जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए तटीय ओडिशा में महिलाओं ने उठाए नए कदम

( ओडिशा के बाढ़ग्रस्त तटीय जिले भद्रक में, 11 ग्राम पंचायतों में महिलाओं ने बाढ़ या सूखे जैसी आपदा के बाद उन समस्याओं से लड़ने के लिए समूह का गठन किया है, जो जलवायु परिवर्तन के कारण लगातार और तीव्र होते जा रहे हैं। )    भद्रक, ओडिशा: दयानमंती बिस्वाल झोपड़ी मिट्टी की है और … Continued

“स्वास्थ्य पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को समझना आसान नहीं है…”

  न्यूयॉर्क: एक पोलिश शहर, कटोविस में ( जिसकी अर्थव्यवस्था हमेशा कोयले के उत्पादन पर टिकी हुई है )  दुनिया के नेताओं ने पिछले महीने बैठकर 2015 के पेरिस समझौते के साथ आगे बढ़ने की रूपरेखा पर काम किया, जिसका उद्देश्य, ग्लोबल वार्मिंग को 2 डिग्री सेल्सियस तक नीचे रखना है।    वे नेता, जो … Continued

बेंगलुरु के कन्नड़-माध्यम स्कूल में बंगाली भाषी छात्रों की जुबानी, ओझल होते द्वीपों से जलवायु-परिवर्तन शरणार्थियों की कहानी

  बेंगलुरु (कर्नाटक) और मौसुनी (पश्चिम बंगाल): दो साल पहले, जब 43 वर्षीय थियेटर निर्देशक निमी रवींद्रन को एक पब्लिक स्कूल में छात्रों को नाटक सिखाने के लिए अनुदान मिला था तो उन्हें लगा था कि उन बच्चों से संवाद के लिए स्थानीय भाषा कन्नड़ होगी। लेकिन उन्होंने पाया कि बेंगलुरु के मारथाहल्ली इलाके में … Continued