भारत के सरकारी कार्यक्रमों को ग्रामीण क्षेत्रों में जल प्रबंधन के लिए अवैतनिक, अंशकालिक स्वयंसेवकों के बजाय भुगतान वाली नौकरियों (Payroll) के लिए श्रम बल को कुशल बनाने पर ध्यान देना चाहिए।