कई विशेषज्ञ मानते हैं कि बढ़ती आग के लिए ज़िम्मेदार ठहराए जाने वाले चीड़ के वनों ने हिमालय की हरियाली को सहेजा हुआ है।