रखती हैं राज्य सरकारें

तेलंगाना में एक मराठी कार्यकर्ता राम दास, निजामाबाद जिले में एक ईंट के भट्टे पर अपनी झोपड़ी के बाहर।

मुंबई: अंतरराज्यीय प्रवासी नीति सूचकांक-2019 (IMPEX 2019) पर प्रवासी अनुकूल नीतियों के लिए केरल सात राज्यों में से पहले स्थान पर रहा है। यह मुंबई-आधारित गैर-लाभकारी संस्था ‘इंडिया माइग्रेशन नाउ’ द्वारा संकलित एक सूचकांक है, जो राज्य के बाहर के प्रवासियों के एकीकरण के लिए राज्य-स्तरीय नीतियों का विश्लेषण करता है। केरल (62) की तुलना में 100 में से 42 अंक के साथ महाराष्ट्र दूसरे स्थान पर है, और पंजाब 40 के स्कोर के साथ तीसरे स्थान पर आया है।

भारत में एक राज्य के भीतर और पूरे राज्य में आंतरिक प्रवासन, घरों की सामाजिक-आर्थिक स्थिति में सुधार करता है, और उन दोनों क्षेत्रों को लाभान्वित करता है, जहां से वे प्रवास करते हैं और जहां वे प्रवास करते हैं,जैसा कि रिसर्च में कहा गया है। अध्ययन के अनुसार,फिर भी, आर्थिक विकास के एक समान चरण में, भारत में अंतरराज्यीय प्रवास अन्य देशों की तुलना में कम है। 2016 के विश्व बैंक के एक अध्ययन ने देश के कई हिस्सों में अप्रवासी नीतियों को आंशिक रुप से इसके लिए जिम्मेदार ठहराया है।

प्रवासन के निम्न स्तर का परिणाम, विशेष रूप से भारतीय राज्यों के बीच, आंशिक रूप से देश की कम शहरीकरण दर के रुप में हुई है। 2011 में 31 फीसदी। यह दर प्रति व्यक्ति निम्न सकल घरेलू उत्पाद वाले देशों की तुलना में कम है, जैसे घाना में 51 फीसदी और वियतनाम में 32 फीसदी, जैसा कि एक डेटा वेबसाइट, ऑवर वर्ल्ड इन डेटा से पाए गए आंकड़ों से पता चलता है।

संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक और सामाजिक मामलों के विभाग द्वारा 2000 से 2010 के बीच आंतरिक प्रवासन दरों की तुलना में, भारत लगभग 80 देशों के नमूने में अंतिम स्थान पर रहा।

आईएमपीइएक्स (IMPEX)-2019- यह मापता है कि क्या राज्य में निवासियों और प्रवासियों के लिए निम्नलिखित मामलों में समान नीतियां हैं: श्रम नीतियां, बाल कल्याण, आवास, सामाजिक कल्याण, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता और राजनीतिक भागीदारी। इसमें यह भी मापा गया है कि, राज्य के निवासियों के साथ समानता रखने के लिए, राज्य को जहां भी प्रवासियों के लिए जरूरत हो, वहां अतिरिक्त और तदर्थ नीति है या नहीं।

सूचकांक में किसी विशेष राज्य में अंतरराज्यीय प्रवासियों के एकीकरण की सीमा को समझने के लिए, आठ नीति क्षेत्रों में 63 नीति संकेतक, प्रश्नों या प्रश्नों के रूप में तैयार किए गए हैं।

राज्यों में प्रवासियों के प्रति उदासीनता प्रवास को प्रतिबंधित कर सकता है

मुक्त प्रवास के सिद्धांत भारतीय संविधान के अनुच्छेद 19 (1) के खंड (डी) और (ई) में निहित हैं और सभी नागरिकों को भारत के पूरे क्षेत्र में स्वतंत्र रूप से आने-जाने के मौलिक अधिकार की गारंटी देते हैं, साथ ही साथ भारत के किसी भी हिस्से में किसी भी स्थान पर निवास कर सकते हैं।

इसके अलावा, जैसे कि केरल, महाराष्ट्र और तमिलनाडु जैसे कुछ राज्यों में जैसे-जैसे समय बीतेगा,उनके पास अधिक संख्या में आश्रित बुजुर्ग और कम कामकाजी वयस्क होंगे।इसी समय, बिहार और उत्तर प्रदेश जैसे युवा राज्यों में काम करने वाले वयस्कों की संख्या ज्यादा होगी।अपनी अर्थव्यवस्था को बनाए रखने के लिए, आबादी की बढ़ती उम्र वाले राज्यों को छोटे राज्यों के प्रवासियों को आकर्षित करना होगा।

लेकिन आईएमपीइएक्स मूल्यांकन के परिणामों से राज्य स्तर के नीति निर्माताओं द्वारा प्रवासियों के प्रति व्यापक उदासीनता और भेदभाव का पता चलता है।

गंतव्य राज्य में एकीकरण की संभावना की कमी प्रवासियों को दूसरे राज्य में जाने से रोक सकती है। केंद्र सरकार की योजनाओं का लाभ अक्सर राज्य या स्थानीय सरकारों (उदाहरण के लिए: सार्वजनिक वितरण प्रणाली) के माध्यम से नागरिकों को दिया जाता है, जो उन्हें केवल उनके स्थायी निवासियों या ‘अधिवास’ के लिए उपलब्ध करा

सकता है। ऐसी स्थिति में, अंतरराज्यीय प्रवासियों को अपने मूल राज्य की सीमाओं को पार करने पर अपने अधिकारों को खोना पड़ता है।

भारतीय राज्यों में प्रवासी जनसंख्या का प्रतिशत (2011)

भारत के प्रत्येक राज्य में सार्वजनिक क्षेत्र के रोजगार, तृतीयक शिक्षा और सामाजिक कल्याण योजनाओं जैसे कि खाद्यान्न के लिए सार्वजनिक वितरण प्रणाली जैसे क्षेत्रों में राज्य के निवासियों या अधिवासियों के लिए आरक्षण है। लगभग सभी राज्य प्रवासियों की जरूरतों के लिए उदासीन हैं, जो प्रवासियों को नौकरियों, शिक्षा, कल्याण अधिकारों, आवास, स्वास्थ्य लाभ और यहां तक ​​कि चुनावों में मतदान करने से रोकते है।

अक्सर, भले ही राज्य लाभ और समर्थन तक प्रवासियों की पहुंच का प्रावधान करते हैं,प्रवासियों को संबंधित योजनाओं और नीतियों से अवगत कराने या इस पहुंच को सुविधाजनक बनाने के लिए कोई उपाय नहीं किया गया है।

माइग्रेशन इंडेक्स पर केरल का स्कोर अधिक क्यों?

प्रवासी-विशिष्ट श्रम कल्याण योजनाएं, स्वास्थ्य प्रावधान और बाल नीतियां सभी केरल की राज्य नीति का एक हिस्सा हैं।अपने प्रवासी कार्यबल को शिक्षा और कल्याण संबंधी सेवाएं प्रदान करने के लिए वैकल्पिक पहचान पत्र जारी करने जैसी पहल, स्थानीय रूप से ‘अतिथि कार्यकर्ता’ कहा जाता है, भारत में अद्वितीय हैं। श्रमिकों का ऐसा विचार केरल के श्रम-अनुकूल राजनीतिक और संस्थागत पारिस्थितिक तंत्र की विरासत के साथ-साथ खाड़ी देशों के साथ अपने स्वयं के दीर्घकालिक प्रवास संबंध को जोड़ता है, जहां 89.2 फीसदी केरल के प्रवासी रहते हैं।

ये नीतियां इसके जनसांख्यिकीय संक्रमण का जवाब भी दे रही हैं ( बढ़ती कामकाजी आबादी के दौर से गुज़रते हुए, केरल में अब बढ़ती उम्र वालों की बड़ी आबादी है ) और केरल की अर्थव्यवस्था को श्रम बाजार की जरूरत है। केरल में, अन्य राज्यों से, खासकर पश्चिम बंगाल और उत्तर पूर्व से परिवारों का अधिक और स्थायी प्रवास है, उसका आंशिक रूप से कारण ऐसा समावेशी वातावरण भी है।

हालांकि केरल सभी नीति क्षेत्रों में आईएमपीइएक्स औसत से लगातार ऊपर है, लेकिन इसमें अभी काफी सुधार की आवश्यकता है।प्रवासियों के राजनीतिक समावेश की सुविधा के लिए प्रयासों की अनुपस्थिति और राज्य के समग्र स्कोर को नीचे लाने के लिए गैर-भेदभावपूर्ण पहुंच सुनिश्चित करना।

प्रवासियों की उच्च संख्या वाले राज्यों में प्रवासियों को लेकर सहयोगी नीतियां नहीं

2011 की जनगणना के आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, केरल, महाराष्ट्र, पंजाब और तमिलनाडु भारत में प्रवासियों के लिए प्रमुख गंतव्य राज्य हैं। लेकिन प्रवासियों को इन राज्यों में बड़ी चुनौतियों और बाधाओं का सामना करना पड़ता है जैसा कि उनकी एजेंसी विवश है और वे अपनी आजीविका के लिए अपने नेटवर्क और नियोक्ताओं पर पूरी तरह से निर्भर हैं। 

प्रवासियों को राज्य स्तर पर बहुत कम या कोई समर्थन नहीं है और अक्सर किसी भी परेशानी के लिए स्थानीय कानून प्रवर्तन और राजनीतिज्ञों द्वारा बलि का बकरा बनाया जाता है। उन्हें कम भुगतान मिलता है, कम सेवाएं मिलती हैं और पूरी तरह से उत्पादक होने में असमर्थ हैं।

भारत भर के अंतरराज्यीय प्रवासियों के साथ साक्षात्कार ने उनके जीवन की गुणवत्ता और अंततः घर वापस जाने की तड़प के बारे में व्यापक निराशा प्रकट की।

ऐसे ही एक शख्स थे राम दास। वह महाराष्ट्र के निवासी हैं और अपने परिवार के साथ तेलंगाना में प्रतिवर्ष प्रवास करते हैं। वहां निजामाबाद जिले के ईंट भट्टों में काम करते हैं। राम का परिवार, उनके पैतृक शहर लातूर के अन्य कई प्रवासी परिवारों के साथ, झोपड़ियों में रहता है, जो उनलोगों ने ईंट भट्ठे की जगह पर बनाई है। तेलंगाना में, राम के बच्चे स्थानीय स्कूल में जाते हैं और अब मराठी की तुलना में बेहतर तेलगु बोलते हैं।

हालांकि, उनके बच्चे शिक्षा तो प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन उनका परिवार तेलंगाना में स्वास्थ्य और सामाजिक सुरक्षा तक नहीं पहुंच सकता है, क्योंकि वह राज्य का निवासी नहीं है। उनके जैसे हजारों प्रवासी अपने गंतव्य राज्यों की आर्थिक वृद्धि में योगदान करते हैं, लेकिन वहां से कुछ ही सामाजिक कल्याण लाभ प्राप्त करते हैं।

कुल मिलाकर, महाराष्ट्र, पंजाब और हरियाणा में प्रवासियों के लिए तमिलनाडु, दिल्ली और गुजरात की तुलना में थोड़ा बेहतर नीति परिदृश्य है।

उदाहरण के लिए, आवास नीति के मानदंडों में, पंजाब का स्कोर 42 है, जबकि गुजरात का स्कोर 17 है। पंजाब के इंटर स्टेट वर्कर्स नियम, 1983 (रोजगार के विनियमन और कार्य की शर्तें) ठेकेदारों को अपने प्रवासी श्रमिकों के लिए आवास की व्यवस्था करने के लिए मजबूर करते हैं। इसके अलावा, पंजाब की शहरी आवास योजना झुग्गी निवासियों को आवास प्रदान करती है, साथ ही प्रवासियों को भी लाभ मिलता है।

हालांकि, गुजरात में, प्रवासियों को केवल आराम शेड और स्थायी आवासीय आवास बनाने के लिए सहायता मिलती है और इस सहायता के परिणामों को विस्तार देने और इसे आसान बनाने के लिए कोई उपाय साथ नहीं हैं, जबकि बाकी आबादी के लिए उपलब्ध आवास के प्रावधान प्रवासियों को बाहर रखते हैं।

1991 के बाद भारत में अंतरराज्यीय प्रवास में वृद्धि

हालांकि, सभी बाधाओं के बावजूद, पिछले दो दशकों में भारत में अंतरराज्यीय प्रवास में वृद्धि हुई है। जनगणना 1991 के अनुसार 11.08 फीसदी से लेकर जनगणना 2011 तक 12.06 फीसदी। फिर भी, यह अभी भी इन्ट्रस्टेट प्रवासन से कम है। यह वृद्धि घटते गरीबी के स्तर के कारण है। (धनी लोग अधिक राज्यों में पलायन करते हैं)।

लेकिन यह प्रवासन नीति में सुधार की तुलना में भारत में व्यापक अंतर-आय और धन अंतराल का प्रतिबिंब भी है।

आय और बढ़ती आकांक्षाओं के बीच उच्च असमानता के साथ, वैकल्पिक व्यवसाय और जीवनशैली की तलाश में परिवार अब और आगे पलायन कर रहे हैं। अधिकांश अंतरराज्यीय प्रवासियों को शहरी गंतव्यों (जहां अधिकांश वैकल्पिक नौकरियां और जीवन शैली हैं) में समाप्त होता है, जबकि राज्य के भीतर अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में आमतौर पर अंतर्राज्यीय प्रवास होता है।

भारत में अंतरराज्यीय प्रवास से बड़ा राज्य प्रवास

2009 में, भारतीय श्रम बल में 10 करोड़ आंतरिक श्रमिक शामिल थे, जैसा कि 2009 में प्रिया देशिंगकर और शाहीन अख्तर द्वारा किए गए अध्ययन में अनुमान लगाया गया था। 2009-2018 के बीच इन संख्याओं में वृद्धि नहीं होने के साथ भी, आज प्रवासी कम से कम 19.6 फीसदी भारतीय श्रम शक्ति का गठन करते हैं। 2009 के अध्ययन के अनुसार, 2009 में प्रवासियों ने भारत की जीडीपी में 10 फीसदी का योगदान दिया।

हमारे वर्तमान रिसर्च के आधार पर,राज्यों के भीतर लघु अवधि (1-3 महीने) का मौसमी प्रवास, अक्सर एक ही जिले के भीतर, भारत में प्रमुख प्रवासन रणनीति है। 2016 विश्व बैंक के एक अध्ययन में कहा गया है, "एक ही राज्य के पड़ोसी जिलों के बीच औसत प्रवासन राज्य की सीमा के विभिन्न किनारों पर पड़ोसी जिलों की तुलना में कम से कम 50 फीसदी ज्यादा था।"

इन्ट्रस्टेट माइग्रेशन के के कई कारण हैं, लेकिन मुख्य कारण कम आय वाले परिवारों की प्रमुखता है, लंबी दूरी के प्रवास की सुविधा के लिए सामाजिक नेटवर्क का सीमित आकार और स्थानीय प्रकृति अपर्याप्त है और निषेधात्मक लागत और जोखिम दूर के क्षेत्रों की ओर पलायन में शामिल हैं।

इंडिया माइग्रेशन नाउ की भारत में सूक्ष्म अध्ययनों और व्यापक अंतरराष्ट्रीय शैक्षणिक सहमति की समीक्षा के आधार पर एक निष्कर्ष सामने आया है कि आमतौर पर, कम आय वाले और ऐतिहासिक रूप से पिछड़े समुदाय के लोग छोटे समय और छोटी दूरी के लिए पलायन करते हैं, आमतौर पर राज्य के भीतर ही, जबकि अंतरराज्यीय और अंतरराष्ट्रीय प्रवास का अधिक संपन्न और विशेषाधिकार प्राप्त परिवारों में प्रभुत्व होता है।

(अग्रवाल, सिंह और मित्रा, मुुबई स्थित माइग्रेशन डेटा, रिसर्च और गैर-लाभकारी संस्था इंडिया माइग्रेशन नाउ से जुड़े शोधकर्ता हैं)

यह आलेख मूलत: अंग्रेजी में 26 अगस्त 2019 को IndiaSpend.com पर प्रकाशित हुआ है।

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं।

मुंबई: अंतरराज्यीय प्रवासी नीति सूचकांक-2019 (IMPEX 2019) पर प्रवासी अनुकूल नीतियों के लिए केरल सात राज्यों में से पहले स्थान पर रहा है। यह मुंबई-आधारित गैर-लाभकारी संस्था ‘इंडिया माइग्रेशन नाउ’ द्वारा संकलित एक सूचकांक है, जो राज्य के बाहर के प्रवासियों के एकीकरण के लिए राज्य-स्तरीय नीतियों का विश्लेषण करता है। केरल (62) की तुलना में 100 में से 42 अंक के साथ महाराष्ट्र दूसरे स्थान पर है, और पंजाब 40 के स्कोर के साथ तीसरे स्थान पर आया है।

भारत में एक राज्य के भीतर और पूरे राज्य में आंतरिक प्रवासन, घरों की सामाजिक-आर्थिक स्थिति में सुधार करता है, और उन दोनों क्षेत्रों को लाभान्वित करता है, जहां से वे प्रवास करते हैं और जहां वे प्रवास करते हैं,जैसा कि रिसर्च में कहा गया है। अध्ययन के अनुसार,फिर भी, आर्थिक विकास के एक समान चरण में, भारत में अंतरराज्यीय प्रवास अन्य देशों की तुलना में कम है। 2016 के विश्व बैंक के एक अध्ययन ने देश के कई हिस्सों में अप्रवासी नीतियों को आंशिक रुप से इसके लिए जिम्मेदार ठहराया है।

प्रवासन के निम्न स्तर का परिणाम, विशेष रूप से भारतीय राज्यों के बीच, आंशिक रूप से देश की कम शहरीकरण दर के रुप में हुई है। 2011 में 31 फीसदी। यह दर प्रति व्यक्ति निम्न सकल घरेलू उत्पाद वाले देशों की तुलना में कम है, जैसे घाना में 51 फीसदी और वियतनाम में 32 फीसदी, जैसा कि एक डेटा वेबसाइट, ऑवर वर्ल्ड इन डेटा से पाए गए आंकड़ों से पता चलता है।

संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक और सामाजिक मामलों के विभाग द्वारा 2000 से 2010 के बीच आंतरिक प्रवासन दरों की तुलना में, भारत लगभग 80 देशों के नमूने में अंतिम स्थान पर रहा।

आईएमपीइएक्स (IMPEX)-2019- यह मापता है कि क्या राज्य में निवासियों और प्रवासियों के लिए निम्नलिखित मामलों में समान नीतियां हैं: श्रम नीतियां, बाल कल्याण, आवास, सामाजिक कल्याण, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता और राजनीतिक भागीदारी। इसमें यह भी मापा गया है कि, राज्य के निवासियों के साथ समानता रखने के लिए, राज्य को जहां भी प्रवासियों के लिए जरूरत हो, वहां अतिरिक्त और तदर्थ नीति है या नहीं।

सूचकांक में किसी विशेष राज्य में अंतरराज्यीय प्रवासियों के एकीकरण की सीमा को समझने के लिए, आठ नीति क्षेत्रों में 63 नीति संकेतक, प्रश्नों या प्रश्नों के रूप में तैयार किए गए हैं।

राज्यों में प्रवासियों के प्रति उदासीनता प्रवास को प्रतिबंधित कर सकता है

मुक्त प्रवास के सिद्धांत भारतीय संविधान के अनुच्छेद 19 (1) के खंड (डी) और (ई) में निहित हैं और सभी नागरिकों को भारत के पूरे क्षेत्र में स्वतंत्र रूप से आने-जाने के मौलिक अधिकार की गारंटी देते हैं, साथ ही साथ भारत के किसी भी हिस्से में किसी भी स्थान पर निवास कर सकते हैं।

इसके अलावा, जैसे कि केरल, महाराष्ट्र और तमिलनाडु जैसे कुछ राज्यों में जैसे-जैसे समय बीतेगा,उनके पास अधिक संख्या में आश्रित बुजुर्ग और कम कामकाजी वयस्क होंगे।इसी समय, बिहार और उत्तर प्रदेश जैसे युवा राज्यों में काम करने वाले वयस्कों की संख्या ज्यादा होगी।अपनी अर्थव्यवस्था को बनाए रखने के लिए, आबादी की बढ़ती उम्र वाले राज्यों को छोटे राज्यों के प्रवासियों को आकर्षित करना होगा।

लेकिन आईएमपीइएक्स मूल्यांकन के परिणामों से राज्य स्तर के नीति निर्माताओं द्वारा प्रवासियों के प्रति व्यापक उदासीनता और भेदभाव का पता चलता है।

गंतव्य राज्य में एकीकरण की संभावना की कमी प्रवासियों को दूसरे राज्य में जाने से रोक सकती है। केंद्र सरकार की योजनाओं का लाभ अक्सर राज्य या स्थानीय सरकारों (उदाहरण के लिए: सार्वजनिक वितरण प्रणाली) के माध्यम से नागरिकों को दिया जाता है, जो उन्हें केवल उनके स्थायी निवासियों या ‘अधिवास’ के लिए उपलब्ध करा

सकता है। ऐसी स्थिति में, अंतरराज्यीय प्रवासियों को अपने मूल राज्य की सीमाओं को पार करने पर अपने अधिकारों को खोना पड़ता है।

भारतीय राज्यों में प्रवासी जनसंख्या का प्रतिशत (2011)

भारत के प्रत्येक राज्य में सार्वजनिक क्षेत्र के रोजगार, तृतीयक शिक्षा और सामाजिक कल्याण योजनाओं जैसे कि खाद्यान्न के लिए सार्वजनिक वितरण प्रणाली जैसे क्षेत्रों में राज्य के निवासियों या अधिवासियों के लिए आरक्षण है। लगभग सभी राज्य प्रवासियों की जरूरतों के लिए उदासीन हैं, जो प्रवासियों को नौकरियों, शिक्षा, कल्याण अधिकारों, आवास, स्वास्थ्य लाभ और यहां तक ​​कि चुनावों में मतदान करने से रोकते है।

अक्सर, भले ही राज्य लाभ और समर्थन तक प्रवासियों की पहुंच का प्रावधान करते हैं,प्रवासियों को संबंधित योजनाओं और नीतियों से अवगत कराने या इस पहुंच को सुविधाजनक बनाने के लिए कोई उपाय नहीं किया गया है।

माइग्रेशन इंडेक्स पर केरल का स्कोर अधिक क्यों?

प्रवासी-विशिष्ट श्रम कल्याण योजनाएं, स्वास्थ्य प्रावधान और बाल नीतियां सभी केरल की राज्य नीति का एक हिस्सा हैं।अपने प्रवासी कार्यबल को शिक्षा और कल्याण संबंधी सेवाएं प्रदान करने के लिए वैकल्पिक पहचान पत्र जारी करने जैसी पहल, स्थानीय रूप से ‘अतिथि कार्यकर्ता’ कहा जाता है, भारत में अद्वितीय हैं। श्रमिकों का ऐसा विचार केरल के श्रम-अनुकूल राजनीतिक और संस्थागत पारिस्थितिक तंत्र की विरासत के साथ-साथ खाड़ी देशों के साथ अपने स्वयं के दीर्घकालिक प्रवास संबंध को जोड़ता है, जहां 89.2 फीसदी केरल के प्रवासी रहते हैं।

ये नीतियां इसके जनसांख्यिकीय संक्रमण का जवाब भी दे रही हैं ( बढ़ती कामकाजी आबादी के दौर से गुज़रते हुए, केरल में अब बढ़ती उम्र वालों की बड़ी आबादी है ) और केरल की अर्थव्यवस्था को श्रम बाजार की जरूरत है। केरल में, अन्य राज्यों से, खासकर पश्चिम बंगाल और उत्तर पूर्व से परिवारों का अधिक और स्थायी प्रवास है, उसका आंशिक रूप से कारण ऐसा समावेशी वातावरण भी है।

हालांकि केरल सभी नीति क्षेत्रों में आईएमपीइएक्स औसत से लगातार ऊपर है, लेकिन इसमें अभी काफी सुधार की आवश्यकता है।प्रवासियों के राजनीतिक समावेश की सुविधा के लिए प्रयासों की अनुपस्थिति और राज्य के समग्र स्कोर को नीचे लाने के लिए गैर-भेदभावपूर्ण पहुंच सुनिश्चित करना।

प्रवासियों की उच्च संख्या वाले राज्यों में प्रवासियों को लेकर सहयोगी नीतियां नहीं

2011 की जनगणना के आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, केरल, महाराष्ट्र, पंजाब और तमिलनाडु भारत में प्रवासियों के लिए प्रमुख गंतव्य राज्य हैं। लेकिन प्रवासियों को इन राज्यों में बड़ी चुनौतियों और बाधाओं का सामना करना पड़ता है जैसा कि उनकी एजेंसी विवश है और वे अपनी आजीविका के लिए अपने नेटवर्क और नियोक्ताओं पर पूरी तरह से निर्भर हैं। 

प्रवासियों को राज्य स्तर पर बहुत कम या कोई समर्थन नहीं है और अक्सर किसी भी परेशानी के लिए स्थानीय कानून प्रवर्तन और राजनीतिज्ञों द्वारा बलि का बकरा बनाया जाता है। उन्हें कम भुगतान मिलता है, कम सेवाएं मिलती हैं और पूरी तरह से उत्पादक होने में असमर्थ हैं।

भारत भर के अंतरराज्यीय प्रवासियों के साथ साक्षात्कार ने उनके जीवन की गुणवत्ता और अंततः घर वापस जाने की तड़प के बारे में व्यापक निराशा प्रकट की।

ऐसे ही एक शख्स थे राम दास। वह महाराष्ट्र के निवासी हैं और अपने परिवार के साथ तेलंगाना में प्रतिवर्ष प्रवास करते हैं। वहां निजामाबाद जिले के ईंट भट्टों में काम करते हैं। राम का परिवार, उनके पैतृक शहर लातूर के अन्य कई प्रवासी परिवारों के साथ, झोपड़ियों में रहता है, जो उनलोगों ने ईंट भट्ठे की जगह पर बनाई है। तेलंगाना में, राम के बच्चे स्थानीय स्कूल में जाते हैं और अब मराठी की तुलना में बेहतर तेलगु बोलते हैं।

हालांकि, उनके बच्चे शिक्षा तो प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन उनका परिवार तेलंगाना में स्वास्थ्य और सामाजिक सुरक्षा तक नहीं पहुंच सकता है, क्योंकि वह राज्य का निवासी नहीं है। उनके जैसे हजारों प्रवासी अपने गंतव्य राज्यों की आर्थिक वृद्धि में योगदान करते हैं, लेकिन वहां से कुछ ही सामाजिक कल्याण लाभ प्राप्त करते हैं।

कुल मिलाकर, महाराष्ट्र, पंजाब और हरियाणा में प्रवासियों के लिए तमिलनाडु, दिल्ली और गुजरात की तुलना में थोड़ा बेहतर नीति परिदृश्य है।

उदाहरण के लिए, आवास नीति के मानदंडों में, पंजाब का स्कोर 42 है, जबकि गुजरात का स्कोर 17 है। पंजाब के इंटर स्टेट वर्कर्स नियम, 1983 (रोजगार के विनियमन और कार्य की शर्तें) ठेकेदारों को अपने प्रवासी श्रमिकों के लिए आवास की व्यवस्था करने के लिए मजबूर करते हैं। इसके अलावा, पंजाब की शहरी आवास योजना झुग्गी निवासियों को आवास प्रदान करती है, साथ ही प्रवासियों को भी लाभ मिलता है।

हालांकि, गुजरात में, प्रवासियों को केवल आराम शेड और स्थायी आवासीय आवास बनाने के लिए सहायता मिलती है और इस सहायता के परिणामों को विस्तार देने और इसे आसान बनाने के लिए कोई उपाय साथ नहीं हैं, जबकि बाकी आबादी के लिए उपलब्ध आवास के प्रावधान प्रवासियों को बाहर रखते हैं।

1991 के बाद भारत में अंतरराज्यीय प्रवास में वृद्धि

हालांकि, सभी बाधाओं के बावजूद, पिछले दो दशकों में भारत में अंतरराज्यीय प्रवास में वृद्धि हुई है। जनगणना 1991 के अनुसार 11.08 फीसदी से लेकर जनगणना 2011 तक 12.06 फीसदी। फिर भी, यह अभी भी इन्ट्रस्टेट प्रवासन से कम है। यह वृद्धि घटते गरीबी के स्तर के कारण है। (धनी लोग अधिक राज्यों में पलायन करते हैं)।

लेकिन यह प्रवासन नीति में सुधार की तुलना में भारत में व्यापक अंतर-आय और धन अंतराल का प्रतिबिंब भी है।

आय और बढ़ती आकांक्षाओं के बीच उच्च असमानता के साथ, वैकल्पिक व्यवसाय और जीवनशैली की तलाश में परिवार अब और आगे पलायन कर रहे हैं। अधिकांश अंतरराज्यीय प्रवासियों को शहरी गंतव्यों (जहां अधिकांश वैकल्पिक नौकरियां और जीवन शैली हैं) में समाप्त होता है, जबकि राज्य के भीतर अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में आमतौर पर अंतर्राज्यीय प्रवास होता है।

भारत में अंतरराज्यीय प्रवास से बड़ा राज्य प्रवास

2009 में, भारतीय श्रम बल में 10 करोड़ आंतरिक श्रमिक शामिल थे, जैसा कि 2009 में प्रिया देशिंगकर और शाहीन अख्तर द्वारा किए गए अध्ययन में अनुमान लगाया गया था। 2009-2018 के बीच इन संख्याओं में वृद्धि नहीं होने के साथ भी, आज प्रवासी कम से कम 19.6 फीसदी भारतीय श्रम शक्ति का गठन करते हैं। 2009 के अध्ययन के अनुसार, 2009 में प्रवासियों ने भारत की जीडीपी में 10 फीसदी का योगदान दिया।

हमारे वर्तमान रिसर्च के आधार पर,राज्यों के भीतर लघु अवधि (1-3 महीने) का मौसमी प्रवास, अक्सर एक ही जिले के भीतर, भारत में प्रमुख प्रवासन रणनीति है। 2016 विश्व बैंक के एक अध्ययन में कहा गया है, "एक ही राज्य के पड़ोसी जिलों के बीच औसत प्रवासन राज्य की सीमा के विभिन्न किनारों पर पड़ोसी जिलों की तुलना में कम से कम 50 फीसदी ज्यादा था।"

इन्ट्रस्टेट माइग्रेशन के के कई कारण हैं, लेकिन मुख्य कारण कम आय वाले परिवारों की प्रमुखता है, लंबी दूरी के प्रवास की सुविधा के लिए सामाजिक नेटवर्क का सीमित आकार और स्थानीय प्रकृति अपर्याप्त है और निषेधात्मक लागत और जोखिम दूर के क्षेत्रों की ओर पलायन में शामिल हैं।

इंडिया माइग्रेशन नाउ की भारत में सूक्ष्म अध्ययनों और व्यापक अंतरराष्ट्रीय शैक्षणिक सहमति की समीक्षा के आधार पर एक निष्कर्ष सामने आया है कि आमतौर पर, कम आय वाले और ऐतिहासिक रूप से पिछड़े समुदाय के लोग छोटे समय और छोटी दूरी के लिए पलायन करते हैं, आमतौर पर राज्य के भीतर ही, जबकि अंतरराज्यीय और अंतरराष्ट्रीय प्रवास का अधिक संपन्न और विशेषाधिकार प्राप्त परिवारों में प्रभुत्व होता है।

(अग्रवाल, सिंह और मित्रा, मुुबई स्थित माइग्रेशन डेटा, रिसर्च और गैर-लाभकारी संस्था इंडिया माइग्रेशन नाउ से जुड़े शोधकर्ता हैं)

यह आलेख मूलत: अंग्रेजी में 26 अगस्त 2019 को IndiaSpend.com पर प्रकाशित हुआ है।

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं।