1999 के बाद से, हर आम चुनाव के बाद क्यों बढ़ता है निफ्टी और सेंसेक्स?

पुणे: भारत के प्रमुख शेयर बाजार सूचकांकों, निफ्टी और सेंसेक्स में, पिछले छह महीनों की तुलना में 1999 और 2014 के बीच सभी चार लोकसभा चुनावों के छह महीने बाद वृद्धि देखी गई। यह जानकारी इंडियास्पेंड के विश्लेषण में सामने आई है।

पिछले चार लोकसभा चुनावों के दौरान हमने तीन प्रमुख तारीखों पर निफ्टी और सेंसेक्स के स्तर का विश्लेषण किया - मतदान के पहले दिन से छह महीने पहले(चुनाव से पहले),मतदान के पहले दिन (चुनाव के दौरान), और चुनाव के पहले दिन के छह महीने बाद (चुनाव के बाद)।

पिछले छह महीनों की तुलना में, निफ्टी और सेंसेक्स ने इनमें से प्रत्येक आम चुनाव के बाद छह महीने में औसतन 40.8 फीसदी की वृद्धि दर्ज की।

निफ्टी यानी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) फिफ्टी, 1 अप्रैल 1996 को लॉन्च किया गया था, और यह एनएसई में सूचीबद्ध 12 क्षेत्रों में 50 प्रमुख भारतीय कंपनियों के भारित औसत का प्रतिनिधित्व करता है। एसएंडपी बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) सेंसिटिव इंडेक्स यानी सेंसेक्स, जो बीएसई में सूचीबद्ध 30 प्रमुख भारतीय कंपनियों का सूचकांक है, 1986 में स्थापित किया गया था।

निफ्टी की स्थापना के बाद हुए चार लोकसभा चुनावों में से दो -2004 और 2009- में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार चुन कर आई। 1999 में, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ( एनडीए ) ने बहुमत से कम होने के बावजूद सरकार बनाई। 2014 में, भाजपा ने एक साधारण बहुमत जीता और सहयोगी दलों के साथ एनडीए की सरकार बनाई। सभी चार मामलों में, निफ्टी और सेंसेक्स दोनों बढ़े।

2009 के चुनावों के बाद, जब यूपीए सरकार फिर से चुनी गई, निफ्टी में सबसे ज्यादा उछाल देखा गया। 16 अक्टूबर 2009 को सूचकांक 5,142 पर था, जबकि एक साल पहले इसी दिन 3,269 पर था, यानी 57.3 फीसदी की वृद्धि देखी गई है।

2009 के चुनावों के बाद सेंसेक्स ने भी चुनाव के बाद सबसे ज्यादा बढ़त देखी है - 16 अक्टूबर, 2008 को 10,581 से, 16 अक्टूबर, 2009 को 17,323 पर गया है, यानी 63.7 फीसदी की वृद्धि।

Source: National Stock Exchange & Bombay Stock Exchange Note: For 1999 data, the first day of the election is September 5, 1999. Six months pre-elections and post-elections were March 5, 1999, and March 5, 2000, respectively

निफ्टी हमेशा चुनाव से पहले और चुनावों के दौरान की तुलना में चुनाव के बाद बढ़ जाता है, यह दिसंबर 2018 की मुंबई स्थित धन प्रबंधन और निवेश बैंकिंग फर्म आनंद राठी वेल्थ सर्विसेज द्वारा जारी रिपोर्ट में भी हाईलाइट किया गया है।

रिपोर्ट के अनुसार, एक स्थिर सरकार वांछनीय है, जिसका मतलब है कि एक राजनीतिक दल या उसके गठबंधन को बाजारों में अनुकूल प्रतिक्रिया देने के लिए बहुमत की आवश्यकता है- "लोग एक स्थिर सरकार चाहते हैं, इसलिए यदि कोई भी राजनीतिक दल या गठबंधन 543 सीटों वाली लोकसभा में 272 पार कर जाता है, चाहे वह कोई भी हो, तो हमारे पास एक स्थिर सरकार होगी। यह यूपीए या एनडीए के बहुमत से जीतने के बारे में नहीं है। यदि बाजार एक स्थिर सरकार देखता है, तो यह स्थिर नीतियों की अपेक्षाओं का निर्माण करेगा और बाजार बढ़ने लगेगा।”

आनंद राठी के एक सूत्र ने इंडियास्पेंड को बताया, हर पांच साल में, आप पाएंगे कि निफ्टी ने वास्तव में चुनावी वर्षों से 100 फीसदी रिटर्न दिया है। इसलिए, अगर पांच साल की सरकारें और स्थिर नीतियां हैं, तो बाजार में तेजी आएगी। ”

सूत्रों ने कहा कि बाजार के बढ़ने का एक कारण यह है कि कौन जीतता है, यह चुनाव भारत की खपत संचालित अर्थव्यवस्था में एक बहुत बड़ी आर्थिक घटना है। चुनावों के आसपास राजनीतिक दलों और सरकारों द्वारा खर्च किया गया बहुत सारा पैसा अंततः ग्रामीण और शहरी भारत दोनों में लोगों को जाता है।

लोग अंततः इस पैसे को खर्च करेंगे और यह खपत बढ़ाएगा। इसलिए, सूचीबद्ध कंपनियों की कमाई में बढ़ोतरी होने की संभावना है- “इसलिए, जो वास्तव में चुना गया है, वह कोई मायने नहीं रखता। यह ऐतिहासिक रूप से हुआ है और हम दृढ़ता से मानते हैं कि ऐसा होता रहेगा।”

सूत्र ने कहा, “(चुनावों के आसपास) आशा (एक सकारात्मक भावना) भी है कि अगले पांच सालों में कुछ अलग होने जा रहा है। एक उम्मीद है कि नई निर्वाचित सरकार नई नीतियों के साथ आएगी और इसलिए आप पाते हैं कि बाजार ऊपर जाने लगता है। "

2011 और 2018 के बीच हुए 48 राज्य विधानसभा चुनावों के भी विश्लेषण रिपोर्ट में पाया है कि 43 - या 90 फीसदी के परिणाम ने संकेत दिया कि मतदाताओं ने किसी पार्टी को वोट देने से पहले तार्किक रूप से सोचा है। रिपोर्ट कहती है कि, भारत में मतदाता सरकार के रिपोर्ट कार्ड का तार्किक रूप से आकलन करके वर्तमान सरकारों को पुरस्कृत या दंडित करते हैं।

सूत्र ने बताया कि, “हमने देखा कि लोग मजबूत नेताओं का चुनाव करने के लिए तैयार हैं। उदाहरण के लिए, पंजाब में, हमने पाया कि उस समय कई अन्य राज्यों को जीतने के बावजूद, भाजपा वहां 2017 में हार गई, क्योंकि कैप्टन अमरिंदर सिंह [अब कांग्रेस के मुख्यमंत्री] वहां एक मजबूत नेता था। इसलिए, लोगों ने केवल एक विशेष पार्टी को वोट नहीं दिया। लोग ऐसा चाहते थे जो नेतृत्व कर सके और लोगों के हितों पर काम कर पाए।

रिपोर्ट के अनुसार, चुनाव परिणाम बाजारों के लिए अधिक महत्वपूर्ण हैं, अगर ‘तार्किक’ या ‘अनुकूल’ परिणाम हैं। सूत्रों के मुताबिक, "वर्तमान लोकसभा चुनाव में तीन संभावित परिणाम हैं। पहला, वही सरकार है (भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए), दूसरी कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए और उसके बाद तीसरी मोर्चे की सरकार है, जिसमें एक भी पार्टी बहुमत में नहीं होगी। हम तार्किक रूप से सोचते हैं कि भाजपा फिर से चुनाव जीतेगी। हमने पाया कि इन तीन (विकल्पों) में से पहला, लोगों के लिए सबसे तार्किक है। एक मजबूत नेता की उम्मीद है।”

सूत्र ने कहा कि, "हालांकि, अगर एक तीसरा मोर्चा (महागठबंधन) सत्ता में आता है, तो यह बाजारों के लिए शुभ नहीं होगा, क्योंकि तब आपके पास मजबूत नेतृत्व नहीं होगा और साथ ही कोई स्थिर नीतियां भी नहीं होंगी। हमने इसे ऐतिहासिक रूप से देखा है। ”

अतीत में देखा गया है कि, शेयर बाजारों में चुनावों से छह महीने पहले काफी भीड़ हो जाती है, और अनुकूल परिणाम के बाद यह प्रवृति जारी रहती है । उदाहरण के लिए, 2009 में चुनाव के दौरान 12 महीने की अवधि के लिए (छह महीने पहले और मतदान शुरू होने के छह महीने बाद), बाजार ने लगभग 57 फीसदी पूर्ण प्रतिफल दिया। हालांकि, 2004 के आम चुनावों के बाद, जहां परिणाम अपेक्षित नहीं था - कांग्रेस पार्टी एक सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी और एक और एनडीए सरकार की व्यापक उम्मीदों के बीच, एक यूपीए सरकार का गठन किया - चुनाव के आसपास 12 महीने की अवधि के लिए, बाजार ने 16 फीसदी पूर्ण रिटर्न दिया, जैसा कि रिपोर्ट में कहा गया है।

(रायबागी, एक डेटा विश्लेषक हैं, कार्डिफ विश्वविद्यालय में कम्प्यूटेशनल और डेटा पत्रकारिता में ग्रैजुएट हैं और इंडियास्पेंड में इंटर्न है।)

यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 16 मई 2019 को IndiaSpend.com पर प्रकाशित हुआ है।

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं।

पुणे: भारत के प्रमुख शेयर बाजार सूचकांकों, निफ्टी और सेंसेक्स में, पिछले छह महीनों की तुलना में 1999 और 2014 के बीच सभी चार लोकसभा चुनावों के छह महीने बाद वृद्धि देखी गई। यह जानकारी इंडियास्पेंड के विश्लेषण में सामने आई है।

पिछले चार लोकसभा चुनावों के दौरान हमने तीन प्रमुख तारीखों पर निफ्टी और सेंसेक्स के स्तर का विश्लेषण किया - मतदान के पहले दिन से छह महीने पहले(चुनाव से पहले),मतदान के पहले दिन (चुनाव के दौरान), और चुनाव के पहले दिन के छह महीने बाद (चुनाव के बाद)।

पिछले छह महीनों की तुलना में, निफ्टी और सेंसेक्स ने इनमें से प्रत्येक आम चुनाव के बाद छह महीने में औसतन 40.8 फीसदी की वृद्धि दर्ज की।

निफ्टी यानी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) फिफ्टी, 1 अप्रैल 1996 को लॉन्च किया गया था, और यह एनएसई में सूचीबद्ध 12 क्षेत्रों में 50 प्रमुख भारतीय कंपनियों के भारित औसत का प्रतिनिधित्व करता है। एसएंडपी बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) सेंसिटिव इंडेक्स यानी सेंसेक्स, जो बीएसई में सूचीबद्ध 30 प्रमुख भारतीय कंपनियों का सूचकांक है, 1986 में स्थापित किया गया था।

निफ्टी की स्थापना के बाद हुए चार लोकसभा चुनावों में से दो -2004 और 2009- में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार चुन कर आई। 1999 में, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ( एनडीए ) ने बहुमत से कम होने के बावजूद सरकार बनाई। 2014 में, भाजपा ने एक साधारण बहुमत जीता और सहयोगी दलों के साथ एनडीए की सरकार बनाई। सभी चार मामलों में, निफ्टी और सेंसेक्स दोनों बढ़े।

2009 के चुनावों के बाद, जब यूपीए सरकार फिर से चुनी गई, निफ्टी में सबसे ज्यादा उछाल देखा गया। 16 अक्टूबर 2009 को सूचकांक 5,142 पर था, जबकि एक साल पहले इसी दिन 3,269 पर था, यानी 57.3 फीसदी की वृद्धि देखी गई है।

2009 के चुनावों के बाद सेंसेक्स ने भी चुनाव के बाद सबसे ज्यादा बढ़त देखी है - 16 अक्टूबर, 2008 को 10,581 से, 16 अक्टूबर, 2009 को 17,323 पर गया है, यानी 63.7 फीसदी की वृद्धि।

Source: National Stock Exchange & Bombay Stock Exchange
Note: For 1999 data, the first day of the election is September 5, 1999. Six months pre-elections and post-elections were March 5, 1999, and March 5, 2000, respectively

निफ्टी हमेशा चुनाव से पहले और चुनावों के दौरान की तुलना में चुनाव के बाद बढ़ जाता है, यह दिसंबर 2018 की मुंबई स्थित धन प्रबंधन और निवेश बैंकिंग फर्म आनंद राठी वेल्थ सर्विसेज द्वारा जारी रिपोर्ट में भी हाईलाइट किया गया है।

रिपोर्ट के अनुसार, एक स्थिर सरकार वांछनीय है, जिसका मतलब है कि एक राजनीतिक दल या उसके गठबंधन को बाजारों में अनुकूल प्रतिक्रिया देने के लिए बहुमत की आवश्यकता है- "लोग एक स्थिर सरकार चाहते हैं, इसलिए यदि कोई भी राजनीतिक दल या गठबंधन 543 सीटों वाली लोकसभा में 272 पार कर जाता है, चाहे वह कोई भी हो, तो हमारे पास एक स्थिर सरकार होगी। यह यूपीए या एनडीए के बहुमत से जीतने के बारे में नहीं है। यदि बाजार एक स्थिर सरकार देखता है, तो यह स्थिर नीतियों की अपेक्षाओं का निर्माण करेगा और बाजार बढ़ने लगेगा।”

आनंद राठी के एक सूत्र ने इंडियास्पेंड को बताया, हर पांच साल में, आप पाएंगे कि निफ्टी ने वास्तव में चुनावी वर्षों से 100 फीसदी रिटर्न दिया है। इसलिए, अगर पांच साल की सरकारें और स्थिर नीतियां हैं, तो बाजार में तेजी आएगी। ”

सूत्रों ने कहा कि बाजार के बढ़ने का एक कारण यह है कि कौन जीतता है, यह चुनाव भारत की खपत संचालित अर्थव्यवस्था में एक बहुत बड़ी आर्थिक घटना है। चुनावों के आसपास राजनीतिक दलों और सरकारों द्वारा खर्च किया गया बहुत सारा पैसा अंततः ग्रामीण और शहरी भारत दोनों में लोगों को जाता है।

लोग अंततः इस पैसे को खर्च करेंगे और यह खपत बढ़ाएगा। इसलिए, सूचीबद्ध कंपनियों की कमाई में बढ़ोतरी होने की संभावना है- “इसलिए, जो वास्तव में चुना गया है, वह कोई मायने नहीं रखता। यह ऐतिहासिक रूप से हुआ है और हम दृढ़ता से मानते हैं कि ऐसा होता रहेगा।”

सूत्र ने कहा, “(चुनावों के आसपास) आशा (एक सकारात्मक भावना) भी है कि अगले पांच सालों में कुछ अलग होने जा रहा है। एक उम्मीद है कि नई निर्वाचित सरकार नई नीतियों के साथ आएगी और इसलिए आप पाते हैं कि बाजार ऊपर जाने लगता है। "

2011 और 2018 के बीच हुए 48 राज्य विधानसभा चुनावों के भी विश्लेषण रिपोर्ट में पाया है कि 43 - या 90 फीसदी के परिणाम ने संकेत दिया कि मतदाताओं ने किसी पार्टी को वोट देने से पहले तार्किक रूप से सोचा है। रिपोर्ट कहती है कि, भारत में मतदाता सरकार के रिपोर्ट कार्ड का तार्किक रूप से आकलन करके वर्तमान सरकारों को पुरस्कृत या दंडित करते हैं।

सूत्र ने बताया कि, “हमने देखा कि लोग मजबूत नेताओं का चुनाव करने के लिए तैयार हैं। उदाहरण के लिए, पंजाब में, हमने पाया कि उस समय कई अन्य राज्यों को जीतने के बावजूद, भाजपा वहां 2017 में हार गई, क्योंकि कैप्टन अमरिंदर सिंह [अब कांग्रेस के मुख्यमंत्री] वहां एक मजबूत नेता था। इसलिए, लोगों ने केवल एक विशेष पार्टी को वोट नहीं दिया। लोग ऐसा चाहते थे जो नेतृत्व कर सके और लोगों के हितों पर काम कर पाए।

रिपोर्ट के अनुसार, चुनाव परिणाम बाजारों के लिए अधिक महत्वपूर्ण हैं, अगर ‘तार्किक’ या ‘अनुकूल’ परिणाम हैं। सूत्रों के मुताबिक, "वर्तमान लोकसभा चुनाव में तीन संभावित परिणाम हैं। पहला, वही सरकार है (भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए), दूसरी कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए और उसके बाद तीसरी मोर्चे की सरकार है, जिसमें एक भी पार्टी बहुमत में नहीं होगी। हम तार्किक रूप से सोचते हैं कि भाजपा फिर से चुनाव जीतेगी। हमने पाया कि इन तीन (विकल्पों) में से पहला, लोगों के लिए सबसे तार्किक है। एक मजबूत नेता की उम्मीद है।”

सूत्र ने कहा कि, "हालांकि, अगर एक तीसरा मोर्चा (महागठबंधन) सत्ता में आता है, तो यह बाजारों के लिए शुभ नहीं होगा, क्योंकि तब आपके पास मजबूत नेतृत्व नहीं होगा और साथ ही कोई स्थिर नीतियां भी नहीं होंगी। हमने इसे ऐतिहासिक रूप से देखा है। ”

अतीत में देखा गया है कि, शेयर बाजारों में चुनावों से छह महीने पहले काफी भीड़ हो जाती है, और अनुकूल परिणाम के बाद यह प्रवृति जारी रहती है । उदाहरण के लिए, 2009 में चुनाव के दौरान 12 महीने की अवधि के लिए (छह महीने पहले और मतदान शुरू होने के छह महीने बाद), बाजार ने लगभग 57 फीसदी पूर्ण प्रतिफल दिया। हालांकि, 2004 के आम चुनावों के बाद, जहां परिणाम अपेक्षित नहीं था - कांग्रेस पार्टी एक सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी और एक और एनडीए सरकार की व्यापक उम्मीदों के बीच, एक यूपीए सरकार का गठन किया - चुनाव के आसपास 12 महीने की अवधि के लिए, बाजार ने 16 फीसदी पूर्ण रिटर्न दिया, जैसा कि रिपोर्ट में कहा गया है।

(रायबागी, एक डेटा विश्लेषक हैं, कार्डिफ विश्वविद्यालय में कम्प्यूटेशनल और डेटा पत्रकारिता में ग्रैजुएट हैं और इंडियास्पेंड में इंटर्न है।)

यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 16 मई 2019 को IndiaSpend.com पर प्रकाशित हुआ है।

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं।