सामाजिक सेक्टर

मध्य प्रदेश का आदिवासी गाँव जो अपनी ज़मीन की लड़ाई और उसके रखरखाव की प्रेरणा देता है
सामाजिक सेक्टर

मध्य प्रदेश का आदिवासी गाँव जो अपनी ज़मीन की लड़ाई और उसके रखरखाव की प्रेरणा देता है

फुलर गांव ने वन अधिकार अधिनियम के तहत लामबंद होकर, 200 हेक्टेयर भूमि अपने निवासियों को दिलाई है और फिर श्रमदान के जरिए उस भूमि को उपजाऊ भी बनाया।

Workers Seek Timely Payments, More Workdays Under Rural Jobs Scheme
शासन

समय पर भुगतान और काम के ज़्यादा दिन, यही है मनरेगा के मजदूरों की मांग

2020 में लॉकडाउन के बाद मनरेगा के तहत काम मांगने वालों की संख्या बढ़ गई। इसके बावजूद, 2021 के बजट में लिए सरकार ने मनरेगा के लिए कम धन आवंटित किया।...