उत्तराखंड वन विभाग ने डब्ल्यूडब्ल्यूएफ के सहयोग से गिद्धों की तीन प्रजातियों पर सैटेलाइट टैग लगाए हैं। टैग से प्राप्त आवाजाही और प्रजनन स्थल का डेटा राज्य में इनके संरक्षण में मददगार साबित होगा। संरक्षण के प्रयास के बावजूद देश में गिद्धों की तीन प्रजातियां- सफेद दुम वाले, भारतीय और पतली चोंच वाले गिद्ध अब भी विलुप्ति की कगार पर हैं। विशेषज्ञ निमेसुलाइड समेत पशु चिकित्सा में इस्तेमाल होने वाली एनएसएआईडी श्रृंखला की अन्य दवाएं, जो गिद्धों के लिए विषाक्त हैं, उनका परीक्षण कर प्रतिबंधित करने की मांग कर रहे हैं।