73 वर्ष की उम्र में कमरू जमाल दिल्ली की सड़कों पर रिक्शा खींचते हैं, आखिर क्यों ?

नई दिल्ली: कमरू जमाल कठिन जीवन आसान हो सकता है, अगर उन्हें भी भारत की राजधानी में तीन नगर निगमों द्वारा अपने गरीब वरिष्ठ नागरिकों को दिए जा रहे 1,000 रुपये का मासिक पेंशन मिल पाता। 73 साल की उम्र में, वह उत्तरी दिल्ली के किंग्सवे कैंप क्षेत्र की सड़कों पर एक साइकिल-रिक्शा चलाते हैं।

आजीविका की तलाश में बिहार के सुपौल जिले से दशकों पहले दिल्ली आने वाले जमाल बताते हैं,"कब से पेंशन नहीं आ रहा है, अब तो याद भी नहीं।"

पेंशन से उत्तरी दिल्ली के जीटीबी नगर इलाके में एक झोपड़ी में रहने वाली एक विधवा, दो बेटियों की मां, राम प्यारी को भी राहत मिलती थी। उनकी दोनों बेटियां घरों में काम करती हैं। रिकॉर्ड पर, राम प्यारी 64 वर्ष की हैं, लेकिन वह सामने से ज्यादा उम्र की दिखती हैं। उन्होंने बताया कि आधार कार्ड पर उनके जन्म का वर्ष गलत दर्ज हो गया है। ज्यादा उम्र के कारण उनके लिए चलना-फिरना मुश्किल है।

पेंशन ज्यादा नहीं थी, फिर भी इसने राम प्यारी को भूखे मरने से बचाए रखा था। वह कहती हैं, "कोई सोना-चांदी तो नहीं बनाया, सिर्फ पेट और रोटी का काम चलता था।”

कमरू जमाल और राम प्यारी दिल्ली के लगभग 200,000 गरीब वरिष्ठ नागरिकों में से हैं, जिन्होंने दिल्ली के नगर निगम को उत्तर, दक्षिण और पूर्वी जिलों में विभाजित करने के एक साल बाद 2013 में अपनी पेंशन खो दी थी। प्रशासनिक विभाजन ने निगम के संसाधनों को समाप्त कर दिया था, और गरीब बुजुर्ग नागरिकों को भुगतान करने के लिए कोई धन नहीं था, जैसा कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की अगुवाई में बने नए निगमों ने तर्क दिया।

दिल्ली में वर्तमान में 11.4 लाख बुजुर्ग हैं। पेंशन 60 वर्ष से अधिक आयु के उन व्यक्तियों को दिया जा सकता है, जिनके पास आय का कोई जरिया नहीं है और जिनकी सभी स्रोतों से वार्षिक आय 48,000 रुपये से कम है। ऐसे आवेदक दिल्ली राज्य सरकार द्वारा चलाया गए जैसे अन्य सरकारी पेंशन योजनाओं से भी लाभान्वित नहीं हो सकते हैं।

2016 में, एक याचिका के जवाब में, दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार को निगमों के फैसले से उत्पन्न संकट से निपटने के लिए कहा था। लेकिन पूर्व निगम लाभार्थियों की केवल एक छोटी संख्या को, लगभग 8-11 फीसदी, दिल्ली सरकार की ओल्ड एज असिस्टन्स स्कीम के तहत भुगतान किया जा रहा है।

भुगतान क्यों रोके जाते हैं?

यह समस्या बीजेपी, जो निगमों का प्रमुख है, और आम आदमी पार्टी (आप) जो वर्तमान में दिल्ली सरकार की प्रमुख है, के बीच की राजनीतिक लड़ाई के साथ है, जैसा कि नाम न बताने की शर्त पर नगरपालिका और राज्य सरकार के एक अधिकारी बताते हैं।

हमारी जांच में यह भी पाया गया कि पूर्व-निगम के लाभार्थियों के सत्यापन की प्रक्रिया आधिकारिक उदासीनता और लालफीताशाही के जाल में फंस गई है।

दिल्ली सरकार की पेंशन राशि भारत में सबसे अधिक है। 2017 में, 60-69 वर्ष की आयु के बीच के पात्रता रखने वाले लोगों के लिए प्रति माह 2,000 रुपये तक और 70 से ऊपर के लोगों को 2,500 रुपये (अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लाभार्थियों को प्रति माह अतिरिक्त 500 रुपये का भुगतान किया जाता है) संशोधित की गई है। दिल्ली में विधवाओं और विकलांगों के लिए पेंशन कार्यक्रम भी है।

एक गैर-लाभकारी संगठन, ‘हेल्पेज इंडिया’ की 2018 रिपोर्ट के अनुसार, वरिष्ठ नागरिकों को निराश्रित करने के लिए पेंशन का राष्ट्रीय औसत लगभग 889 रुपये है। दिल्ली की तरह केरल, गोवा, पुडुचेरी और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह भी पेंशन के रूप में 2,000 रुपये का भुगतान करते हैं।

राज्य सरकार के फंड से किए गए इस भुगतान के लिए, केंद्र सरकार ‘इंदिरा गांधी नेशनल ओल्ड एज स्कीम ’ के तहत प्रति लाभार्थी 200 रुपये का योगदान करती है। यह पेंशन गरीबी-रेखा वाले घरों और 60 साल से ऊपर के निराश्रित लाभार्थियों पर लागू होती है और 2006-07 से संशोधित नहीं की गई है, हालांकि केंद्र ने 80 साल से ऊपर के लोगों के लिए यह राशि बढ़ाकर 500 रुपये कर दी है।

इंडियास्पेंड ने अप्रैल 2017 की रिपोर्ट में बताया कि ये पेंशन जीवित रहने के लिए पर्याप्त नहीं है और इस कारण कई बुजुर्ग, जब तक कर सकते हैं, तब तक काम करना जारी रखते हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार, वृद्धावस्था पेंशन को एक वरिष्ठ नागरिक के अधिकार के रूप में देखा जाता है, जो कि उनके कामकाजी जीवन के माध्यम से किए गए आर्थिक योगदान के लिए एक ऐसे समय में भुगतान किया जाता है, जब उम्र या खराब स्वास्थ्य के कारण कमाई की क्षमता खत्म हो जाती है।

वे परिवार और समाज में वरिष्ठ नागरिकों के अवैतनिक योगदान का सम्मान करते हैं। ऐसी भूमिकाएं जो कि भारतीय संयुक्त परिवारों और करीबी ग्रामीण समुदायों के बीच भी हैं, और अपने परिवारों पर बुजुर्गों की आर्थिक निर्भरता को कम करने में मदद करती हैं।

भारत में, जहां आबादी में बुजुर्गों की हिस्सेदारी पहले की तुलना में तेज दर से बढ़ रही है, जैसा कि यूनाइटेड नेशन पॉपुलेशन फंड द्वारा 2017 इंडिया ‘एजिंग रिपोर्ट’ में दिखाया गया है, सरकारी समर्थन को आवश्यक मानते हैं।

वर्तमान में, दिल्ली की आबादी में 6.8 फीसदी वृद्ध (60 वर्ष की आयु) हैं, जबकि भारत की जनसंख्या में 8.6 फीसदी वृद्ध हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में 60 वर्ष से अधिक की आबादी का हिस्सा 2015 से 2050 के बीच दोगुने से अधिक होने की संभावना है-8 फीसदी से 19 फीसदी तक।

रिपोर्ट में कहा गया है कि सदी के अंत तक, बुजुर्ग देश की आबादी का लगभग 34 फीसदी हिस्सा बन जाएंगे। ऐसे में इस तरह के समर्थन कार्यक्रम महत्वपूर्ण हो जाते हैं, जिस तरह कि दिल्ली सरकार द्वारा चलाया जाता है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वरिष्ठ नागरिक आराम और गरिमा में जी सकें।

कमलेश दिल्ली के शास्त्री मोहल्ले में अपने घर के बाहर अपना पेंशन कार्ड ढूंढ रही थी। कमलेश के पति की दो दशक पहले मृत्यु हो गई थी और ईडीएमसी से 1,000 रुपये मासिक पेंशन उनके परिवार की प्राथमिक आय थी।

“मेरा शरीर काम के लिए सक्षम नहीं है”

वरिष्ठ नागरिक कमलेश (जो केवल एक नाम का उपयोग करती है)पूर्वी दिल्ली के शास्त्री मुहल्ले में अपने मध्य-आयु वाले बेटे के साथ रहती है, जो सामान्य सीखने की विकलांगता से पीड़ित है। पूर्वी दिल्ली नगर निगम (ईडीएमसी) से 1,000 रुपये मासिक पेंशन परिवार की प्राथमिक आय थी।जब दो दशक पहले कमलेश के पति की मृत्यु हो गई, तो उसने घरेलू काम करना शुरू कर दिया, लेकिन अब यह करना उनके लिए शारीरिक रुप से मुश्किल था।

"मेरा शरीर श्रम वाले कार्य नहीं कर सकता है," उन्होंने कहा।

सड़क के स्तर से कुछ कदम नीचे के अपने अंधेरे कमरे में अपने पेंशन कार्ड को खोजने के लिए कमलेश ने पुराने सामानों को टटोलना शुरु किया। 31 अक्टूबर 2013 को अंतिम प्रविष्टि थी। “इसके बाद 5 जुलाई 2014 को उनके बैंक खाते में 4,999 रुपये का भुगतान किया गया, जो उसके पेंशन कार्ड में दर्ज नहीं किया गया था”, उन्होंने बताया।

उन्होंने इंडियास्पेंड को बताया, "बिजली कनेक्शन एक साल के लिए बंद कर दिया गया, क्योंकि मैं पेंशन रुकने के बाद बिल का भुगतान नहीं कर पाई।" क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने अधिकारियों से उनकी बिजली आपूर्ति को फिर से जोड़ने की गुहार लगाई है।

कमलेश के पेंशन कार्ड में अंतिम प्रविष्टि 31 अक्टूबर, 2013 को दर्ज की गई थी

दिसंबर 2014 में, सामाजिक कार्यकर्ता सुनीता चौहान के साथ नागरिक अधिकार समूह, ‘सोशल ज्यूरिस्ट’ से जुड़े एक वकील अशोक अग्रवाल ने कमलेश की परिस्थिति को महसूस किया। वह कहते हैं, “मैं अमानवीय परिस्थितियों पर अचंभित हो गया कि कैसै बुजुर्ग पेंशन के अभाव में रह रहे थे।”

अग्रवाल ने दिल्ली हाई कोर्ट के समक्ष एक रिट याचिका दायर की और अप्रैल 2015 में, अदालत ने मार्च 2013 से 24 महीने के लिए अपनी ओल्ड एज पेंशन स्कीम के तहत 30,816 लाभार्थियों में से अधिकांश को पेंशन नहीं देने के लिए ईडीएमसी की आलोचना की। इसने लगभग 14,000 विधवाओं या विकलांग व्यक्तियों को पेंशन देने से भी इनकार कर दिया था।

इसके बाद, हाई कोर्ट ने पाया कि 2013 से 2014 के बीच, दिल्ली नगर निगम के उत्तरी और दक्षिणी शाखाओं ने भी वृद्धावस्था पेंशन देना बंद कर दिया था। अदालत ने पाया कि 184,000 लाभार्थी - ईजीएमसी में 30,816, दक्षिण डीएमसी में 72,856 और उत्तर डीएमसी में लगभग 80,000 - इससे वंचित हैं।

दोषी कौन?

2013 तक, दिल्ली में तीन नगर निगम थे-नई दिल्ली नगर निगम, दिल्ली नगर निगम और दिल्ली छावनी बोर्ड। 2013 में दिल्ली नगर निगम के विभाजन के बाद से, दिल्ली में पांच नगर निगम हैं, जिनमें से तीन - उत्तर, पूर्व और दक्षिण - ने पेंशन का भुगतान करना बंद कर दिया है, जैसा कि हमने पहले उल्लेख किया है। उस समय, और वर्तमान में भी, तीनों निगम भाजपा के पास हैं। दिल्ली सरकार, इस दौरान, आप के नेतृत्व में रही है।

तत्कालीन कांग्रेस के नेतृत्व वाली राज्य सरकार द्वारा निष्पादित एमसीडी के विभाजन के बाद पेंशन समाप्त हो गई,जैसा कि हमने बताया है। हाई कोर्ट के जवाब में निगमों ने कहा कि इस विभाजन के कारण वित्तीय कमी आई। निगमों ने यह भी दावा किया कि दिल्ली सरकार ने 2013 से 2015 के बीच निगमों के लिए अपने बजटीय अनुदान को 1,881.3 करोड़ रुपये से घटाकर 1581.1 करोड़ रुपये कर दिया, जिससे इसके संसाधनों में और कमी आई।

कटौती के बावजूद, प्रत्येक निगम अपने महापौरों और उच्च-रैंकिंग अधिकारियों को भत्ते प्रदान करता रहा, उत्तर निगम में एक अधिकारी, जो नाम नहीं बताना चाहते थे, कहा कि दिल्ली सरकार ने बदले में, निगमों पर वित्तीय कुप्रबंधन और करों की कम वसूली का आरोप लगाया है।

केंद्रीय करों में दिल्ली सरकार की हिस्सेदारी 2001-2002 के बाद से बनी हुई है, हालांकि, उसी समय के दौरान उनके बजट में 500 फीसदी की वृद्धि हुई है, जैसा कि इंडिया टुडे की रिपोर्ट में बताया गया है। 2019-20 के अंतरिम बजट से, दिल्ली सरकार ने कथित तौर पर स्थानीय निकायों के लिए 1,000 करोड़ रुपये मांगे थे, लेकिन ऐसा कोई आवंटन नहीं किया गया था।

2016 में, उच्च न्यायालय ने निगमों को चार सप्ताह के भीतर राज्य सरकार को पेंशन लाभार्थियों की अपनी सूची प्रदान करने का निर्देश दिया। इन लाभार्थियों को राज्य सरकार के सामाजिक कल्याण विभाग (डीएसडब्ल्यू) द्वारा ओल्ड एज पेंशन स्कीम (लोकप्रिय रूप से वृद्धावस्था पेंशन के रूप में जाना जाता है) द्वारा उनकी फाइनैन्शल असिस्टन्स स्कीम्स (एफएएस) के तहत सहायता दी जाएगी।

निगमों ने अनुपालन नहीं किया और सामाजिक न्यायविद् ने मार्च 2016 में एक अवमानना ​​याचिका दायर की। सूचियां आखिरकार प्रदान की गईं, तो डीएसडब्ल्यू ने ‘जानकारी ज्यादातर आकस्मिक रूप में है’ बताते हुए उन्हें अविश्वसनीय कहा।

2016 में 530,000 पेंशन के भुगतान के साथ, दिल्ली सरकार गरीब और बुजुर्ग नागरिकों की संख्या का समर्थन कर सकती है। पहले की सीमा 430,000 थी और राज्य पहले से ही 384,585 का भुगतान कर रहा था, जब हाई कोर्ट ने 184,00 पूर्व-निगम लाभार्थियों को जोड़ने का आदेश दिया था। दिल्ली सरकार ने तब ऊपरी कैप में 100,000 की बढ़ोतरी की थी।

राज्य विधवाओं और विकलांगों से पेंशन के आवेदनों को कम नहीं कर सकता है-उनके आवेदनों को एक रोलिंग के आधार पर संसाधित किया जाना है और किसी भी कैप के अधीन नहीं हैं।

पूर्व लाभार्थियों के 8-11 फीसदी से अधिक को भुगतान नहीं किया जा रहा

दिसंबर 2016 में, दिल्ली हाई कोर्ट ने राज्य सरकार द्वारा पेंशन लेने की प्रक्रिया को निर्धारित किया: पूर्व लाभार्थियों के सत्यापन के लिए निगम डीएसडब्ल्यू के साथ उनके वार्डों में शिविर आयोजित करना था। यह प्रक्रिया छह महीने या जून 2017 तक पूरी होनी थी। लेकिन कैंप सितंबर 2018 के अंत तक आयोजित किए गए थे।

अग्रवाल ने कहा, "मैं मामले की गति से निराश था और इसे छोड़ने का फैसला किया।" अवमानना ​​मामले को अप्रैल 2018 में बंद कर दिया गया था।

2017 की तीसरी तिमाही तक, डीएसडब्ल्यू द्वारा केवल 8,454 पूर्व-निगम लाभार्थियों को भुगतान किया जा रहा था।

आज नंबर क्या हैं?

फरवरी 2019 में एफएएस के डिप्टी डायरेक्टर राजीव सक्सेना ने कहा, "वे लगभग 15,000-20,000 के आसपास हो सकते हैं, लेकिन यह एक अनुमानित आंकड़ा है।"

कल्याण अधिकारी राहुल दीक्षित ने कहा, "वास्तव में यह प्रक्रिया जारी है। जब तक यह पूरा नहीं होता, हम कुछ भी नहीं कह सकते।"

भुगतान की प्रतीक्षा कर रहे 8-11 फीसदी लोगों के लिए आंकड़ा 15,000-20,000 है।

मार्च 2019 में, डीएसडब्लू 2016 में 384,585 की तुलना में 442,838 वृद्ध लाभार्थियों का भुगतान कर रहा था, यह दर्शाता है कि तीन वर्षों में 60,000 से कम लाभार्थी जोड़े गए। इस आंकड़े में नए और पहले से नामांकित पेंशनभोगी (और मरने वाले लाभार्थियों के लिए समायोजन) भी शामिल होंगे।

पूर्व निगम लाभार्थियों के सत्यापन और नामांकन की इस प्रक्रिया में, एक जनसांख्यिकी, जिसमें सीमित गतिशीलता होगी और संसाधनों को भौतिक रूप से प्रकट होने या भत्ते से इनकार करने के लिए कहा गया था।

वृद्धावस्था पेंशन आवेदन दिल्ली की डोरस्टेप डिलीवरी सेवाओं द्वारा कवर किए गए लगभग 70 सेवाओं में शामिल नहीं हैं, जो 50 रुपये के शुल्क पर उपलब्ध हैं। पिछले पांच महीनों में, विकलांगता और विधवा पेंशन अनुप्रयोगों को भी डोरस्टेप डिलीवरी से बाहर रखा गया है, जैसा कि एक ऑपरेटर ने इंडियास्पेंड को सूचित किया है।

‘ऑनलाइन में लूट मची है...’

फरवरी 2019 की सुबह, सदर विधानसभा क्षेत्र से 14 बुजुर्ग महिलाओं और पुरुषों के एक समूह ने सामाजिक कार्यकर्ताओं और वरिष्ठ नागरिकों, हवा सिंह और मुरारी लाल के साथ, समाज कल्याण के लिए दिल्ली के मंत्री राजेंद्र पाल गौतम से शिकायत की।

सबसे आम शिकायत यह थी कि उनमें से कोई भी पेंशन रोल पर सूचीबद्ध नहीं था, हालांकि उन्होंने दिसंबर 2018 में स्थानीय विधायक सोमदत्त शर्मा को आवेदन जमा किया था।

विशेष ड्यूटी पर मंत्री के अधिकारी विशाल वर्मा ने कहा,"नए एप्लिकेशन बंद हैं क्योंकि हमारे पास बजट नहीं है। वैसे भी आदर्श आचार संहिता जल्द ही शुरू हो जाएगी, इसलिए हम (सामान्य) चुनावों के बाद शुरु करेंगे।"

विधायक एक घंटे बाद पहुंचे। उन्होंने कहा, "वृद्धावस्था पेंशन असीमित नहीं है, ये समझ लो" । हवा सिंह (एचएस) ने ऑनलाइन आवेदन खोले जाने का अनुरोध किया था, लेकिन मंत्री (आरपीजी) ने तर्क दिया कि कोटा के आकार को देखते हुए,दावेदार दावों को फ़िल्टर करना, कर्मचारियों के लिए मुश्किल है।

यहां देखें कि बातचीत कैसे सामने आई:

एचएस: ऑनलाइन कर लिजिये।

आरपीजी: ऑनलाइन में लूट मची है।

एचएस: चेक करो कौन हकदार है कौन नहीं?

आरपीजी: कौन चेक करेगा इतने, 5.3 लाख का कोटा है। जो पहले आयेगा, उसे मिलेगा। जो बाद में आएगा, वो वेटिंग में जाएगा

लाल फीताशाही में फंसी योजना

जब इंडियास्पेंड ने मार्च 2019 में, सत्यापन केंद्रों में से एक, गुलाबी बाग में जिला समाज कल्याण कार्यालय (डीएसडब्ल्यूओ नार्थ) का दौरा किया, तो कर्मचारियों की कमी स्पष्ट थी: तीन डाटा-एंट्री ऑपरेटर और एक कल्याण अधिकारी थे, सभी कॉंट्रैक्ट पर थे। अधीक्षक का पद खाली था। कल्याण अधिकारी इंदु सेहरावत खराब इंटरनेट स्पीड से जूझ रही थीं।

एप्लिकेशन मोड भी अक्सर बदलते रहे हैं। 2017 से पहले, जिला समाज कल्याण अधिकारियों के कार्यालय में हार्ड कॉपी द्वारा आवेदन किए गए थे। फरवरी-मार्च 2017 में, प्रक्रिया ऑनलाइन हो गई और दिल्ली सरकार के ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल के माध्यम से पूरी की जा सकती है। 2018 नवंबर-दिसंबर चक्र के लिए नियम फिर से बदल गए। ऑनलाइन आवेदन केवल एक विधायक के माध्यम से किए जा सकते हैं, और प्रत्येक विधायक 500 आवेदन संभाल सकता है।

एक दिसंबर, 2018 को मल्टी प्वाइंट ऑनलाइन एप्लीकेशन के खिलाफ आया नगर पालिका पार्षद वेद पाल द्वारा दिल्ली उच्च न्यायालय में दायर रिट याचिका ने ऑनलाइन आवेदनों के लिए मार्ग फिर से खोल दिया है। मई 2019 तक, आम चुनावों के कारण आवेदनों का कोई काम नहीं किया जा रहा था, जैसा कि सहरावत ने इंडियास्पेंड को बताया।

जिला कार्यालय (उत्तर) में जिला समाज कल्याण अधिकारी, पी. आनंद राव ने बताया, "विधायक सूचना (आवेदनों के बारे में) देते हैं या फिर हम समाचार पत्रों के माध्यम से भी जानकारी पाते हैं।"

घरेलू कामगार 65 वर्षीय लीला देवी और उनके पति 60 वर्षीय विजय पाल की इस जानकारी तक कोई पहुंच नहीं है। विजय पाल का स्वास्थ्य गिरता जा रहा है और लीला की आमदनी अब बढ़ते स्वास्थ्य बिलों को कवर नहीं कर सकती है; और फिर उत्तरी दिल्ली के इंदिरा विकास कॉलोनी में उनकी झोंपड़ी के लिए 2,000 रुपये का भुगतान किया जाना है।

लीला ने कहा, "हमें कभी नहीं पता चला कि आवेदन कब खुले और किससे संपर्क किया जाए।" अभी के लिए, दंपति उत्तर प्रदेश में हैं, जहां वे रिश्तेदारों के साथ रहेंगे। उन्होंने कहा, 'अगर हमें हमारी पेंशन मिल जाती है, तो ही हम दिल्ली लौट सकते हैं।'

(नागपाल एक स्वतंत्र मल्टीमीडिया पत्रकार हैं और दिल्ली में रहती हैं।)

यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 19 जून, 2019 को IndiaSpend.com पर प्रकाशित हुआ है।

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं।

नई दिल्ली: कमरू जमाल कठिन जीवन आसान हो सकता है, अगर उन्हें भी भारत की राजधानी में तीन नगर निगमों द्वारा अपने गरीब वरिष्ठ नागरिकों को दिए जा रहे 1,000 रुपये का मासिक पेंशन मिल पाता। 73 साल की उम्र में, वह उत्तरी दिल्ली के किंग्सवे कैंप क्षेत्र की सड़कों पर एक साइकिल-रिक्शा चलाते हैं।

आजीविका की तलाश में बिहार के सुपौल जिले से दशकों पहले दिल्ली आने वाले जमाल बताते हैं,"कब से पेंशन नहीं आ रहा है, अब तो याद भी नहीं।"

पेंशन से उत्तरी दिल्ली के जीटीबी नगर इलाके में एक झोपड़ी में रहने वाली एक विधवा, दो बेटियों की मां, राम प्यारी को भी राहत मिलती थी। उनकी दोनों बेटियां घरों में काम करती हैं। रिकॉर्ड पर, राम प्यारी 64 वर्ष की हैं, लेकिन वह सामने से ज्यादा उम्र की दिखती हैं। उन्होंने बताया कि आधार कार्ड पर उनके जन्म का वर्ष गलत दर्ज हो गया है। ज्यादा उम्र के कारण उनके लिए चलना-फिरना मुश्किल है।

पेंशन ज्यादा नहीं थी, फिर भी इसने राम प्यारी को भूखे मरने से बचाए रखा था। वह कहती हैं, "कोई सोना-चांदी तो नहीं बनाया, सिर्फ पेट और रोटी का काम चलता था।”

कमरू जमाल और राम प्यारी दिल्ली के लगभग 200,000 गरीब वरिष्ठ नागरिकों में से हैं, जिन्होंने दिल्ली के नगर निगम को उत्तर, दक्षिण और पूर्वी जिलों में विभाजित करने के एक साल बाद 2013 में अपनी पेंशन खो दी थी। प्रशासनिक विभाजन ने निगम के संसाधनों को समाप्त कर दिया था, और गरीब बुजुर्ग नागरिकों को भुगतान करने के लिए कोई धन नहीं था, जैसा कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की अगुवाई में बने नए निगमों ने तर्क दिया।

दिल्ली में वर्तमान में 11.4 लाख बुजुर्ग हैं। पेंशन 60 वर्ष से अधिक आयु के उन व्यक्तियों को दिया जा सकता है, जिनके पास आय का कोई जरिया नहीं है और जिनकी सभी स्रोतों से वार्षिक आय 48,000 रुपये से कम है। ऐसे आवेदक दिल्ली राज्य सरकार द्वारा चलाया गए जैसे अन्य सरकारी पेंशन योजनाओं से भी लाभान्वित नहीं हो सकते हैं।

2016 में, एक याचिका के जवाब में, दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार को निगमों के फैसले से उत्पन्न संकट से निपटने के लिए कहा था। लेकिन पूर्व निगम लाभार्थियों की केवल एक छोटी संख्या को, लगभग 8-11 फीसदी, दिल्ली सरकार की ओल्ड एज असिस्टन्स स्कीम के तहत भुगतान किया जा रहा है।

भुगतान क्यों रोके जाते हैं?

यह समस्या बीजेपी, जो निगमों का प्रमुख है, और आम आदमी पार्टी (आप) जो वर्तमान में दिल्ली सरकार की प्रमुख है, के बीच की राजनीतिक लड़ाई के साथ है, जैसा कि नाम न बताने की शर्त पर नगरपालिका और राज्य सरकार के एक अधिकारी बताते हैं।

हमारी जांच में यह भी पाया गया कि पूर्व-निगम के लाभार्थियों के सत्यापन की प्रक्रिया आधिकारिक उदासीनता और लालफीताशाही के जाल में फंस गई है।

दिल्ली सरकार की पेंशन राशि भारत में सबसे अधिक है। 2017 में, 60-69 वर्ष की आयु के बीच के पात्रता रखने वाले लोगों के लिए प्रति माह 2,000 रुपये तक और 70 से ऊपर के लोगों को 2,500 रुपये (अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लाभार्थियों को प्रति माह अतिरिक्त 500 रुपये का भुगतान किया जाता है) संशोधित की गई है। दिल्ली में विधवाओं और विकलांगों के लिए पेंशन कार्यक्रम भी है।

एक गैर-लाभकारी संगठन, ‘हेल्पेज इंडिया’ की 2018 रिपोर्ट के अनुसार, वरिष्ठ नागरिकों को निराश्रित करने के लिए पेंशन का राष्ट्रीय औसत लगभग 889 रुपये है। दिल्ली की तरह केरल, गोवा, पुडुचेरी और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह भी पेंशन के रूप में 2,000 रुपये का भुगतान करते हैं।

राज्य सरकार के फंड से किए गए इस भुगतान के लिए, केंद्र सरकार ‘इंदिरा गांधी नेशनल ओल्ड एज स्कीम ’ के तहत प्रति लाभार्थी 200 रुपये का योगदान करती है। यह पेंशन गरीबी-रेखा वाले घरों और 60 साल से ऊपर के निराश्रित लाभार्थियों पर लागू होती है और 2006-07 से संशोधित नहीं की गई है, हालांकि केंद्र ने 80 साल से ऊपर के लोगों के लिए यह राशि बढ़ाकर 500 रुपये कर दी है।

इंडियास्पेंड ने अप्रैल 2017 की रिपोर्ट में बताया कि ये पेंशन जीवित रहने के लिए पर्याप्त नहीं है और इस कारण कई बुजुर्ग, जब तक कर सकते हैं, तब तक काम करना जारी रखते हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार, वृद्धावस्था पेंशन को एक वरिष्ठ नागरिक के अधिकार के रूप में देखा जाता है, जो कि उनके कामकाजी जीवन के माध्यम से किए गए आर्थिक योगदान के लिए एक ऐसे समय में भुगतान किया जाता है, जब उम्र या खराब स्वास्थ्य के कारण कमाई की क्षमता खत्म हो जाती है।

वे परिवार और समाज में वरिष्ठ नागरिकों के अवैतनिक योगदान का सम्मान करते हैं। ऐसी भूमिकाएं जो कि भारतीय संयुक्त परिवारों और करीबी ग्रामीण समुदायों के बीच भी हैं, और अपने परिवारों पर बुजुर्गों की आर्थिक निर्भरता को कम करने में मदद करती हैं।

भारत में, जहां आबादी में बुजुर्गों की हिस्सेदारी पहले की तुलना में तेज दर से बढ़ रही है, जैसा कि यूनाइटेड नेशन पॉपुलेशन फंड द्वारा 2017 इंडिया ‘एजिंग रिपोर्ट’ में दिखाया गया है, सरकारी समर्थन को आवश्यक मानते हैं।

वर्तमान में, दिल्ली की आबादी में 6.8 फीसदी वृद्ध (60 वर्ष की आयु) हैं, जबकि भारत की जनसंख्या में 8.6 फीसदी वृद्ध हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में 60 वर्ष से अधिक की आबादी का हिस्सा 2015 से 2050 के बीच दोगुने से अधिक होने की संभावना है-8 फीसदी से 19 फीसदी तक।

रिपोर्ट में कहा गया है कि सदी के अंत तक, बुजुर्ग देश की आबादी का लगभग 34 फीसदी हिस्सा बन जाएंगे। ऐसे में इस तरह के समर्थन कार्यक्रम महत्वपूर्ण हो जाते हैं, जिस तरह कि दिल्ली सरकार द्वारा चलाया जाता है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वरिष्ठ नागरिक आराम और गरिमा में जी सकें।

कमलेश दिल्ली के शास्त्री मोहल्ले में अपने घर के बाहर अपना पेंशन कार्ड ढूंढ रही थी। कमलेश के पति की दो दशक पहले मृत्यु हो गई थी और ईडीएमसी से 1,000 रुपये मासिक पेंशन उनके परिवार की प्राथमिक आय थी।

“मेरा शरीर काम के लिए सक्षम नहीं है”

वरिष्ठ नागरिक कमलेश (जो केवल एक नाम का उपयोग करती है)पूर्वी दिल्ली के शास्त्री मुहल्ले में अपने मध्य-आयु वाले बेटे के साथ रहती है, जो सामान्य सीखने की विकलांगता से पीड़ित है। पूर्वी दिल्ली नगर निगम (ईडीएमसी) से 1,000 रुपये मासिक पेंशन परिवार की प्राथमिक आय थी।जब दो दशक पहले कमलेश के पति की मृत्यु हो गई, तो उसने घरेलू काम करना शुरू कर दिया, लेकिन अब यह करना उनके लिए शारीरिक रुप से मुश्किल था।

"मेरा शरीर श्रम वाले कार्य नहीं कर सकता है," उन्होंने कहा।

सड़क के स्तर से कुछ कदम नीचे के अपने अंधेरे कमरे में अपने पेंशन कार्ड को खोजने के लिए कमलेश ने पुराने सामानों को टटोलना शुरु किया। 31 अक्टूबर 2013 को अंतिम प्रविष्टि थी। “इसके बाद 5 जुलाई 2014 को उनके बैंक खाते में 4,999 रुपये का भुगतान किया गया, जो उसके पेंशन कार्ड में दर्ज नहीं किया गया था”, उन्होंने बताया।

उन्होंने इंडियास्पेंड को बताया, "बिजली कनेक्शन एक साल के लिए बंद कर दिया गया, क्योंकि मैं पेंशन रुकने के बाद बिल का भुगतान नहीं कर पाई।" क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने अधिकारियों से उनकी बिजली आपूर्ति को फिर से जोड़ने की गुहार लगाई है।

कमलेश के पेंशन कार्ड में अंतिम प्रविष्टि 31 अक्टूबर, 2013 को दर्ज की गई थी

दिसंबर 2014 में, सामाजिक कार्यकर्ता सुनीता चौहान के साथ नागरिक अधिकार समूह, ‘सोशल ज्यूरिस्ट’ से जुड़े एक वकील अशोक अग्रवाल ने कमलेश की परिस्थिति को महसूस किया। वह कहते हैं, “मैं अमानवीय परिस्थितियों पर अचंभित हो गया कि कैसै बुजुर्ग पेंशन के अभाव में रह रहे थे।”

अग्रवाल ने दिल्ली हाई कोर्ट के समक्ष एक रिट याचिका दायर की और अप्रैल 2015 में, अदालत ने मार्च 2013 से 24 महीने के लिए अपनी ओल्ड एज पेंशन स्कीम के तहत 30,816 लाभार्थियों में से अधिकांश को पेंशन नहीं देने के लिए ईडीएमसी की आलोचना की। इसने लगभग 14,000 विधवाओं या विकलांग व्यक्तियों को पेंशन देने से भी इनकार कर दिया था।

इसके बाद, हाई कोर्ट ने पाया कि 2013 से 2014 के बीच, दिल्ली नगर निगम के उत्तरी और दक्षिणी शाखाओं ने भी वृद्धावस्था पेंशन देना बंद कर दिया था। अदालत ने पाया कि 184,000 लाभार्थी - ईजीएमसी में 30,816, दक्षिण डीएमसी में 72,856 और उत्तर डीएमसी में लगभग 80,000 - इससे वंचित हैं।

दोषी कौन?

2013 तक, दिल्ली में तीन नगर निगम थे-नई दिल्ली नगर निगम, दिल्ली नगर निगम और दिल्ली छावनी बोर्ड। 2013 में दिल्ली नगर निगम के विभाजन के बाद से, दिल्ली में पांच नगर निगम हैं, जिनमें से तीन - उत्तर, पूर्व और दक्षिण - ने पेंशन का भुगतान करना बंद कर दिया है, जैसा कि हमने पहले उल्लेख किया है। उस समय, और वर्तमान में भी, तीनों निगम भाजपा के पास हैं। दिल्ली सरकार, इस दौरान, आप के नेतृत्व में रही है।

तत्कालीन कांग्रेस के नेतृत्व वाली राज्य सरकार द्वारा निष्पादित एमसीडी के विभाजन के बाद पेंशन समाप्त हो गई,जैसा कि हमने बताया है। हाई कोर्ट के जवाब में निगमों ने कहा कि इस विभाजन के कारण वित्तीय कमी आई। निगमों ने यह भी दावा किया कि दिल्ली सरकार ने 2013 से 2015 के बीच निगमों के लिए अपने बजटीय अनुदान को 1,881.3 करोड़ रुपये से घटाकर 1581.1 करोड़ रुपये कर दिया, जिससे इसके संसाधनों में और कमी आई।

कटौती के बावजूद, प्रत्येक निगम अपने महापौरों और उच्च-रैंकिंग अधिकारियों को भत्ते प्रदान करता रहा, उत्तर निगम में एक अधिकारी, जो नाम नहीं बताना चाहते थे, कहा कि दिल्ली सरकार ने बदले में, निगमों पर वित्तीय कुप्रबंधन और करों की कम वसूली का आरोप लगाया है।

केंद्रीय करों में दिल्ली सरकार की हिस्सेदारी 2001-2002 के बाद से बनी हुई है, हालांकि, उसी समय के दौरान उनके बजट में 500 फीसदी की वृद्धि हुई है, जैसा कि इंडिया टुडे की रिपोर्ट में बताया गया है। 2019-20 के अंतरिम बजट से, दिल्ली सरकार ने कथित तौर पर स्थानीय निकायों के लिए 1,000 करोड़ रुपये मांगे थे, लेकिन ऐसा कोई आवंटन नहीं किया गया था।

2016 में, उच्च न्यायालय ने निगमों को चार सप्ताह के भीतर राज्य सरकार को पेंशन लाभार्थियों की अपनी सूची प्रदान करने का निर्देश दिया। इन लाभार्थियों को राज्य सरकार के सामाजिक कल्याण विभाग (डीएसडब्ल्यू) द्वारा ओल्ड एज पेंशन स्कीम (लोकप्रिय रूप से वृद्धावस्था पेंशन के रूप में जाना जाता है) द्वारा उनकी फाइनैन्शल असिस्टन्स स्कीम्स (एफएएस) के तहत सहायता दी जाएगी।

निगमों ने अनुपालन नहीं किया और सामाजिक न्यायविद् ने मार्च 2016 में एक अवमानना ​​याचिका दायर की। सूचियां आखिरकार प्रदान की गईं, तो डीएसडब्ल्यू ने ‘जानकारी ज्यादातर आकस्मिक रूप में है’ बताते हुए उन्हें अविश्वसनीय कहा।

2016 में 530,000 पेंशन के भुगतान के साथ, दिल्ली सरकार गरीब और बुजुर्ग नागरिकों की संख्या का समर्थन कर सकती है। पहले की सीमा 430,000 थी और राज्य पहले से ही 384,585 का भुगतान कर रहा था, जब हाई कोर्ट ने 184,00 पूर्व-निगम लाभार्थियों को जोड़ने का आदेश दिया था। दिल्ली सरकार ने तब ऊपरी कैप में 100,000 की बढ़ोतरी की थी।

राज्य विधवाओं और विकलांगों से पेंशन के आवेदनों को कम नहीं कर सकता है-उनके आवेदनों को एक रोलिंग के आधार पर संसाधित किया जाना है और किसी भी कैप के अधीन नहीं हैं।

पूर्व लाभार्थियों के 8-11 फीसदी से अधिक को भुगतान नहीं किया जा रहा

दिसंबर 2016 में, दिल्ली हाई कोर्ट ने राज्य सरकार द्वारा पेंशन लेने की प्रक्रिया को निर्धारित किया: पूर्व लाभार्थियों के सत्यापन के लिए निगम डीएसडब्ल्यू के साथ उनके वार्डों में शिविर आयोजित करना था। यह प्रक्रिया छह महीने या जून 2017 तक पूरी होनी थी। लेकिन कैंप सितंबर 2018 के अंत तक आयोजित किए गए थे।

अग्रवाल ने कहा, "मैं मामले की गति से निराश था और इसे छोड़ने का फैसला किया।" अवमानना ​​मामले को अप्रैल 2018 में बंद कर दिया गया था।

2017 की तीसरी तिमाही तक, डीएसडब्ल्यू द्वारा केवल 8,454 पूर्व-निगम लाभार्थियों को भुगतान किया जा रहा था।

आज नंबर क्या हैं?

फरवरी 2019 में एफएएस के डिप्टी डायरेक्टर राजीव सक्सेना ने कहा, "वे लगभग 15,000-20,000 के आसपास हो सकते हैं, लेकिन यह एक अनुमानित आंकड़ा है।"

कल्याण अधिकारी राहुल दीक्षित ने कहा, "वास्तव में यह प्रक्रिया जारी है। जब तक यह पूरा नहीं होता, हम कुछ भी नहीं कह सकते।"

भुगतान की प्रतीक्षा कर रहे 8-11 फीसदी लोगों के लिए आंकड़ा 15,000-20,000 है।

मार्च 2019 में, डीएसडब्लू 2016 में 384,585 की तुलना में 442,838 वृद्ध लाभार्थियों का भुगतान कर रहा था, यह दर्शाता है कि तीन वर्षों में 60,000 से कम लाभार्थी जोड़े गए। इस आंकड़े में नए और पहले से नामांकित पेंशनभोगी (और मरने वाले लाभार्थियों के लिए समायोजन) भी शामिल होंगे।

पूर्व निगम लाभार्थियों के सत्यापन और नामांकन की इस प्रक्रिया में, एक जनसांख्यिकी, जिसमें सीमित गतिशीलता होगी और संसाधनों को भौतिक रूप से प्रकट होने या भत्ते से इनकार करने के लिए कहा गया था।

वृद्धावस्था पेंशन आवेदन दिल्ली की डोरस्टेप डिलीवरी सेवाओं द्वारा कवर किए गए लगभग 70 सेवाओं में शामिल नहीं हैं, जो 50 रुपये के शुल्क पर उपलब्ध हैं। पिछले पांच महीनों में, विकलांगता और विधवा पेंशन अनुप्रयोगों को भी डोरस्टेप डिलीवरी से बाहर रखा गया है, जैसा कि एक ऑपरेटर ने इंडियास्पेंड को सूचित किया है।

‘ऑनलाइन में लूट मची है...’

फरवरी 2019 की सुबह, सदर विधानसभा क्षेत्र से 14 बुजुर्ग महिलाओं और पुरुषों के एक समूह ने सामाजिक कार्यकर्ताओं और वरिष्ठ नागरिकों, हवा सिंह और मुरारी लाल के साथ, समाज कल्याण के लिए दिल्ली के मंत्री राजेंद्र पाल गौतम से शिकायत की।

सबसे आम शिकायत यह थी कि उनमें से कोई भी पेंशन रोल पर सूचीबद्ध नहीं था, हालांकि उन्होंने दिसंबर 2018 में स्थानीय विधायक सोमदत्त शर्मा को आवेदन जमा किया था।

विशेष ड्यूटी पर मंत्री के अधिकारी विशाल वर्मा ने कहा,"नए एप्लिकेशन बंद हैं क्योंकि हमारे पास बजट नहीं है। वैसे भी आदर्श आचार संहिता जल्द ही शुरू हो जाएगी, इसलिए हम (सामान्य) चुनावों के बाद शुरु करेंगे।"

विधायक एक घंटे बाद पहुंचे। उन्होंने कहा, "वृद्धावस्था पेंशन असीमित नहीं है, ये समझ लो" । हवा सिंह (एचएस) ने ऑनलाइन आवेदन खोले जाने का अनुरोध किया था, लेकिन मंत्री (आरपीजी) ने तर्क दिया कि कोटा के आकार को देखते हुए,दावेदार दावों को फ़िल्टर करना, कर्मचारियों के लिए मुश्किल है।

यहां देखें कि बातचीत कैसे सामने आई:

एचएस: ऑनलाइन कर लिजिये।

आरपीजी: ऑनलाइन में लूट मची है।

एचएस: चेक करो कौन हकदार है कौन नहीं?

आरपीजी: कौन चेक करेगा इतने, 5.3 लाख का कोटा है। जो पहले आयेगा, उसे मिलेगा। जो बाद में आएगा, वो वेटिंग में जाएगा

लाल फीताशाही में फंसी योजना

जब इंडियास्पेंड ने मार्च 2019 में, सत्यापन केंद्रों में से एक, गुलाबी बाग में जिला समाज कल्याण कार्यालय (डीएसडब्ल्यूओ नार्थ) का दौरा किया, तो कर्मचारियों की कमी स्पष्ट थी: तीन डाटा-एंट्री ऑपरेटर और एक कल्याण अधिकारी थे, सभी कॉंट्रैक्ट पर थे। अधीक्षक का पद खाली था। कल्याण अधिकारी इंदु सेहरावत खराब इंटरनेट स्पीड से जूझ रही थीं।

एप्लिकेशन मोड भी अक्सर बदलते रहे हैं। 2017 से पहले, जिला समाज कल्याण अधिकारियों के कार्यालय में हार्ड कॉपी द्वारा आवेदन किए गए थे। फरवरी-मार्च 2017 में, प्रक्रिया ऑनलाइन हो गई और दिल्ली सरकार के ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल के माध्यम से पूरी की जा सकती है। 2018 नवंबर-दिसंबर चक्र के लिए नियम फिर से बदल गए। ऑनलाइन आवेदन केवल एक विधायक के माध्यम से किए जा सकते हैं, और प्रत्येक विधायक 500 आवेदन संभाल सकता है।

एक दिसंबर, 2018 को मल्टी प्वाइंट ऑनलाइन एप्लीकेशन के खिलाफ आया नगर पालिका पार्षद वेद पाल द्वारा दिल्ली उच्च न्यायालय में दायर रिट याचिका ने ऑनलाइन आवेदनों के लिए मार्ग फिर से खोल दिया है। मई 2019 तक, आम चुनावों के कारण आवेदनों का कोई काम नहीं किया जा रहा था, जैसा कि सहरावत ने इंडियास्पेंड को बताया।

जिला कार्यालय (उत्तर) में जिला समाज कल्याण अधिकारी, पी. आनंद राव ने बताया, "विधायक सूचना (आवेदनों के बारे में) देते हैं या फिर हम समाचार पत्रों के माध्यम से भी जानकारी पाते हैं।"

घरेलू कामगार 65 वर्षीय लीला देवी और उनके पति 60 वर्षीय विजय पाल की इस जानकारी तक कोई पहुंच नहीं है। विजय पाल का स्वास्थ्य गिरता जा रहा है और लीला की आमदनी अब बढ़ते स्वास्थ्य बिलों को कवर नहीं कर सकती है; और फिर उत्तरी दिल्ली के इंदिरा विकास कॉलोनी में उनकी झोंपड़ी के लिए 2,000 रुपये का भुगतान किया जाना है।

लीला ने कहा, "हमें कभी नहीं पता चला कि आवेदन कब खुले और किससे संपर्क किया जाए।" अभी के लिए, दंपति उत्तर प्रदेश में हैं, जहां वे रिश्तेदारों के साथ रहेंगे। उन्होंने कहा, 'अगर हमें हमारी पेंशन मिल जाती है, तो ही हम दिल्ली लौट सकते हैं।'

(नागपाल एक स्वतंत्र मल्टीमीडिया पत्रकार हैं और दिल्ली में रहती हैं।)

यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 19 जून, 2019 को IndiaSpend.com पर प्रकाशित हुआ है।

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं।